हाल की रैली के बाद भी RIL के शेयरों में और तेजी की उम्मीद

ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्टेनली के मुताबिक, डीकार्बनाइजेशन सॉल्यूशंस पेश करने की योजना से RIL सबसे बड़ी रिन्यूएबल इंफ्रा उत्पादक बन जाएगी.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - October 6, 2021 / 03:55 PM IST
हाल की रैली के बाद भी RIL के शेयरों में और तेजी की उम्मीद
RIL ने पिछले दशक में, प्रौद्योगिकी में लगभग 125 अरब डॉलर का निवेश किया हैं.

RIL Shares at 52-week High: तेल-से-टेलीकॉम सेक्टर तक कारोबार करती दिग्गज रिलायंस इंडस्ट्रीज के लिए वैश्विक ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्टेनली ने उत्साहित बयान दिया है. वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी मूल्य पर डीकार्बनाइजेशन सॉल्यूशंस पेश करने के लिए अपने ऊर्जा व्यवसाय को बदलने की रिलायंस की योजना का हवाला देते हुए मॉर्गन स्टेनली ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के स्टॉक के लिए 2,925 रुपये का लक्ष्य मूल्य निर्धारित किया है. दूसरी ओर, कंपनी के शेयरों ने 6 अक्टूबर को अपने 2,623 रुपये के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर को छुआ. बुधवार को BSE पर RIL के शेयर 1.87% यानी 48.90 रुपये गिरकर 2560.20 रुपये पर बंद हुए हैं.

डीकार्बोनाइजेशन का बाजार 2030 तक संभावित रूप से 5 ट्रिलियन डॉलर का कद हासिल करने की ओर आगे बढ़ रहा है. रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत के क्वार्ट्ज और सिलिकॉन संसाधनों का फायदा उठाते हुए चार गीगा-कारखाने बना रही है जो नवीकरणीय / वितरित ऊर्जा समाधानों के पूरे स्पेक्ट्रम की पेशकश करते हैं.

मॉर्गन स्टेनली ने कहा है कि हाइड्रोजन वैल्यू चेइन पर कंपनी का ध्यान ऊर्जा संचालन को डीकार्बोनाइज करने, बैटरी के साथ ऊर्जा भंडारण की तारीफ करने और संभावित रूप से ग्रीन अमोनिया निर्यात करने के महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करता है.

मॉर्गन स्टेनली ने कहा, “RIL का दृष्टिकोण इस मायने में अद्वितीय है कि यह यूरोपीय तेल कंपनियों की तरह इलेक्ट्रॉनों का एक उत्प्रेरक बनने के साथ ही, उनके उत्पादन पर कम ध्यान देने के साथ, और अमेरिकी प्रमुखों की तरह कार्बन जैसे सहक्रियात्मक डीकार्बोनाइजेशन क्षेत्रों (मौजूदा संचालन के साथ) पर ध्यान केंद्रित करेगा. इस योजना से RIL सबसे बडी रिन्यूएबल इंफ्रास्ट्रक्चर उत्पादक बन जाएगी और साथ में दुनिया के लिए एक वैकल्पिक प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ता बनने की क्षमता भी विकसित करेगी.”

मॉर्गन स्टेनली ने एक रिपोर्ट में कहा कि, पिछले दशक में, RIL ने प्रौद्योगिकी में लगभग 125 अरब डॉलर का निवेश किया है. “हमें लगता हैं कि हरित ऊर्जा बुनियादी ढांचे में निवेश अगले दशक में बेहतर प्रदर्शन की कुंजी है. हम उम्मीद करते हैं कि सिलिकॉन और हाइड्रोजन आरआईएल के लिए अगले दशक के ‘न्यू ओइल’ के रूप में उभरेंगे, अगर 2025 तक चीजें सही तरह से काम करती हैं, तो संभावित रूप से 60 अरब डॉलर तक का मूल्य सृजन होगा.”

हालांकि, बड़े घरेलू बाजार और सौर पैनलों और बैटरियों की सोर्सिंग में विविधता लाने पर वैश्विक फोकस को देखते हुए, आरआईएल के लिए बाजार हिस्सेदारी लेने में बाधा उतनी अधिक नहीं है, लेकिन चीन के खिलाफ लागत प्रतिस्पर्धा महत्वपूर्ण है. ब्रोकरेज का मानना है कि तरल धातु और तेजी से गिरती हाइड्रोजन इलेक्ट्रोलाइज़र की कीमतों जैसी अप्रयुक्त तकनीकों को अपनाना अन्य चुनौतियां हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष