भारतीय बाजारों के लिए क्यों जरुरी है ‘बैड बैंक’, जानिए ब्रोकरेज फर्मों की राय

हमारे विचार में 'बैड बैंक' का गठन एक पॉजिटिव डेवलपमेंट का संकेत है, क्योंकि तनावग्रस्त संपत्तियों के तेजी से समाधान पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए.

भारतीय बाजारों के लिए क्यों जरुरी है 'बैड बैंक', जानिए ब्रोकरेज फर्मों की राय
त्योहारों के दौरान आवास, कार और सोने पर कर्ज के लिये प्रसंस्करण शुल्क से छूट देने की घोषणा की थी

अर्थव्यवस्था में रिकवरी और अच्छी अर्निंग्स की उम्मीदों को देखते हुए दलाल स्ट्रीट पर सेंटीमेंट पॉजिटिव बने हुए हैं. सरकार द्वारा घोषित पीएलआई (PLI) योजनाएं सेक्टर की चुनौतियों का समाधान करने और लोकल कैपेबिलिटीज के विकास का मार्ग प्रशस्त करने के उनके मजबूत इरादे को दर्शाती हैं. हमारे विचार में ‘बैड बैंक’ का गठन एक पॉजिटिव डेवलपमेंट का संकेत है. क्योंकि तनावग्रस्त संपत्तियों के तेजी से समाधान पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए. जिससे बैंकों की बैलेंस शीट में सुधार होगा और साथ ही ऐसा करने से अपफ्रंट कैश पेमेंट भी अच्छा कैश फ्लो प्रदान करने में सहायता करेगा.

धीमी इकनोमिक ग्रोथ पर चिंता के कारण कमजोर ग्लोबल संकेत और बढ़ते डेल्टा वायरस केस के कारण ग्रीड और फियर के बीच में बाजार में उतार चढ़ाव बने रहने की संभावना है. फेडरल रिजर्व की बैठक से पहले बाजार में थोड़ी वोलेटिलिटी देखी जा सकती है.

कुल मिलाकर, बेंचमार्क इक्विटी इंडेक्स ने सप्ताह के दौरान मजबूत लाभ दर्ज किया, क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा कई समर्थन उपायों की घोषणा के बाद बाजार के सेंटीमेंट फिर से पॉजिटिव हो गये हैं. साथ ही पिछले हफ्ते सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ है. निफ्टी 17,500 के ऊपर बंद होने में कामयाब रहा जबकि सेंसेक्स 59,000 के स्तर से ऊपर बंद हुआ था.

शुक्रवार, 17 सितंबर 2021 को समाप्त सप्ताह के लिए सेंसेक्स 710.82 अंक या 1.22% उछलकर 59,015.89 पर बंद हुआ था. जबकि NIFTY 50 इंडेक्स 215.90 अंक या 1.24% बढ़कर 17,585.15 पर बंद हुआ था. वही बीएसई का मिड कैप इंडेक्स 341.19 या 1.38% बढ़कर 25,046.48 पर बंद हुआ था. बीएसई स्मॉल-कैप इंडेक्स 361.69 अंक या 1.31% बढ़कर 28,006.79 पर बंद हुआ था.

इससे पहले, इक्विटी बेंचमार्क ने सोमवार, 13 सितंबर 2021 को मामूली नुकसान के साथ एक वोलेटाइल ट्रेडिंग सेशन समाप्त किया था. बैरोमीटर इंडेक्स, S & P बीएसई सेंसेक्स 127.31 अंक या 0.22% नीचे 58,177.76 पर क्लोज हुए थे. NIFTY 50 इंडेक्स 13.95 अंक या 0.08% नीचे गिरकर 17,355.30 पर क्लोज हुआ था. प्रमुख सूचकांकों ने मंगलवार 14 सितंबर 2021 को भी छोटे लाभ के साथ एक वोलेटाइल ट्रेडिंग सेशन समाप्त किया था. मिले जुले ग्लोबल संकेतों के कारण इस दिन भी लाभ सिमित रहा था. बैरोमीटर इंडेक्स, S & P बीएसई सेंसेक्स 69.33 अंक या 0.12% बढ़कर 58,247.09 पर पहुंच गए थे. और NIFTY 50 इंडेक्स 24.70 अंक या 0.14% बढ़कर 17,380 पर बंद हुआ था.

15 सितंबर को एक मजबूत सत्र के बाद घरेलू इक्विटी बेंचमार्क दिन के हाईएस्ट लेवल पर क्लोज हुए थे. ऑटो सेक्टर के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इन्सेन्टिव्स (PLI) के लिए कैबिनेट की मंजूरी और दूरसंचार क्षेत्र के लिए राहत उपायों ने सेंटीमेंट्स को बड़ा दिया था. जिससे बैरोमीटर इंडेक्स, S & P बीएसई सेंसेक्स 476.11 अंक या 0.82% बढ़कर 58,723.20 पर पहुंच गया था. साथ ही निफ्टी 50 इंडेक्स 139.45 अंक या 0.80% बढ़कर 17,519.45 पर बंद था.

बेंचमार्क इंडेक्स गुरुवार, 16 सितंबर 2021 को मजबूत लाभ के साथ क्लोज हुए थे. सरकार द्वारा शुरू की गई विभिन्न प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) योजनाओं का समर्थन रैली को प्राप्त हुआ था. भारत में बढ़ रही कोरोना टीकाकरण की संख्या और लगातार फॉरेन कैपिटल इनफ्लो ने बाजार में चल रही तेज़ी को बनाए रखा था. बैरोमीटर इंडेक्स, S & P बीएसई सेंसेक्स 417.96 अंक या 0.71% उछलकर 59,141.16 पर बंद हुए थे. साथ ही NIFTY 50 इंडेक्स 110.05 अंक या 0.63% बढ़कर 17,629.50 पर पहुंच गया था.

17 सितंबर को स्टॉक्स ने लगातार चली आ रही 3 दिन की बुल रैली को तोडा और छोटे नुकसान के साथ बंद हुए. बैरोमीटर इंडेक्स, S & P बीएसई सेंसेक्स 125.27 अंक या 0.21% गिरकर 59,015.89 पर बंद हुआ. निफ्टी 50 इंडेक्स 44.35 अंक या 0.25% नीचे 17,585.15 अंक पर आ गया था. दिन के कारोबार में सेंसेक्स ने 59,737.32 के रिकॉर्ड उच्च स्तर को छुआ था. जबकि निफ्टी ने 17,792.95 के सर्वकालिक उच्च स्तर को छुआ था.

(लेखक मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड-रिटेल रिसर्च हैं; व्यक्त विचार निजी हैं)

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष