क्रिप्टो एडवरटाइजमेंट के लिए नियम बनेंगे, तब तक बड़े क्रिप्टो प्लेयर्स नए विज्ञापन नहीं करेंगे

जहां बैंक फिल्मी सितारों और क्रिकेटरों को एंडोर्स करने के लिए स्वतंत्र हैं तो वहीं म्यूचुअल फंड और स्टॉक ब्रोकरेज इससे बचते हैं.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - November 19, 2021 / 04:08 PM IST
क्रिप्टो एडवरटाइजमेंट के लिए नियम बनेंगे, तब तक बड़े क्रिप्टो प्लेयर्स नए विज्ञापन नहीं करेंगे
कोई नया विज्ञापन नहीं आएगा. हालांकि, सभी प्लेटफॉर्म इसके लिए सहमत नहीं हैं. इसलिए वो अपने विज्ञापनों की डील को जारी रखेंगे

नए नियम निर्धारित होने तक बड़े क्रिप्टो प्लेयर्स नए विज्ञापन नहीं करेंगे. भारत में लगभग आधा दर्जन क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency) एक्सचेंजों और एक इंटरमीडियरी ने सरकार और फाइनेंस पर बनी पार्लियामेंट्री पैनल की व्यक्त की गई चिंताओं के मद्देनजर प्रिंट, टेलीविजन और रेडियो पर नए विज्ञापन शुरू करने से परहेज करने का फैसला किया है.

जिन विज्ञापनों की पेमेंट हो गई वो चलते रहेंगे

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक इंडस्ट्री बॉडी इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया की एक शाखा, ब्लॉकचैन एंड क्रिप्टो एसेट कमेटी की बैठक में इस हफ्ते ये फैसला लिया गया. क्रिप्टो एक्सचेंज के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि जिन विज्ञापनों के लिए पेमेंट की जा चुकी है, वे चलते रहेंगे, लेकिन कोई नया विज्ञापन नहीं आएगा. हालांकि, सभी प्लेटफॉर्म इसके लिए सहमत नहीं हैं. इसलिए वो अपने विज्ञापनों की डील को जारी रखेंगे.

अगले हफ्ते फिर मीटिंग की संभावना

क्रिप्टो एडवरटाइजिंग के डू और डोन्ट, पर अधिक विस्तृत चर्चा करने के लिए क्रिप्टो (Cryptocurrency) ऑर्गेनाइजेशन की अगले हफ्ते फिर से मीटिंग की संभावना है. एक अन्य एक्सचेंज के फाउंडर ने कहा, ‘अन्य वित्तीय संपत्तियों के लिए लागू विज्ञापन मानदंडों को क्रिप्टो पर भी लागू किया जा सकता है. इसमें सेलिब्रिटी एंडोर्समेंट से दूर रहना भी शामिल है. फाइनेंशियल सर्विस कंपनियों के लिए विज्ञापन नियम, प्रोडक्ट के नेचर के हिसाब से अलग होते हैं. जहां बैंक फिल्मी सितारों और क्रिकेटरों को एंडोर्स करने के लिए स्वतंत्र हैं तो वहीं म्यूचुअल फंड और स्टॉक ब्रोकरेज इससे बचते हैं.

इन्वेस्टर एजुकेटिव एडवरटाइजिंग की ओर बढ़े इंडस्ट्री

एक अन्य इंडस्ट्री बॉडी Indiatech.org के CEO रमेश कैलासम ने कहा, ‘इंडस्ट्री को अपने रेगुलर एडवरटाइजिंग के अलावा इन्वेस्टर एजुकेटिव एडवरटाइजिंग की ओर बढ़ना चाहिए.’ वहीं एक्सचेंज के एक अधिकारी ने कहा, ‘हम इंडस्ट्री के लिए इंटरनल एडवरटाइजिंग गाइडलाइन तैयार करना चाहते हैं और फिर उन्हें नियामक और ASCI (एडवरटाइजिंग काउंसिल ऑफ इंडिया) के नियम बनने के बाद अपडेट करना चाहते हैं.’

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।