पोर्टफोलियो को क्रैश होने से इस तरह बचाएं, जाने पूरी डिटेल

वैल्युएशन महंगा दिखाई देता है और मार्केट कैप-टू-जीडीपी भी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है जिससे सुधार की संभावना है.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - October 2, 2021 / 04:49 PM IST
पोर्टफोलियो को क्रैश होने से इस तरह बचाएं, जाने पूरी डिटेल
यह खासकर तब उपयोगी है यदि आपके पास बहुत अधिक इंटरेस्ट लोन है जैसे क्रेडिट कार्ड बैलेंस राशि या पर्सनल लोन जो ज्यादा ब्याज आकर्षित करते हैं

मार्च 2020 के बाद से लगातार शेयर मार्केट (Stock Market) में उछाल देखने को मिल रही है. सेंट्रल बैंक द्वारा उपलब्ध लिक्विडिटी की आंधी के कारण लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 100 लाख करोड़ रुपए से अधिक बढ़ गया है. कॉरपोरेट कमाई में तेजी, टीकेकरण की रफ्तार, कोरोना के कम मामले और तेजी से आर्थिक सुधार की उम्मीदें इसके पीछे के बड़े कारण हैं. हालांकि, कई शेयर बाजार (Stock Market) एक्सपर्ट सतर्क रहने की बात कर रहे हैं. क्योंकि वैल्युएशन महंगा दिखाई देता है और मार्केट कैप-टू-जीडीपी भी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है जिससे सुधार की संभावना है.

इक्विटी एक्सपर्ट्स ने हमेशा यह सुनिश्चित किया है कि निवेशकों को किसी भी समय पोर्टफोलियो में 5-10% सुधार के लिए तैयार रहना चाहिए. यहां हम बता रहे हैं कि आप खुद को मार्केट क्रैश से बचा सकते हैं. क्योंकि कुछ खास बातों का ध्यान रखकर अपने निवेश की सुरक्षा कर सकते हैं.

तो शुरू करते हैं, सबसे पहले तो हमें ये समझना होगा कि शॉर्ट टर्म डायरेक्शन की भविष्यवाणी करना असंभव है और इसलिए एक्सपर्ट्स का कहना है कि लॉन्ग टर्म के मायने में से हर समय निवेश में रहना महत्वपूर्ण है. उदाहरण के लिए, अगर किसी निवेशक ने मार्च 2020 के क्रैश में घाटा दर्ज किया होता, तो अगले दो तीन महीनों के लिए डर के कारण निवेशक खुद को सीमित कर लेता है. उन लोगों के बजाय जिन्होंने उस स्तर पर मार्केट में एक्स्ट्रा कैश का निवेश किया है, वे अच्छे मुनाफे पर बैठे हैं.

बाजारों को समय न दें

हमेशा ध्यान रखें कि हमेशा निवेश में बने रहें, मार्केट साइकल के अलग अलग सब-सेगमेंट जरिए उनके पोर्टफोलियो के बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा सकती है. इक्विटी मार्केट के उतार चढ़ाव को देखते हुए निवेश के मामले में रेगुलर और अनुशासित रहें.

पोर्टफोलियो बैलेंस बनाए रखें

एक विविध पोर्टफोलियो जो साइक्लिकल और नॉन साइक्लिकल सेक्टर बैलेंस रहता है, यह सुनिश्चित करता है कि अल्फा नॉन-स्टॉक स्पैसेफिक रिस्क फैक्टर से आसानी से अभिभूत न हो.

विविधता

पोर्टफोलिया में विवधता के कारण आप अपने निवेश को सुरक्षित बनाए रख सकते हैं. इसलिए एक ही बास्केट में अपने सभी स्टॉक्स नहीं रखने चाहिए. बल्कि इनका चयन रिस्क की भूख, डेट, फिक्स्ड इनकम, गोल्ड और रियल स्टेट के आधार पर होना चाहिए. स्टॉक का विभाजन आपको एक निवेश बचाव देगा और आपकी पूंजी की रक्षा करेगा.

इमरजेंसी फंड तैयार रखें

ये मार्केट क्रैश से बचाने के लिए सबसे बढ़िया सुरक्षात्मक तरीका है. निवेशकों के पास अच्छा सरप्लस के साथ इमरजेंसी फंड होना चाहिए, इससे आपको अपने निवेश को बेचने की जरूरत नहीं पड़ेगी और न ही नौकरी जाने और दूसरी इमरजेंसी की स्थिति में आपको बेचने से रोकेंगे. आदर्शरूप से, निवेशक के पास कम से कम 6 महीने का कैश मौजूद होना चाहिए, जो आपके जीवन को चलाने के जरूरी है.

अधिक लाभ न उठाएं

सबसे पहले, उधार के पैसे से शेयर बाजारों में निवेश न करें. एक बार जब आप मुनाफा कमा लेते हैं, तो आपकी पहली प्राथमिकता आपके किसी भी कर्ज को चुकाने की होनी चाहिए.यह खासकर तब उपयोगी है यदि आपके पास बहुत अधिक इंटरेस्ट लोन है जैसे क्रेडिट कार्ड बैलेंस राशि या पर्सनल लोन जो ज्यादा ब्याज आकर्षित करते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष