वैल्‍यू देखकर की IPO में लगाएं पैसा: नीलेश शाह

Stock Market: आप इक्विटी बाजार में निवेश कर रहे हैं, तो आप आईपीओ में आवेदन करने और पैसा बनाने के लिए लिस्टिंग पर बेचने पर विचार नहीं करते हैं.

वैल्‍यू देखकर की IPO में लगाएं पैसा: नीलेश शाह
ऐसा कोई डिस्कनेक्ट बिल्कुल नहीं है. बाजार कभी-कभी मनी पावर या सेंटिमेंट के आधार पर अर्थव्यवस्था से अलग हो सकते हैं, लेकिन लंबे समय तक नहीं

पिछले 18 महीनों में शेयर बाजार (Stock Market) में जबरदस्त तेजी देखी गई है. अब आगे बाजार कैसा रहेगा. वहीं निवेशकों को इसे कैसे देखना चाहिए. इन्‍हीं सब सवालों को लेकर न्‍यूज9 ने अपनी विशेष श्रृंखला मार्केट मावेरिक्स में कोटक महिंद्रा एएमसी के मैनेजिंग डायरेक्‍टर नीलेश शाह के साथ बात की –

सवाल – पिछले डेढ़ साल से शेयर बाजार लगातार ऊपर की ओर बढ़ रहा है. आप इसे किस दिशा में जाता हुआ देख रहे हैं?

नीलेश – हाल के दिनों में, जबकि अन्य उभरते बाजार गिर रहे थे, भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) ने बेहतर प्रदर्शन करना जारी रखा. एमएससीआई इमर्जिंग मार्केट इंडेक्स में हमारी हिस्‍सेदारी 8 फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी हो गई. इसने कुछ विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) को मुनाफावसूली करने के लिए प्रेरित किया. यूएस फेड द्वारा टेंपर टैंट्रम पर भी चिंताएं थीं, जिसके कारण कुछ सुधार हुआ. काफी हद तक सुधार नए कोरोना के नए वेरिएंट के डर के कारण हो सकता है जो स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए चिंता का विषय है.

सवाल – क्या आप उन लोगों से सहमत हैं जो कहते हैं कि बाजार और अर्थव्यवस्था के बीच कोई संबंध नहीं है?

नीलेश – ऐसा कोई डिस्कनेक्ट बिल्कुल नहीं है. बाजार कभी-कभी मनी पावर या सेंटिमेंट के आधार पर अर्थव्यवस्था से अलग हो सकते हैं, लेकिन लंबे समय तक नहीं. अगर कोई ये कह रहा है कि 18 महीने से भारतीय बाजार (Stock Market) अर्थव्यवस्था से कट गए हैं, तो शायद सच नहीं बोल रहा है या सच को स्वीकार नहीं कर रहा है. बाजार आगे की ओर देख रहे हैं, जबकि आर्थिक आंकड़े पुराने हैं, लेकिन बाजार हमेशा लंबी अवधि में आर्थिक बुनियादी बातों पर चलते हैं.

सवाल – बाजार में जिस तरह की तेजी देखी जा रही है, तो क्या निवेशकों को सतर्क रहना चाहिए? या अगर रैली जारी रहती है तो क्या नुकसान होने की संभावना है?

नीलेश – बाजार की चाल की भविष्यवाणी करना हमेशा मुश्किल होता है. मार्च से सितंबर माह के बीच हम निवेशकों को इक्विटी पर ओवरवेट होने की वकालत कर रहे थे, क्योंकि वैल्यूएशन बहुत कम था, उस वक्त क्‍या हमें पता था कि निफ्टी 18,500 के स्‍तर को छू लेगा? इसका जवाब है बिल्कुल नहीं! हमें नहीं पता कि बाजार 1 साल, 2 साल या 3 साल नीचे कहां होगा. हम लोगों को अनुशासित परिसंपत्ति आवंटन का पालन करने की सलाह दे रहे थे, जब इक्विटी बाजार सस्ते हों, तब अधिक वजन वाले हों, जब बाजार आज की तरह काफी मूल्यवान हों और जब बाजार महंगे हों तो कम वजन वाले हों जैसे वे शायद जनवरी 2008 में थे. इस बिंदु पर समय इस सुधार के बावजूद, हमारा मानना ​​है कि बाजार अपने उचित मूल्य में हैं. वे 18,500 निफ्टी पर उचित मूल्य के उच्च अंत में थे. वे 17,000 निफ्टी पर उचित मूल्य के मध्य छोर पर हैं और अगर निफ्टी और नीचे जाता है तो यह फेयर प्राइस के निचले सिरे पर होगा.

सवाल – चूंकि आपने कहा था कि अगर आपका इनवेस्‍टमेंट कम है तो आपको अपने पोर्टफोलियो में अपना इक्विटी स्तर बढ़ाना चाहिए, अब अवसर कहां हैं और किन क्षेत्रों से बचना चाहिए?

नीलेश – बाजार में, एक रेड जोन है जो निश्चित रूप से टालने योग्य है. वहीं एक है पेनी स्टॉक काउंटर जहां बिजनेस फंडामेंटल बहुत पीछे हैं और सोशल मीडिया पुश और केंद्रित खरीदारी के कारण कीमतों को उच्च स्तर पर धकेल दिया गया है. ऐसे में अधिकांश काउंटरों में लेन-देन भोले-भाले रिटेल इनवेस्‍टरों के साथ होता है, जो मानते हैं कि मूल्य गति हमेशा के लिए जारी रहेगी. इसलिए, हर कीमत पर पेनी काउंटर से दूर रहें.

सवाल – हाल के दिनों में कई नई डिजिटल कंपनियों की लिस्टिंग होने के साथ आईपीओ की बाढ़ आ गई है, उनमें से पेटीएम लिस्टिंग में थोड़ी गड़बड़ी थी, क्योंकि लिस्टिंग के दिन इसमें गिरावट आई थी, हालांकि यह थोड़ी देर बाद ठीक हो गई. अब भविष्य के आईपीओ की ओर देख रहे निवेशकों को आपकी क्या सलाह है?

नीलेश – अच्छा, आपने ज्‍यादा कीमत वाले आईपीओ में आवेदन क्यों किया? जब हम सड़क पर चलते हैं तो एक उडिपी रेस्तरां है जो स्वादिष्ट दक्षिण भारतीय व्यंजन देता है और एक पांच सितारा होटल है वो भी उन व्यंजनों को भी प्रदान करता है, लेकिन बहुत ज्‍यादा कीमतों पर. ऐसे में अगर आप इसे वहन नहीं कर सकते तो आप किसी फाइव स्टार होटल में नहीं जाते हैं. इसी तरह से आपको हर एक आईपीओ में निवेश करने की ज़रूरत नहीं है. अगर आपको लगता है कि कोई वैल्यू नहीं है तो उन आईपीओ में निवेश न करें.

आप यह उम्मीद नहीं कर सकते कि सेबी का काम यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक आईपीओ में निवेशक पैसा कमाएं. अगर आप इक्विटी बाजार में निवेश कर रहे हैं, तो आप आईपीओ में आवेदन करने और पैसा बनाने के लिए लिस्टिंग पर बेचने पर विचार नहीं करते हैं, समय की अवधि में पैसा बनाने के लिए आपको कंपनी में निवेश करना होगा. इसलिए, एक आईपीओ बाजार इस बात की गारंटी नहीं देता है कि आप हमेशा लिस्टिंग पर पैसा कमाएंगे. यह बाजार के जोखिम के अधीन है. उन आईपीओ में आवेदन न करें जहां आप मूल्यांकन से सहमत नहीं हैं.

सवाल – क्रिप्टोकरेंसी को लेकर काफी विवाद रहा है. सरकार और आरबीआई बाजार को रेगुलेट करने के लिए कदम उठा रहे हैं. क्रिप्टो बाजार पर आपके क्या विचार हैं?

नीलेश – जब आप किसी चीज़ में निवेश कर रहे हों तो उसके जोखिम से जरूर अवगत रहें. मैंने एक अखबार की रिपोर्ट पढ़ी, जिसमें किसी ने क्रिप्टोकरेंसी में नुकसान के कारण आत्महत्या कर ली. अब, यह क्रिप्टोकरेंसी हो सकती है, यह इक्विटी मार्केट हो सकती है, यह कुछ भी हो सकती है, लेकिन जब एक मानव जीवन खो जाता है, तो मुझे वास्तव में दुख होता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लालच हावी हो जाता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आप उस जोखिम को नहीं समझते हैं जो रिटर्न जेनरेट करने से जुड़ा है. इसलिए प्रत्येक निवेशक, प्रत्येक व्यापारी और प्रत्येक व्यक्ति को मेरा विनम्र निवेदन यह है कि इस दुनिया में कोई भी मुफ्त नहीं है. आपके माता-पिता के अलावा किसी को भी आपकी आर्थिक भलाई में कोई दिलचस्पी नहीं है. कृपया यह न मानें कि क्रिप्टो में निवेश या व्यापार करके, आप हमेशा पैसा कमाएंगे. इसमें अस्थिरता होगी, नकारात्मक पक्ष होगा, सुधार होगा और आप पूंजी खो सकते हैं.

ऐसे में कृपया बहुत अनुशासित परिसंपत्ति आवंटन के साथ निवेश करें. यह बहुत महत्वपूर्ण है कि जब आप क्रिप्टो जैसे परिसंपत्ति वर्ग में जाते हैं तो आपको याद होता है कि यह एक उच्च जोखिम और उच्च रिटर्न निवेश या व्यापार है. नौ हजार से ज्‍यादा क्रिप्टोकरेंसी हैं, उनमें से कितने अभी मौजूद हैं? शायद सिंगल डिजिट में! जब आप क्रिप्टो में निवेश कर रहे होते हैं, तो सुरक्षित रखना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है. हर दिन हम लोगों के क्रिप्टो खोने के बारे में सुनते हैं. क्रिप्टोस किसी के पोर्टफोलियो के 5 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए.

सवाल – म्यूचुअल फंड में नए डीमैट और एसआईपी खातों में भारी वृद्धि हुई है, उनमें से बहुत से नए निवेशक होंगे. ऐसे में पहली बार निवेश करने वालों के लिए आपकी क्या सलाह होगी?

नीलेश – जब आप सीधे निवेश कर रहे हों तो आपको कंपनियों पर शोध करने की जरूरत है. आप व्हाट्सएप या टेलीग्राम चैनल के आधार पर आगे निवेश नहीं कर सकते. वह निवेश नहीं है, वह व्यापार है, वह पंटिंग है. आप एक गंभीर राशि खो देंगे. यह आपका कौशल नहीं आपकी किस्मत आजमा रहा है. SIP करते समय आज के दौर के रिटर्न पर ध्यान न दें. सुधार से पहले, मेरे स्मॉल कैप फंड ने 10 साल के एसआईपी के लिए 22 फीसदी चक्रवृद्धि रिटर्न दिया होगा. यह आपको एसआईपी में निवेश करने के लिए प्रेरित नहीं करना चाहिए, क्योंकि मार्च 2020 में बाजार के निचले हिस्से में एक ही फंड ने तीन साल के लिए नकारात्मक रिटर्न और 5 साल और 10 साल के लिए सिंगल डिजिट रिटर्न दिया होगा.

क्योंकि आप मार्च 2020 में 3 साल के नकारात्मक रिटर्न की अग्निपरीक्षा से गुजर सकते हैं, आप हमारे स्मॉल कैप इक्विटी फंड में 22 प्रतिशत चक्रवृद्धि रिटर्न का आनंद ले सकते हैं. जोखिम और वापसी एक साथ आते हैं. ऐसे में कृपया दूसरों के अनुभव से सीखें ताकि आप विश्वास के साथ निवेश कर सकें. ऐसे समय होंगे जब आपके विश्वास की परीक्षा होगी. आपको अग्निपरीक्षा से गुजरना होगा. जब आप अग्निपरीक्षा से गुजरते हैं, तो आप रिटर्न का आनंद लेने में सक्षम होंगे.

सवाल – आप बचत के वित्तीयकरण में वृद्धि और बाजार में निचले आर्थिक पायदानों की भागीदारी और टियर -2 और टियर -3 शहरों में विस्तार को कैसे देख रहे हैं?

नीलेश – भारत एक बहुत बड़ा देश है और निवेशकों के बीच कोई समानता नहीं है. शहरी भारत में ऐसे निवेशक हैं जो वित्तीय बाजारों के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं. वे अपनी बचत को नकद, कम आय वाली बचत और बैंक जमा में रखते हैं. अर्ध-शहरी और ग्रामीण भारत में भी सामूहिक निवेश योजनाओं में निवेश करने का लालच देकर कई लोगों को ठगा जाता है. क्रिप्टोकरेंसी ने भारत में तूफान ला दिया है. अर्ध-शहरी और ग्रामीण भारत में लाखों निवेशक हैं जो पिछले कुछ वर्षों में क्रिप्टोकरेंसी में तेजी से वृद्धि से आकर्षित हुए हैं। उनमें से कितने जोखिम और वापसी को समझते हैं.

हम नहीं जानते और यहीं हम सेबी के आभारी हैं, जिसने हमें वित्तीय जागरूकता और वित्तीय ज्ञान फैलाने के लिए एक कोष बनाने में मदद की है. हमारा एसोसिएशन, एएमएफआई, ‘म्यूचुअल फंड सही है’ अभियान के साथ आया है. यह निवेशकों को व्यवस्थित निवेश, अनुशासित निवेश, नियमित निवेश का संदेश देने के लिए मशहूर हस्तियों और क्रिकेटरों का उपयोग कर रहा है. म्यूचुअल फंड उद्योग में 3 करोड़ से अधिक निवेशक हैं, हमारे पास 10.5 करोड़ से अधिक फोलियो हैं और हमारी एमएफ योजनाओं में व्यवस्थित निवेश के माध्यम से हर महीने 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक आ रहे हैं.

हमें विश्वास है कि हमने उन्हें रिटर्न प्रदान करने और उन्हें वित्तीय स्वतंत्रता प्रदान करने में अच्छा काम किया है, लेकिन जब मैं भविष्य को देखता हूं, तो मुझे लगता है कि हमने मुश्किल से सतह को खरोंचा है. 3 करोड़ से मुझे 30 करोड़ निवेशकों के पास जाना है. हमें 10 करोड़ फोलियो से शायद 100 करोड़ फोलियो में जाना होगा और एसआईपी में 10,000 करोड़ रुपये से हमें 1 लाख करोड़ रुपये तक जाना होगा. यह भारत के वित्तीयकरण की संभावना है. मुझे पूरे भारत और भारत के व्यापारियों को निवेशकों में बदलना है.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष