निर्यात क्षेत्र को मिलेगा बढ़ावा, ECGS में 4,400 करोड़ रुपये का पूंजी निवेश

Exports Sector: ईसीजीसी में पूंजी डालने से यह उद्योग विशेषकर श्रम प्रधान क्षेत्रों में अपने कवरेज का विस्तार करने में सक्षम होगा.

  • Money9 Hindi
  • Updated On - September 29, 2021 / 05:07 PM IST
निर्यात क्षेत्र को मिलेगा बढ़ावा, ECGS में 4,400 करोड़ रुपये का पूंजी निवेश
ईसीजीसी की स्थापना भारत सरकार द्वारा 1957 में कंपनी अधिनियम के तहत वाणिज्यिक और राजनीतिक कारणों से विदेशी खरीदारों द्वारा गैर-भुगतान जोखिमों के खिलाफ निर्यातकों को ऋण बीमा सेवाएं प्रदान करके निर्यात को बढ़ावा देने के लिए की गई थी.

Exports Sector:  कैबिनेट ने आज निर्यात क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कई उपायों की घोषणा की. सरकार ने आज ECGS लिमिटेड (जिसे पहले एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के नाम से जाना जाता था) को पांच साल की अवधि में, यानी वित्त वर्ष 2021-2022 से वित्त वर्ष 2025- 2026 तक 4,400 करोड़ रुपये के पूंजी निवेश को मंजूरी दी है. स्वीकृत जलसेक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से ईसीजीसी की लिस्टिंग प्रक्रिया के साथ उपयुक्त रूप से तालमेल बिठाने के प्रयासों के साथ-साथ अधिक निर्यात का समर्थन करने के लिए ईसीजीसी की हामीदारी क्षमता में वृद्धि होगी.

ईसीजीसी की स्थापना

ईसीजीसी की स्थापना भारत सरकार द्वारा 1957 में कंपनी अधिनियम के तहत वाणिज्यिक और राजनीतिक कारणों से विदेशी खरीदारों द्वारा गैर-भुगतान जोखिमों के खिलाफ निर्यातकों को ऋण बीमा सेवाएं प्रदान करके निर्यात को बढ़ावा देने के लिए की गई थी.

यह निर्यातक उधारकर्ताओं को निर्यात ऋण देने में जोखिम के खिलाफ बैंकों को बीमा कवर भी प्रदान करता है. ईसीजीसी अपने अनुभव, विशेषज्ञता और भारत के निर्यात को आगे बढ़ाने और प्रगति के लिए एक अंतर्निहित प्रतिबद्धता के साथ भारतीय निर्यात उद्योग का समर्थन करने का प्रयास करता है.

ईसीजीसी श्रम प्रधान क्षेत्रों से निर्यात का समर्थन करने में व्यापक भूमिका निभाता है और छोटे निर्यातकों के उद्यमों को बैंक ऋण देने को प्रोत्साहित करता है जिससे उनका पुनरुद्धार होता है.

ईसीजीसी में पूंजी डालने से यह एक्‍सपोर्ट ओरिएंटेड उद्योग विशेषकर श्रम प्रधान क्षेत्रों में अपने कवरेज का विस्तार करने में सक्षम होगा. स्वीकृत राशि को किश्तों में डाला जाएगा जिससे 88,000 करोड़ रुपये तक के जोखिमों को कम करने की क्षमता में वृद्धि होगी.

यह ईसीजीसी को कवर जारी करने में सक्षम करेगा जो मौजूदा पैटर्न के अनुरूप पांच साल की अवधि में 5.28 लाख करोड़ रुपये के अतिरिक्त निर्यात का समर्थन कर सकता है.

इसके अलावा, फरवरी 2019 में विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट ‘नौकरियों के लिए निर्यात’ के संदर्भ में, 5.28 लाख करोड़ रुपये के निर्यात से 2.6 लाख श्रमिकों की औपचारिकता होगी.

इसके अलावा, रिपोर्ट के अनुसार श्रमिकों की कुल संख्या (औपचारिक और अनौपचारिक दोनों) में 59 लाख की वृद्धि होगी.

(प्रेस सूचना ब्यूरो से इनपुट्स के साथ)

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष