फेस्टिव सीजन आते ही हवाई यात्रा की बुकिंग ने पकड़ी रफ्तार, एयरलाइंस को रिकवरी की उम्मीद

Festive Season: देश में हवाई यात्रा की बुकिंग ने रफ्तार पकड़ी है. महामारी के कारण काफी समय से बंद पड़ी इस इंडस्ट्री को फिर पटरी पर आने की उम्‍मीद है.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - August 25, 2021 / 03:29 PM IST
फेस्टिव सीजन आते ही हवाई यात्रा की बुकिंग ने पकड़ी रफ्तार, एयरलाइंस को रिकवरी की उम्मीद
IMAGE: PIXABAY, उड़ान योजना के तहत अगले 100 दिन में 5 नए हवाई अड्डों को तैयार करने का लक्ष्य

फेस्टिव सीजन शुरू होने के साथ ही देश में हवाई यात्रा की बुकिंग ने रफ्तार पकड़ ली है. कोरोना महामारी के कारण काफी समय से बंद पड़ी इस इंडस्ट्री को फिर से पटरी पर आने की उम्मीद है. हालांकि कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर को लेकर एयरलाइन्स पहले से ही सतर्क हैं. मई और जून में कोरोना की दूसरी लहर ने एयरलाइन कंपनियों को काफी नुकसान पहुंचाया था. दूसरी लहर ने कंपनियों के महीनों पहले कमाए प्रॉफिट को पूरी तरह से खत्म कर दिया था.

डोमेस्टिक पैसेंजर की संख्या में हुई बढ़ोतरी

एविएशन वेबसाइट नेटवर्क थॉट्स के आंकड़ों के अनुसार, घरेलू यात्री यातायात (Domestic passenger traffic) अगस्त के पहले तीन हफ्तों में बढ़कर लगभग 45.2 लाख हो गया. जुलाई में यह 33.1 लाख, जून में 19.1 लाख और मई में 14.1 लाख था. वहीं फरवरी, मार्च और अप्रैल के दौरान यह 57.3 लाख, 53 लाख और 44 लाख था.

यात्रा को लेकर अब लोग आश्वस्त

एक खबर के मुताबिक गुरुग्राम स्थित बजट एयरलाइन के एक सीनियर एग्जीक्यूटिव ने कहा, ‘एडवांस बुकिंग (विशेष रूप से बुकिंग के बाद 14-दिन की विंडो से आगे की यात्रा के लिए) अगस्त में बढ़ी है. इससे पता चलता है कि लोग अब यात्रा को लेकर ज्यादा आश्वस्त हैं. राज्यों के यात्रा प्रतिबंध हटाने और कोविड के मामलों की घटती संख्या की वजह से लोग यात्रा को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं’.

बिक्री में और तेजी आने की उम्मीद

एयरलाइन के अधिकारी ने कहा, मौजूदा आंकड़ों को देखते हुए, हम फेस्टिव सीजन के दौरान हवाई टिकटों की बिक्री में और तेजी आने की उम्मीद कर रहे हैं. यदि मौजूदा वृद्धि बिना रुके जारी रही, तो हम अक्टूबर-दिसंबर की अवधि तक कोविड से पहले स्तरों तक की रिकवरी देख सकते हैं.

एयरलाइंस संभावित तीसरी लहर के लिए हैं तैयार

इस बीच, एयरलाइंस संभावित तीसरी लहर से किसी भी व्यावसायिक व्यवधान (business disruption) की तैयारी के लिए अपनी तरलता (liquidity) को बढ़ा रही हैं. देश की दो सूचीबद्ध एयरलाइन- इंटरग्लोब एविएशन लिमिटेड की संचालित इंडिगो और स्पाइसजेट लिमिटेड- दोनों को योग्य संस्थागत प्लेसमेंट के जरिए पूंजी जुटाने के लिए अपने-अपने बोर्डों से मंजूरी मिल गई है.

 

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।