मौजूदा मार्केट में क्या है क्रिस वुड की निवेशकों को सलाह?

वुड के मुताबिक, इक्विटी पोर्टफोलियो के लिए सबसे मजबूत रणनीति ग्रोथ और वैल्यू स्टॉक्स को अपने पोर्टपोलिओ में बनाए रखना है.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - September 12, 2021 / 12:35 PM IST
मौजूदा मार्केट में क्या है क्रिस वुड की निवेशकों को सलाह?
निवेशकों को ग्रोथ और वैल्यू स्टॉक दोनों को खरीदने की रणनीति अपनानी चाहिए.

अपनी साप्ताहिक समाचार पत्रिका ग्रीड एंड फियर में जेफरीज के क्रिस्टोफर वुड ने इक्विटी रणनीति के लिए निवेशकों को लालची और सतर्क रहने का सुझाव दिया है. वुड के मुताबिक, इस वक्त लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है. बाजार का माहौल ग्रीड एंड फियर जैसा है. उनके मुताबिक, इस समय लोगों को लालच भी है कि कहीं ये रैली छूट न जाये और साथ ही एक डर भी है कि इस लेवल से बाजार करेक्शन दे सकता है. ऐसे में निवेशकों को ग्रोथ और वैल्यू स्टॉक दोनों को खरीदने की रणनीति अपनानी चाहिए. इसी के साथ ही उन्होंने निवेशकों को आगाह किया कि महंगाई की कीमत पर आर्थिक सुधार आ सकता है. भारतीय बाजारों में वुड ने अपने एशिया पूर्व-जापान थीमेटिक इक्विटी पोर्टफोलियो में बजाज फाइनेंस के शेयरों को केवल लंबे समय में अच्छे रिटर्न पाने के लिए खरीदा है.
वुड के मुताबिक, इक्विटी पोर्टफोलियो के लिए सबसे मजबूत रणनीति ग्रोथ और वैल्यू स्टॉक्स को अपने पोर्टपोलिओ में बनाए रखना है. दोनों के रिलेटिव मेरिट्स इस बात पर निर्धारित होंगे कि इन्फ्लेशन में वृद्धि क्षणिक है या नहीं. क्योंकि इस प्रकार से तैयार किया गए पोर्टपोलिओ पर इतना नेगेटिव प्रभाव नही पड़ेगा जितना किसी और स्टॉक्स के बनाए पोर्टपोलिओ पर पड़ सकता है. अगर फेडरल रिजर्व और अन्य जी 7 केंद्रीय बैंक ग्रीड एंड फियर के अनुरूप मौद्रिक कसने पर फाइनेंशियल रेप्रेशन की नीतियों का समर्थन करते हैं.
बाजार के जानकारों के मुताबिक एक वैल्युएबल स्टॉक आमतौर पर वह होता है जो बाजार में चल रही औसत विकास दर की तुलना में काफी अधिक विकास दर के साथ आता है. इसका मतलब है कि शेयर बाजार में औसत स्टॉक की तुलना में ज्यादा तेज़ी से बढ़ता है. जिसके परिणामस्वरूप तेज दर से कमाई होती है. दूसरी ओर वैल्यू स्टॉक वे भी हैं जो अपनी अर्निंग्स और ग्रोथ पोटेंशियल की तुलना में अपेक्षाकृत लो मल्टीप्ल पर कारोबार कर रहे हैं.
यूएस फेड टेंपर टाइमिंग के बारे में बात करते हुए वुड का कहना है कि फाइव इयर फॉरवर्ड इन्फ्लेशन रेट इक्विटी फंड मैनेजरों की निगरानी के लिए महत्वपूर्ण है. जो बाजार में चलने वाले टेपरिंग डर के समय के संदर्भ में है और अभी के लिए यह “ग्रीड” से काफी नीचे है. और “फियर” 2.5% तनाव स्तर के रूप में संबंध रखता है. फाइव इयर फॉरवर्ड इन्फ्लेशन रेट मई के मध्य में हाल के उच्च 2.38% से घटकर 2.23% के स्तर पर आ गई है और इसका स्पष्ट रूप से मतलब है कि फेड ब्याज दरें बढ़ाने की जल्दी में नहीं होगा.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष