Monetary Policy: क्‍या लंबे समय के लिए होगी कारगर?

Monetary Policy: एमपीसी ने पॉलिसी रेटस को अनचेंज्‍ड रखने का फैसला लिया है. ये एक ऐसा निर्णय है जिसकी काफी हद तक उम्मीद थी.

Monetary Policy: क्‍या लंबे समय के लिए होगी कारगर?
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि National Monetisation Plan के तहत दी जा रही संपत्ति सरकार के स्वामित्व में ही होगी.

मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (Monetary Policy Committee) के लिबरल स्‍टेंस के बारे में बहुत सारी बातें हुई हैं. कई लोगों ने संकेत के रूप में थोड़ा अधिक इन्फ्लेशन की ओर इशारा किया है कि शायद यह ब्याज दरों में बढ़ोतरी का समय है. इनमें कई पिंक-पेपर जर्नलिस्‍ट, विशेषज्ञ (उनमें से कुछ शायद अच्‍छे विचारों वाले) और अन्य कमनटेटर्स शामिल हैं.

वहीं इस डिस्‍कोर्स में अमेरिका या यूके में संबंधित केंद्रीय बैंकों ने भी इस बात पर लगातार जोर दिया है कि महंगाई की तेजी अस्थायी होने की संभावना है. इसके चलते इस समय विकास को बहाल करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए. पिछले कुछ महीनों में आरबीआई ने जो कहा है, उसका समरी यही है.

एमपीसी ने पॉलिसी रेटस को अनचेंज्‍ड रखने का फैसला लिया है. ये एक ऐसा निर्णय है जिसकी काफी हद तक उम्मीद थी. कोरोना की दूसरी लहर ने विकास में सुधार की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया, जिससे विकास को समर्थन देने की जरूरत पड़ी. एमपीसी अगर अनिवार्य रूप से दरों में वृद्धि करता है जब महंगाई लक्ष्य से परे होती है. वहीं जब महंगाई अपने टार्गेट से कम होती है तो उन्हें कटौती करती है. हालांकि, एमपीसी विकास के उद्देश्य पर भी विचार करता है और एक सही मॉनेटरी पॉलिसी हस्तक्षेप का निर्धारण करते समय इसे देखता है. संभावित वृद्धि से कम का मतलब है कि कम ब्याज दर.

महंगाई में कमी आने की उम्‍मीद

तथ्य यह है कि विकास दर अपनी क्षमता से काफी नीचे है, इसका मतलब है कि आरबीआई दरों को कम रखेगा, भले ही महंगाई लक्ष्य से ऊपर हो. यह एक सही निर्णय है क्योंकि मुद्रास्फीति का एक प्रमुख फैक्‍टर मौसमी वजहों और पिछले कुछ महीनों में कमोडिटी की कीमतों में तेजी के साथ महामारी प्रेरित लगता है. ये दबाव समय के साथ कम हो जाएंगे और यही कारण है कि आरबीआई को उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में महंगाई में कमी आएगी. चूंकि आपूर्ति की बाधाएं कम हो जाती हैं. ऐसे में मुद्रास्फीति 2-6% की स्‍तर पर वापस आ सकती है और आने वाले कुछ वर्षों में यह 3-4 प्रतिशत के करीब हो सकती है.

दरों में मामूली वृद्धि हो सकती है

यहां एक प्रस्ताव है, हम शायद ऐसी स्थिति में हो सकते हैं जहां साल 2022 के अंत में कभी-कभी मामूली दरों में वृद्धि हो सकती है, लेकिन हम अभी भी ऐसी स्थिति में हो सकते हैं जहां ब्याज दरें कम बनी रह सकती हैं वह भी बहुत अधिक समय तक. यानी आने वाले कुछ वर्षों में रेपो रेट कभी भी 5 के स्‍तर को नहीं छू सकता है, जब तक महंगाई लक्ष्य के भीतर अच्छी तरह से बनी रहती है.

इस आंकलन के पीछे का कारण यह है कि एक रियल सिनेरियो है, जिससे दुनिया में ग्‍लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के बाद की तरह महामारी के बाद के वर्षों में कमजोर विकास के कारण एक डिफलेशनरी इंपल्‍स देखा जा सकता है. इसलिए महंगाई लक्ष्य से परे हाई इंफलेशन के किसी भी जोखिम के अभाव में, दरों में बढ़ोतरी के लिए बहुत कम स्पष्टीकरण हो सकता है. अमेरिका ने पूर्व-महामारी के वर्षों में इसका अनुभव किया जब महंगाई लक्ष्य से काफी नीचे होने के बावजूद दरों को कम रखा गया था.

ब्याज दरें लंबे समय तक कम रहेंगी, यह कोई नई बात नहीं है क्योंकि ब्याज दरों पर लंबी अवधि के आंकड़ों से पता चलता है कि दुनिया भर में ब्याज दरों और पूंजी की लागत में कई दशकों में कमी आई है. हालांकि, कम महंगाई, कम ब्याज दर वाले फाइनेंशियल सिनेरियो में प्रवेश करने की संभावनाओं का हम सभी पर प्रभाव पड़ेगा. पहली यह मान्यता है कि अंततः यह वास्तविक ब्याज दरें हैं जो मायने रखती हैं. इस प्रकार, हम अपनी पूंजी की क्रय शक्ति को संरक्षित करने में रुचि रखते हैं और जब तक हम ऐसा करने में सक्षम होते हैं, हम भविष्य में बेहतर होते हैं. इसलिए, कुछ बिंदु पर, वास्तविक ब्याज दरें सकारात्मक हो जाएंगी.

समय के साथ कम होगा रिटर्न

दूसरा यह है कि समय के साथ रिटर्न कम होना शुरू हो जाएगा, और इससे कई लोग हाई इंटरेस्‍ट की तलाश में जोखिम भरी संपत्ति की ओर रुख कर सकते हैं. आखिरकार, लोग वित्तीय बचत, सोने और इक्विटी के पोर्टफोलियो के रूप में अपनी बचत में डायवर्सिटी लाना शुरू कर देंगे. कुछ लोग अपने पोर्टफोलियो में म्यूचुअल फंड और बॉन्ड खरीद सकते हैं. अंतत: हम एसआईपी में वृद्धि और वित्तीय उत्पादों तक पहुंच को बढते हुए देखेंगे. इसका एक हिस्सा विकास प्रक्रिया का परिणाम होगा, जबकि इसका कुछ हिस्सा परिवारों द्वारा अधिक रिटर्न की तलाश से शुरू होगा.

कॉम्‍प्‍लेक्‍स फाइनेंशियल इंस्‍टूमेंट तक गहरी पहुंच के लिए सही चीजों की पहचान करने के लिए जरूरी कौशल हासिल करने की जरूरत होगी. इसके अलावा, निवेशकों को प्रत्येक साधन से जुड़े जोखिमों को बेहतर ढंग से निर्धारित करने में सक्षम होने के लिए पर्याप्त जानकारी की भी जरूरत होगी. इसलिए, हमें फाइनेंशियल मार्केट से संबंधित शार्ट कोर्स की अधिक मांग देखनी चाहिए.

हालांकि, ब्याज दरें अधिक समय तक स्थिर रह सकती हैं. यह रिटर्न देना चुनौतीपूर्ण बना देगा और इससे कई जोखिम भरे दांव भी लग सकते हैं जो वित्तीय संस्थानों और सामान्य रूप से व्यापक बाजार के लिए इंप्‍लीकेशन हो सकते हैं.

इसलिए, जैसे-जैसे भारत एक लो रेट सिस्‍टम में चेंज हो रहा है, हमारे मॉनीटरिंग सिस्‍टम को मजबूत करने की भी जरूरत है. व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण फर्मों द्वारा अत्यधिक जोखिम को रोकने के सिनेरियो से ऐसे सिस्‍टम महत्वपूर्ण हैं. जबकि हमें फाइनेंशियल सेक्‍टर में अत्यधिक रेगुलेशन को कम करने की जरूरत है. हमें आरबीआई के मॉनीटरिंग सिस्‍टम का विस्तार करके इसकी प्रशंसा करनी होगी.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष