एविएशन सेक्टर में सुधर रहे हालात, इंडिगो जल्द ही में पूरी क्षमता से भरेगी उड़ान

इंडिगो के सीईओ रोनोजॉय दत्ता का कहना है कि एयरलाइन का वर्तमान लोड फैक्टर करीब 70% है और आने वाले महीनों में कैपेसिटी बढ़ने की संभावना है.

  • Money9 Hindi
  • Updated On - September 10, 2021 / 05:52 PM IST
एविएशन सेक्टर में सुधर रहे हालात, इंडिगो जल्द ही में पूरी क्षमता से भरेगी उड़ान
बढ़ते एयर ट्रैफिक को ध्यान में रखते हुए इंडिगो तेजी के साथ आगे बढ़ना चाहती है.

Indigo Flight Plan: बजट-एयरलाइन कंपनी इंडिगो घरेलू स्तर पर पूरी क्षमता से फ्लाइट चलाने का लक्ष्य बना रही है. एयरलाइन के CEO रोनोजॉय दत्ता ने शुक्रवार को बताया कि इंडिगो का वर्तमान लोड फैक्टर लगभग 70% है और आने वाले महीनों में कैपेसिटी बढ़ने की संभावना है. उन्होंने बताया, “चीजें धीरे-धीरे सुधर रही हैं. ट्रैफिक बढ़ रहा है और ऐसे माहौल में तेजी के साथ आगे बढ़ने में ही समझदारी है.”

एयरलाइन अंतरराष्ट्रीय मार्गों में सिर्फ दो-तिहाई से अधिक को लक्षित कर रही है क्योंकि वायरस महामारी का प्रभाव कम हो रहा है और अधिक लोग हवाई यात्रा करने लगे हैं.

अगस्त में नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने घरेलू एयरलाइंस को उड़ान क्षमता 72.5% तक बढ़ाने की अनुमति दी थी, जो जुलाई में 65% थी. हालांकि, अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर बढ़ा हुआ प्रतिबंध 30 सितंबर तक जारी है.

यहां तक कि मौजूदा नकदी स्तर “बहुत अच्छा” था, दत्ता ने कहा कि इंडिगो एक संभावित कोविड तीसरी लहर के खिलाफ बीमा बफर के रूप में धन जुटाना चाहती थी.

इंटरग्लोब एविएशन द्वारा संचालित इंडिगो ने 30 जून, 2021 को समाप्त तिमाही में 3,174 करोड़ रूपये का कंसोलिडेटेड शुद्ध घाटा दर्ज किया था, जबकि एक साल पहले की अवधि में यह 2,844 करोड़ रुपये था. जब से महामारी ने वैश्विक यात्रा को लगभग रोक दिया है और दुनिया भर में एयरलाइनों को पस्त किया हैं तब से इंडिगो का नुकसान जारी हैं. इंडिगो ने पिछले साल रिकवरी के संकेत दिखाना शुरु ही किया था, लेकिन नए सिरे से यात्रा प्रतिबंधों के कारण उड्डयन क्षेत्र पर नेगेटिव इंपेक्ट पडा था.

टिकट किराए में पर्याप्त वृद्धि और अन्य बातों के कारण लोगों ने हवाई यात्रा का विकल्प पसंद करना कम कर दिया हैं, इसलिए 28 अगस्त को समाप्त सप्ताह के दौरान हवाई यात्री यातायात में क्रमिक रूप से गिरावट आई है. अगस्त की शुरुआत में जब हवाई किराए पर नए सिरे से घोषणा की जानी बाकी थी तब हवाई यात्री यातायात में तेजी से वृद्धि हुई थी.

हालांकि, भारत में जुलाई की तुलना में त्योहारी सीजन से पहले अगस्त के दौरान हवाई यात्रा बुकिंग ने गति पकड़ी हैं, जिससे महामारी से प्रभावित क्षेत्र के लिए पूर्ण पुनरुद्धार की उम्मीद जताई जा रही हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष