निवेशक निवेश करने को लेकर आशावान, उम्मीद करें की शेयर बाजार में तेजी लौटेगी: संजीव भसीन

नॉन बैंकिंग फाइनेस कंपनी यानी एनबीएफसी में चोलामंडलम फाइनेंस सभी को पीछे छोड़ देगा यह देखते हुए कि सेकेंड हैंड वाहनों की खरीद बिक्री काफी बढ़ गई है.

निवेशक निवेश करने को लेकर आशावान, उम्मीद करें की शेयर बाजार में तेजी लौटेगी: संजीव भसीन
कई स्थापित सेक्टरों की होल्डिंग कंपनी और ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में प्रवेश करने के कारण वर्तमान कीमतों में एनएंडटी सबसे अच्छी पसंद में से एक है

भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) में मौजूदा उतार-चढ़ाव के पीछे मुख्य कारणों में ओमीक्रॉम कोरोना का डर, मजबूत होता डॉलर, बाजार (Stock Market) के उच्च स्तर पर पहुंचने के कारण मुनाफावसूली है. ये कहना है आईआईएफएल सिक्योरिटीज के निदेशक का. मगर बजार में मुनाफावसूली अपने अंत के करीब है और आगे सुधार के संकेत कम हैं.

हाइलाइट

– भसीन का कहना है कि भारत में स्मॉल-कैप और मिड-कैप सेक्टर अच्छा प्रदर्शन करते रहेंगे, क्योंकि उन्होंने बदलते परिवेश के साथ तालमेल बैठा लिया है.
– आज-कल के आईपीओ में बेहतर रिटर्न मिलने की अवधि पहले की अपेक्षा अधिक लंबी हो सकती है.
– क्रिप्टो करेंसी में निवेश की सलाह तभी दी जाती है जब किसी पर तेज उतार-चढ़ाव का डर नहीं हो. सभी लोग रातोंरात 40 से 50 फीसदी उतार-चढ़ाव के साथ तालमेल नहीं बिठा पाते हैं.

संपादक का नोटः शेयर बाजार के जानकारों के दिग्गजों में से एक आईआईएफएल सिक्योरिटीज के निदेशक संजीव भसीन को लगता है कि हाल के सुधार के बाद बाजार में तेजी आएगी. मार्केट मेवेरिक्स नाम के विशेष सीरीज में न्यूज9 से बात करते हुए भसीन कहते हैं कि बैंक, रीयल एस्टेट, बुनियादी ढांचे, आईटी और मेटल में तेजी है और ये पैसे को कई गुना करने की क्षमता रखते है. भसीन कहते हैं कि स्मॉलकैप और मिडकैप सेक्टर का प्रदर्शन अच्छा बना रहेगा. प्रस्तुत है इंटरव्यू का संपादित अंशः

सवाल – हाल के दिनों में बाजार में तेजी से उतार-चढ़ाव जारी है. बाजार अपने शिखर को छूकर नीचे गिरा है. क्या बाजार में मंदी छा जाएगी या उसमें वापस तेजी जल्द दिखने लगेगी?

जवाब – बाजार में अस्थिरता के कुछ कारण हैं. कुछ महीनों से फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इनवेस्‍टर्स (एफआईआई) लगातार बिकवाली कर रहे हैं. मजबूत डॉलर उनके सामने जोखिम पैदा करता है, उन्हें लगता है कि यूएस फेड में टेपरिंग की आशंका है. कोविड-19 का ओमीक्रॉन वेरिएंट के डर से भी लोग मुनाफावसूली में तेजी ला सकते हैं. मगर निफ्टी के 8,000 से 18,500 तक पहुंचने के बाद ऐसा होना तय था.

हालांकि म्यूचुअल फंड में निवेश के इतिहास को देखें तो वो इन दिनों सबसे अच्छा है जिसका साफ मतलब है कि खुदरा निवेशक बाजार में लंबे समय के लिये पैसा लगा रहे हैं. हालांकि बाजार में सुधार जल्द खत्म हो सकता है. दो महीनों में करीब 40,000-50,000 करोड़ रुपये की बिकवाली दिखी है. मगर नये जमाने के फिनटेक आईपीओ में इतना ही पैसा जाता देखा गया है. कुल मिलाकर हम एक सुधार की तरफ बढ़ रहे थे, क्योंकि बाजार में ओवर वैल्यूएशन की स्थिति थी मगर अब ये अंत की तरफ है.

सवाल – इस वक्त खुदरा निवेशकों के लिए आपकी क्या सलाह होगी?

जवाब – बाजार में टाइमिंग जैसी कोई चीज नहीं होती. मैं उम्मीद करता हूं कि बाजार में तेजी आएगी और आपको सही स्टॉक में निवेश करना चाहिए चाहे वो मेटल हो, बैंक हो या बुनियादी ढांचा यानी निर्माण हो. भारत के मामले में व्यापक आर्थिक कारक बेहतर हैं जो सुधार ला रहे हैं. भारत का टीकाकरण अभियान काफी अच्छा है. लोग खर्च कर रहे हैं. हम नकारात्मक पक्ष को पीछे छोड़ कर आगे निकल गए हैं. खुदरा निवेशकों के अच्छे स्टॉक में निवेश की कोशिश से मुझे लगता है कि दिसंबर का अंत काफी अच्छा होगा.

सवाल – क्या आपको लगता है कि ओमाइक्रोन के डर से लोगों को पोर्टफोलियो में कुछ फेरबदल करने की जरूरत है? आपने कुछ ऐसे क्षेत्रों का उल्लेख किया है जो अच्छा रिटर्न दे सकते हैं. वो कौन से दूसरे सेक्टर हैं जिन पर निवेशक विचार कर सकते हैं?

जवाब – ओमाइक्रोन का डर लोगों में जरूरत से ज्यादा लग रहा है. क्रेडिट ग्रोथ और केपेक्स को दर्शाने वाले बैंकों के शेयर की प्राइस बेहतर है और वो अच्छा मुनाफा भी कमा रहे हैं. कमजोर रुपये का कारण इनफॉर्मेशन टेकनोलॉजी हो सकता है. रीयल एस्टेट और कंस्ट्रक्शन काफी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं, चाहे वो कमर्शियल हो या रेजीडेंशियल, कीमतें बढ़ रही हैं और कंस्ट्रक्शन का काम तेजी से हो रहा है. धातु वैश्विक विकास दर्शाता है. मुझे लगता है कि ये सेक्टर बेहतर प्रदर्शन करेंगे. ये वो सेक्टर हैं जहां आपको अच्छे स्टॉक खरीदने चाहिए.

सवाल – आईटी क्षेत्र में, क्या आप लार्ज या मिड-कैप को वरीयता देंगे?

जवाब – मिडकैप आईटी ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है. माइंडट्री और परसिस्टेंट में निवेश की मैं सलाह दूंगा, उनमें आपको सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी खरीदना चाहिए. मुझे लगता है कि विप्रो और एचसीएल टेक टीसीएस के साथ लार्ज कैप में काफी बेहतर विकल्प बनने जा रहे हैं. निवेशक को इन 5-6 स्टॉक का बास्केट तैयार करना चाहिए जिनमें कुछ मिड कैप हो और कुछ लार्ज कैप या आईटी सेक्टर के म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहिए. आपको आउटसोर्सिंग थीम, आर्टिफीशिल इंटेलीजेंस यानी एआई और क्लाउड कंप्यूटिंग जैसे चार का विकल्प मिलेगा. इन सभी को मिला कर एक बेहतरीन पोर्टफोलियो बनाई जा सकती है.

सवाल – आईसीआईसीआई बैंक और एसबीआई के अच्छे नतीजों के बावजूद हाल के दिनों में इस क्षेत्र ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है. बैंकिंग क्षेत्र में आप किन जगहों पर निवेश करने की सलाह देंगे?

जवाब – बैंक ऐसा सेक्टर है जहां एफआईआई का निवेश काफी ज्यादा होता है. जब वो एकसाथ बिकवाली करते हैं तो बैंकिंग सेक्टर को तगड़ा धक्का लगता है. मगर इन दिनों आपको अच्छे राष्ट्रीयकृत और निजी बैंक के शेयर अच्छे वैल्यूएशन पर मिल रहे हैं. जैसा कि आपने कहा आईसीआईसीआई बैक के आंकड़े बाकियों से अलग थे मगर इसके स्टॉक में 15-17 फीसदी की गिरावट आई है. मैं इस स्टॉक में निवेश की सलाह दूंगा. मुझे एचडीएफसी बैंक भी पसंद है क्योंकि क्रेडिट कार्ड में भारी उछाल देखने को मिल रहा है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया आपको बाजार में एंट्री का अच्छा अवसर दे रहा है.

मिड-कैप में हमें आईडीएफसी फर्स्ट बैंक पसंद है. वोडाफोन के खुलासे के बाद इसमें थोड़ी कमजोरी देखी गई थी. अब वोडाफोन में तेजी है और ये नई ऊंचाइयों को छू रहा है. मुझे लगता है अगले 6 से 9 महीने में आईडीएफसी फर्स्ट काफी अच्छा प्रदर्शन करेगा. फेडरल बैंक आपको एक बहुत अच्छा अवसर प्रदान कर रहा है, क्योंकि उनका गोल्ड लोन पोर्टफोलियो केरल में काफी बेहतर है. पीएसयू बैंक बास्केट में यूनियन बैंक और कैनरा बैंक दो अच्छे विकल्प हैं. इन शेयरों को लेकर हम काफी आशान्वित हैं.

नॉन बैंकिंग फाइनेस कंपनी यानी एनबीएफसी में चोलामंडलम फाइनेंस सभी को पीछे छोड़ देगा यह देखते हुए कि सेकेंड हैंड वाहनों की खरीद बिक्री काफी बढ़ गई है.

सवाल – पीएसयू बैंक क्षेत्र में कुछ बैंकों के निजीकरण की बात चल रही है, उनकी बैलेंस शीट में काफी हद तक सुधार आ गया है. क्या छोटे पीएसयू बैंक में भी हमें दांव लगाना चाहिए?

जवाब – इनमें जोखिम अधिक होगा. ये जरूर है कि सरकार कुछ छोटी इकाइयों में विनिवेश की इच्छुक है. बैलेंस शीट बेहतर बना दी गई है. मगर उन संस्थाओं को देखना बेहतर होगा जो इन बैंकों के संभावित खरीदार होंगे. एबी कैपिटल को लेकर हम काफी सकारात्मक हैं. यह बीमा, एएमसी, एआईएफ और एबी मनी की होल्डिंग कंपनी है. बैंकिंग लाइसेंस के लिए ये योग्य उम्मीदवार हो सकते हैं. बजाज फाइनेंस फिर से बैंकिंग लाइसेंस की तलाश में है। अगर उन्हें ये पीएसयू बैंक मिलते हैं, तो वो भी बोली लगाने वाले बड़े औद्योगिक घरानों में से एक हो सकते हैं.

सवाल – आपने यह भी बताया कि रियल एस्टेट सेक्टर अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। उसी को देखते हुए क्या होम फाइनेंस कंपनियों के बारे में सोचा जा सकता है?

जवाब – हां मुझे लगता है कि एचडीएफसी एक प्रसिद्ध नाम है. एलआईसी हाउसिंग में पैसा लगाना एक अच्छा दांव है. रियल एस्टेट सेक्टर में डीएलएफ और गोदरेज प्रोपर्टीज से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है. एनएंडटी को हम औद्योगिक विकास का प्रयाय मानते हैं. हम इनके शेयर खरीदने को प्रथम वरीयता देंगे. कई स्थापित सेक्टरों की होल्डिंग कंपनी और ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में प्रवेश करने के कारण वर्तमान कीमतों में एनएंडटी सबसे अच्छी पसंद में से एक है.

सवाल – हाल के दिनों में शेयर बाजार में मिड-कैप और स्मॉल कैप का शानदार प्रदर्शन रहा है, उन पर आपके क्या विचार हैं?

जवाब – मिड-कैप और स्मॉल-कैप के पांच साल बहुत बुरे बीते, अब वो अच्छा रिटर्न दे रहे हैं और यहां पर निवेश के लिए ज्यादा पैसा है. इसिलिए खुदरा निवेशक इन स्टॉक के पीछे भागते नजर आ रहे हैं. हमें लगता है मिड-कैप के और बेहतर दिन आने वाले हैं क्योंकि उन्होंने खुद को नये वातावरण में ढाल लिया है और वक्त के साथ महसूस कर लिया है कि लोगों की जरूरतें क्या हैं, उनका कैपिटल एक्सपेंडिचर अभी शुरू ही हुआ है और कर्ज कम होने के कारण वो जल्द ही काफी अच्छा प्रदर्शन करना शुरू कर देंगे. सही पूंजी की लागत होने और कम मार्जिन पर उधार लेने के कारण वे अगले 12-18 महीनों में अपनी कमाई में फिर से तेजी ला सकते हैं.

सवाल – न्यू एज टेक आईपीओ पर आपके क्या विचार हैं? पेटिएम और ज़ोमेटो के ओवर प्राइसिंग की लोग बात कर रहे हैं. इस तरह के न्यू एज आईपीओ में निवेश करने के इच्छुक लोगों को आपकी क्या सलाह है?

जवाब – मैं इन कंपनियों का बहुत बड़ा फैन नहीं हूं. इनमें से कुछ आगे खत्म हो जाएंगे मगर कुछ आगे काफी धन अर्जित करेंगे. हमारे सामने अमेरिका का उदाहरण है. यहां पर फिनटेक और डिजिटल लंबे समय तक के लिए है चाहे वो बैंकिंग हो या होम डिलिवरी. ऐसे में मैं इन आईपीओ में निवेशकों को केवल 10 फीसदी निवेश करने की सलाह दूंगा. अगर आप भाग्यशाली हैं और इनमें से कुछ शेयर बेहतर प्रदर्शन करते हैं तो आप पैसे कमा सकते हैं. मगर यहां पर इनाम लेने के लिए रिस्क ज्यादा है. बेहतर रिटर्न की अवधि यहां आपकी अपेक्षा से काफी ज्यादा हो सकती है.

सवाल – क्रिप्टोकरेंसी पर आपके क्या विचार है जो निवेशकों के बीच एक नया क्रेज बन गया है?

जवाब – भारत में जीडीपी का करीब तीन फीसदी हिस्सा क्रिप्टोकरेंसी में निवेश में जा रहा है. यहां कई लोगों ने निवेश किया है. मैं क्रिप्टोकरेंसी खरीदने की पैरवी नहीं करूंगा. मैं अस्थिरता को लेकर ज्यादा उत्सुक भी नहीं हूं. मगर मुझे लगता है लोगों ने क्रिप्टोकरेंसी से पैसे कमाए हैं और ये यहां पर लंबे समय तक रहने के लिए है. अगर आपने इसमें निवेश किया है तो बने रहिए मगर तभी जब तक आप इसमें आ रहे बड़े उतार-चढ़ाव को झेल सकें, ज्यादातर खुदरा निवेशक रातोंरात 40-50 का उतार-चढ़ाव हैडल नहीं कर सकते.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष