जानिए क्‍या होता है वेल्‍थ क्रिएशन, ये 5 फैक्‍टर कर सकते हैं आपकी मदद

दिए गए पांच फैक्टर आपकी वेल्थ क्रिएशन की यात्रा को आसान बना सकते है. आईये एक-एक कर के इन पांच फैक्टर को समझने का प्रयास करते है.

  • Viral Bhatt
  • Publish Date - September 27, 2021 / 09:26 AM IST
जानिए क्‍या होता है वेल्‍थ क्रिएशन, ये 5 फैक्‍टर कर सकते हैं आपकी मदद
समाधान की दरें और उत्पादों को भी बढ़ावा देने से पहले हैं फिर भी हमारी निवेश शक्ति के अनुसार नहीं है

इनेंशियल फ्री होने और एक अच्छी वेल्थ क्रिएट (wealth creation) करने के बारे में बहुत कुछ कहा और किया जाता है. ज्यादातर लोग एक अच्छी वेल्थ क्रिएट करने का प्रयास करते हैं. वहीं कई लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने इस प्रक्रिया में काम करना बंद कर दिया है और कई लोग आज भी वेल्थ क्रिएट करने के प्रयासों में लगे हुए हैं, तो वास्तव में यह वेल्थ क्रिएशन क्या होता है? आईए आपको बताते हैं.

– वेल्थ क्रिएशन (wealth creation) कुछ और नहीं बल्कि एक एक्सटेंडेड अवधि में संपत्ति बनाने वाली कमाई इकट्ठा करने का एक दृष्टिकोण है.
– विकिपीडिया के मुताबिक आपकी वेल्थ इंडीकेट करती है कि आपके पास बहुत अधिक मूल्यवान वस्तु हैं जो आपको फाइनेंशियल मजबूत बनाती है.

वेल्थ क्रिएट करना क्यों जरूरी है?

इसका बेहद आसान सा जवाब है कि हम सभी को लॉन्ग टर्म में अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए धन बनाने कि जरूरत होती है. यह जरूरतें कई प्रकार कि हो सकती हैं जैसे- रिटायरमेंट के बाद एक आरामदायक जीवन बिताने के लिए धन का होना, बच्चो की पढ़ाई या शादी के लिए धन का होना, हेल्थ इमरजेंसी के लिए धन का होना, अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं के लिए घर जाना या खरीदने आदि कई प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए धन की जरूरत होती है. अब सवाल आता है कि लॉन्ग टर्म के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए किस प्रकार से वेल्थ क्रिएटिंग कांसेप्ट पर काम करना चाहिए.

अर्न फर्स्‍ट- अच्छी वेल्थ क्रिएट करने की दिशा में पहला कदम पैसा कमाना होता है. उसके बाद इस दिशा में दूसरा कदम होता है आपका कंसरवेटिव होना क्योंकि आप बिना सेविंग्स के वेल्थ क्रिएट नहीं कर सकते भले ही आपकी इनकम कितनी भी क्यों न हो. साथ ही वेल्थ क्रिएट करने के लिए हमें अपने मौजूदा खर्चो को कम करने की आवश्यकता होती है, जिससे भविष्य के लिए एक बैकअप को तैयार किया जा सके.

उपरोक्त पिरामिड हमें वेल्थ क्रिएट से जुड़े कार्यों को पहचानने में सहायता करता है

– किसी भी व्यक्ति को अपने मौजूदा नेटवर्क और अपने मौद्रिक उद्देश्यों के बारे में पता होना चाहिए. यह जानकारी हमारे वेल्थ क्रिएशन के कार्य को आसान बनती है.
– अपने ऊपर चल रहे किसी भी प्रकार के फाइनेंशियल डेट को खत्म करना व्यक्ति का पहला लक्ष्य होना चाहिए, क्योंकि बिना इसके आप जब तक अपनी जिम्मेदारियों को स्पष्ट नहीं करेंगे, तब तक आप अपनी क्षमताओं का पूरा इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.

– इतना सब करने के बाद ही वेल्थ क्रिएट करने की वास्तविक यात्रा शुरू होती है. इस प्रकार हम मौद्रिक बाजारों के संबंध में और भी अधिक विवरण जमा कर पाएंगे, रिटर्न को अनुकूलित करने के लिए हमारे स्रोतों का सही उपयोग होगा. जिससे वेल्थ क्रिएट करने में सहायता होगी.

– साथ ही अंत में तर्कसंगत और व्यावहारिक गतिविधियों का उपयोग करके हम वेल्थ क्रिएट कर सकते हैं जैसे- संसाधनों के विघटन के बिना विकल्प पैदा करने वाली उच्च कमाई खरीदना, प्रोफ़ाइल को स्थिर करना साथ ही साथ समय-समय पर इसे फिर से री-बैलेंस करना.

हालांकि यह सब कुछ आसान लगता है, पर वास्तव में ऐसा नहीं है. निवेश के सही रास्ते चुनना, निवेश करना, इसमें लंबे समय तक लगातार समय-समय पर पोर्टफोलियो को संतुलित करना आदि यह सब देखने में बहुत ही आसान लगता है, लेकिन वास्तव में यह एक बहुत कठिन प्रक्रिया है. हालांकि दिए गए पांच फैक्टर आपकी वेल्थ क्रिएशन की यात्रा को आसान बना सकते है. आईये एक-एक कर के इन पांच फैक्टर को समझने का प्रयास करते है.

फैक्टर 1: कमाई की अनिश्चितता

एक सरकारी कर्मचारी, जिसे नौकरी बदलने, छंटनी की अनिश्चितताओं का सामना करने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है. ये कर्मचारी छंटनी या अनिवार्य सेवानिवृत्ति तक अपने पद का आनंद लेते हैं, लेकिन ऐसे कर्मचारियों की संख्‍या कम है.
मुट्ठी भर लोग ही भारतीय सरकारी नौकरी का आनंद लेते हैं जबकि अन्य निजी क्षेत्र में हैं जहां एक कंपनी में रोजगार की गारंटी नहीं है. निवेशकों का एक और वर्ग है जो हैं व्यवसायियों या पेशेवरों की तरह स्वरोजगार. इनपर चक्रीय या अनिश्चित कमाई का डर हमेशा उन पर मंडराता है. कुछ लोग भाग्यशाली हो सकते हैं, जिन्‍होंने जीवन भर अपने लिए कमाई की. आर्थिक स्थिति, राजनीतिक मामलों की स्थिति, उद्योग परिदृश्य और वैश्विक बाजार कुछ ऐसे कारण हैं जो इसे प्रभावित करते हैं और नियमित आय प्रवाह की निश्चितता नहीं मिलती.

फैक्टर 2: निवेशक के पास पसंदीदा राशि जोड़ने की क्षमता नहीं

वित्तीय निवेश अवधि के दौरान हर महीने जैसे-जैसे हम अपनी लागतों का विस्तार करते हैं और हमारे साथ खर्चे भी बढ़ते जाते हैं. व्यक्ति वर्तमान में विलासिता के लिए जाते हैं. घर, विशाल ऑटोमोबाइल, हाई-फाई मोबाइल के साथ-साथ गिज़्मोस, खपत, अंतर्राष्ट्रीय यात्राएं और इतने पर और इन व्ययों को पूरा करने के लिए उनके वित्तीय निवेश को नुकसान पहुंचाते हैं या नहीं हो सकते हैं, जितना आवश्यक हो उतना संरक्षित करने में सक्षम. एक और बड़ा कारक यह है कि जीवन की बढ़ती लागत हम सभी को प्रभावित करती है. समाधान की दरें और उत्पादों को भी बढ़ावा देने से पहले हैं फिर भी हमारी निवेश शक्ति के अनुसार नहीं है.

वहीं रहने की कीमत की बढ़ती लागत को बढ़ाना, इस कारण से इस तथ्य के बावजूद कि रहने की बढ़ती लागत हमें लगातार खर्च करने में सक्षम नहीं कर सकती है.

फैक्टर 3: निवेश में समझ का अभाव

हममें से कुछ बेहद शत्रुतापूर्ण हो सकते हैं और हम में से कुछ पारंपरिक भी हो सकते हैं जब यह वित्तीय निवेश के लिए संपत्ति पाठ्यक्रम चुनने की बात आती है. इसके अलावा, हमारे रिटर्न को बढ़ाने के लिए वित्तीय निवेश कारों की दिशा में व्यक्तिगत आकर्षण हमें यथोचित प्रयास करना चाहिए. समझें कि हमें सबसे अच्छा क्या लगता है. ये गलत वित्तीय निवेश कभी भी उत्पादन नहीं कर सकते, इनमें उत्कृष्ट रिटर्न के साथ-साथ धन निर्माण प्रक्रिया पर नकारात्मक परिणाम होता है.

फैक्टर 4: वित्‍तीय निवेश की अवधि

मूल बात यह है कि हम पूरे समय में अपने वित्त पोषण में शामिल नकद प्राप्ति देख सकते हैं. वित्तीय निवेश की अवधि हालांकि रिटर्न कम है. स्टॉक की आंतरिक प्रकृति के कारण बाजारों में, बाजार की अस्थिरता निश्चित रूप से हमारे वित्तीय निवेशों को कई गुना बढ़ा देगी. एक रोलर रोलरकोस्टर यात्रा के साथ, भले ही पिछले रिटर्न अंततः यात्रा का सुझाव देते हैं. लंबी अवधि में उच्च झुकाव पर समाप्त होता है. हालांकि वारेन बफे ने कहा है कि जब दूसरे भयभीत हों तो आप लालची बनें और जब दूसरे लालची हों तो डरें. वह कहते हैं कि अगर हम इसमें निवेश करते हैं तो यह कथन हममें से अधिकांश की मदद कर सकता है
खासकर तब जब बाजार अच्छे न दिखें. लांग टर्म में रुपये कमाने के लिए भय और लोभ पर नियंत्रण बहुत जरूरी है.

फैक्टर 5: निवेशक द्वारा फंड की अंतरिम निकासी

हम खर्च करना शुरू करते हैं और यह भी देखते हैं कि हमने वास्तव में एक महत्वपूर्ण कोष का निर्माण किया है. हम अक्सर उस उद्देश्य की उपेक्षा करते हैं जिसके लिए इस कोष का निर्माण किया गया था. इसका उद्देश्य वेल्थ क्रिएट करना सटीक और स्पष्ट होना चाहिए और साथ ही इसीलिए निवेशक सलाह देता है कि आर्थिक रूप से मुक्त भविष्य के लिए महत्वाकांक्षी संरक्षण पद्धति. इस कोष को प्राप्त करने के लिए हमें चाहिए कि इस रेजिमेंट के साथ-साथ महत्वाकांक्षी लागत बचत प्रक्रिया को बाधित न करें. हालांकि अफसोस हम आमतौर पर करते हैं और उसके बाद भी हम बात बनाते हैं और अपनी बचत की अक्षमता पर भी रोते हैं.

अंतिम विचार

रुपये कमाना हमेशा से ही चुनौतीपूर्ण रहा है, लेकिन मुश्किल नहीं है. हमें पहले के कारणों को खत्म करना होगा अगर
हम रुपये कमाने में आगे हैं. हमें अपनी स्वयं की चिंता और लालच पर विजय प्राप्त करने की जरूरत है.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष