अच्छे बाजारों में हमेशा की तरह बहुत सारी अटकलें हैं, कोशिश करें उस शोर से दूर रहें: एंड्रयू हॉलैंड

FID: युवा लोग भविष्य के लिए बचत करने और अपना कुछ पैसा शेयर बाजार में लगाने के लिए थोड़ा अधिक जोखिम लेने को तैयार हैं.

अच्छे बाजारों में हमेशा की तरह बहुत सारी अटकलें हैं, कोशिश करें उस शोर से दूर रहें: एंड्रयू हॉलैंड
मुझे लगता है कि अगले दो से तीन वर्षों में, भारत के लिए कारक बहुत सकारात्मक बने हुए हैं. मुझे ऐसा कुछ भी नहीं दिख रहा है जो भारत के लिए दीर्घकालिक संभावनाओं को छीन ले

दो-तीन वर्षों से भारतीय विकास की कहानी बहुत सकारात्मक बनी हुई है. एवेंडस कैपिटल के सीईओ एंड्रयू हॉलैंड (Andrew Holland) के मुताबिक, विदेशी निवेशक (FID) जो हाल के महीनों में विक्रेता रहे हैं, वे जल्द ही वापस आएंगे. मार्केट मावेरिक्स श्रृंखला के हिस्से के रूप में News9 के साथ एक साक्षात्कार में हॉलैंड ने बताया कि वह दूरसंचार, एएमसी और उपभोक्ता विवेकाधीन क्षेत्रों पर आशावादी है. यहां पेश है उनके साथ साक्षात्‍कार के संपादित अंश:

सवाल – भारतीय शेयर बाजार पर आपका क्या विचार है? आपको क्या लगता है कि यह किस ओर जा रहा है और ऐसे कौन से कारक हैं जो बाजार को प्रभावित कर सकते हैं?

जवाब – यह कुछ ऐसा सवाल है जो काफी ज्‍यादा पूछा जा रहा है. पिछले कुछ महीनों में हम भारतीय शेयर बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देख रहे हैं. विदेशी निवेशक काफी भारी बिकवाली कर रहे हैं. भारतीय शेयर बाजार इस साल दुनिया में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले बाजारों में से एक रहा है. इसलिए, हम जो देख रहे हैं वह वास्तव में विदेशी निवेशकों द्वारा कुछ बाजारों में एक पुन: आवंटन है जो उन्हें लगता है कि सस्ता हो सकता है. उदाहरण के लिए, चीन, जहां हमें बहुत सारी नियामक समस्याएं हैं और बाजारों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है, लेकिन अब ये थमता नजर आ रहा है. यह भारत के सापेक्ष एक सस्ता बाजार है. इसलिए, इस संबंध में, धन प्रवाह भारत से बाहर जा रहा है और अपेक्षाकृत चीन की ओर बढ़ रहा है.

वहीं अस्थिरता के संदर्भ में, मुझे लगता है कि विश्व स्तर पर यही हो रहा है. मुझे लगता है कि हम अभी भी मुद्रास्फीति के दृष्टिकोण से जूझ रहे हैं. वहीं टेपरिंग के संबंध में उम्मीद है कि यह अपेक्षा से बहुत तेज होगा और मार्च तक बाजारों में तरलता की मदद दूर जाने वाली है. अमेरिका में अगले साल जून-जुलाई में ब्याज दरें बढ़ सकती हैं. इसलिए, बाजार इससे जूझने की कोशिश कर रहा है. मुझे लगता है कि अस्थिरता हमारे लिए थोड़ी अधिक समय तक रहने वाली है, इस साल के अंत में और नए साल में.

सवाल – दुनिया भर में तेजी से फैल रहे नए ओमीक्रोन वेरिएंट के साथ उभरती हुई कोविड-19 स्थिति पर आप क्या प्रभाव देखते हैं?

जवाब – हम साल 2021 में बड़ी आशावाद के साथ आए थे कि टीके हम सभी को इस समस्‍या से राहत दिलाएंगे और हम वापस सामान्य हो जाएंगे. नए कोविड -19 वैरिएंट ओमीक्रोन ने वास्तव में बाजारों को काफी प्रभावित नहीं किया है. अस्पताल में भर्ती होने और मौतों की घटनाएं काफी कम हैं. इसलिए, उम्मीद यह होगी कि पश्चिमी दुनिया में लोगों को जो अतिरिक्त बूस्टर डोज मिल रही हैं, हम अगले कुछ हफ्तों में हम आगे बढ़ सकते हैं.

सवाल – खुदरा निवेशकों के लिए आपकी क्या सलाह है? एफआईआई जैसे बड़े निवेशक बाहर जा रहे हैं. व्यक्तिगत निवेशकों को कौन सी रणनीति अपनानी चाहिए? क्या यह नकदी के स्तर को बढ़ाने का समय है?

जवाब – मुझे लगता है कि अगले दो से तीन वर्षों में, भारत के लिए कारक बहुत सकारात्मक बने हुए हैं. मुझे ऐसा कुछ भी नहीं दिख रहा है जो भारत के लिए दीर्घकालिक संभावनाओं को छीन ले. हम सभी उपभोक्ता खर्च देख रहे हैं और सरकार जल्द ही उनके बुनियादी ढांचे पर खर्च करना शुरू कर देगी, जिसका बहुत अधिक प्रभाव पड़ेगा. इसलिए, भारत के लिए बहुत सारी सकारात्मकताएं और टेलविंड चल रहे हैं, जिन्हें नजरअंदाज करना बहुत मुश्किल है और चीन की समस्याओं को देखते हुए बहुत सारी कंपनियां भारत को एशिया के विकास इंजन के रूप में देख रही हैं और चीन से दूर भी हो रही हैं.

इसलिए, हम बहुत अधिक विदेशी कंपनियों को एफडीआई के माध्यम से भारत में आते हुए देख सकते हैं. खुदरा निवेशक अच्छा काम कर रहे हैं. यहां तक ​​​​कि जब महामारी आई तब भी एसआईपी बहुत उच्च दर से जारी रहा और वे समय के साथ बढ़ते रहे. इसलिए उन्हें वही करना चाहिए जो वे कर रहे हैं, कभी नीचे से, कभी ऊपर से तो कभी बीच में.

जब तक आप व्यवस्थित आधार पर निवेश कर रहे हैं या आपके पास ऐसी कंपनियां हैं जिन पर आप भविष्य के लिए लंबी अवधि में विश्वास करते हैं तो उन अवसरों को उन स्तरों पर खरीदने के लिए लें जिन्हें आप अपने दिमाग में सस्ता या अच्छा मूल्य मानते हैं. मैं यह नहीं कहूंगा कि खुदरा निवेशकों के पास नकदी होनी चाहिए, लेकिन अच्छे बाजारों में हमेशा की तरह बहुत सारी अटकलें हैं. कोशिश करें और उस शोर से दूर रहें और अपने सामान्य निवेश पर टिके रहें.

सवाल – आपने कहा कि भारतीय शेयर बाजारों के लिए चुनौतियां हैं. आप अवसरों को कहां देख रहे हैं और किन क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन करने की संभावना है. वहीं किन क्षेत्रों से बचना चाहिए?

जवाब – मुझे लगता है कि पूरा क्षेत्र असाधारण रूप से अच्छा करेगा, उनके पास वापस आने वाली कुछ मूल्य निर्धारण शक्ति होगी. हम सब बाहर निकलना चाहते हैं. आर्थिक क्षेत्र में भी काफी बदलाव हो रहा है. निजी बैंकों में टॉप मैनेजमेंट में काफी बदलाव हुए हैं. मैं वित्तीय क्षेत्र में बीमा कंपनियों की ओर अधिक ध्यान दूंगा. हम सभी को और अधिक हेल्‍थ इंश्‍योरेंस की जरूरत होगी. मुझे नहीं लगता कि निवेशकों का बाजार की ओर यह कदम दूर होने वाला है.

युवा लोग भविष्य के लिए बचत करने और अपना कुछ पैसा शेयर बाजार में लगाने के लिए थोड़ा अधिक जोखिम लेने को तैयार हैं. इसलिए, मुझे लगता है कि एएमसी अगले दो से तीन वर्षों में बहुत अच्छा प्रदर्शन करेगी. इसी के साथ उपभोक्ता विवेकाधीन भी अच्छा करेगा क्योंकि हम सभी उतना यात्रा नहीं करने जा रहे हैं. हम उस पैसे को कहीं न कहीं खर्च करने जा रहे हैं, चाहे वह विलासिता का सामान हो या कुछ और.

अगर यह शुरू हो जाता है और आपके पास भारत में आने वाली विदेशी कंपनियों के साथ-साथ दुनिया के अन्य स्थानों की तुलना में कुछ विकास के लिए भारतीय कंपनियों द्वारा उठाया गया निजी कैपेक्स है. मुझे लगता है कि यह न केवल जीडीपी की वृद्धि के लिए बल्कि आय वृद्धि के लिए भी आगे होगा.

जिन क्षेत्रों में मैं लंबी अवधि के लिए देखूंगा तो उनमें से एक दूरसंचार क्षेत्र है. मुझे लगता है कि अगले दो-तीन वर्षों में दूरसंचार कंपनियों के लिए डिजिटलीकरण और 5जी की मांग आगे बढ़ेगी.

सवाल – पिछले महीनों में डीमैट खातों में भारी वृद्धि हुई है. आप बचत के वित्तीयकरण को कैसे विकसित होते और छोटे शहरों में फैलते हुए देख रहे हैं?

जवाब – बीएसई और एनएसई से जो आंकड़े मैंने देखे हैं, उनसे शेयर बाजार में बहुत अधिक दिलचस्पी है. मुझे उम्मीद है कि यह अटकलें नहीं होंगी. यह मुझे चिंतित करता है, लेकिन जो मैं देख सकता हूं वह एक अच्छा निवेश है. सेबी, बीएसई और एनएसई आदि अपने एजूकेशनल पोग्राम के जरिए लोगों को केवल अनुमान लगाने के बजाय बचत के दीर्घकालिक पहलुओं के बारे में शिक्षित करने की कोशिश कर रहे हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष