हालिया गिरावट के बाद क्या IRCTC के शेयर में लगाना चाहिए पैसा?

सितंबर 2021 में भारतीय रेलवे ने कुल 7.5 करोड़ पैसेंजर बुकिंग दर्ज की हैं जो कि प्री-कोविड लेवल की तुलना में 50% ऊपर है.

हालिया गिरावट के बाद क्या IRCTC के शेयर में लगाना चाहिए पैसा?
Q2FY22 तिमाही के लिए, बुकिंग तिमाही दर तिमाही के आधार पर 100% ज्यादा है और प्री-कोविड वॉल्यूम की तुलना में 15% ज्यादा है.

इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन जिसे IRCTC के नाम से जाना जाता है, ने चालू सप्ताह में अपने स्टॉक की कीमत में तेज गिरावट देखी. कंपनी के शेयरों ने अपने ऑल-टाइम हाई 6,396.30 रुपये से लगभग 30% की गिरावट दर्ज की, जो कि 19 अक्टूबर को 4,608.80 रुपये प्रति शेयर के मौजूदा स्तर पर पहुंच गई थी. तो अब सवाल यह है कि क्या हालिया करेक्शन के चलते इस स्टॉक को खरीदा जाना चाहिए?

स्वास्तिका इन्वेस्टमार्ट के रिसर्च हेड संतोष मीणा ने कहा, “फंडामेंटल अभी भी मजबूत हैं, लेकिन इस गिरावट से शेयर के वैल्यूएशन को लेकर चिंता है. इसलिए, हम एक टेक्निकल करेक्शन देख रहे हैं और 20- DMA (डेली मूविंग एवरेज) की ओर बढ़ सकते हैं, जो 4,500 रुपये के लेवल तक जा सकता है.”

सितंबर 2021 में, भारतीय रेलवे ने कुल 7.5 करोड़ पैसेंजर बुकिंग दर्ज की हैं जो कि प्री-कोविड लेवल की तुलना में 50% ऊपर और 2S बुकिंग को छोड़कर 7% ऊपर है. प्री-कोविड वॉल्यूम से ज्यादा पैसेंजर बुकिंग का यह पहला महीना है. Q2FY22 तिमाही के लिए, बुकिंग तिमाही दर तिमाही के आधार पर 100% ज्यादा है और प्री-कोविड वॉल्यूम की तुलना में 15% ज्यादा है.

डोलाट कैपिटल के VP राहुल जैन ने कहा, “प्रति टिकट 1.5x पैसेंजर के कंजरवेटिव लेवल और तिमाही के लिए 80% की इंटरनेट पैठ को मानते हुए, IRCTC ने Q2 में लगभग 11.2 करोड़ की टिकट बिक्री देखी, जबकि Q3FY20 में टिकट बिक्री 7.8 करोड़ थी और Q1FY22 में 64 करोड़. तिमाही के लिए EBIT मार्जिन 85% और सेगमेंटल EBIT 220 करोड़ रुपये था.”

ब्रोकरेज फर्म को उम्मीद है कि IRCTC की अर्निंग FY22-FY30E में 30% CAGR (कंपाउंडेड एनुअल ग्रोथ रेट) पर कंपाउंड हो जाएगी, क्योंकि इसे रिजर्व कैटेगरी में 2S को शामिल करने, रेवेन्यू नॉर्मलाइजेशन, प्राइसिंग में 60% बढ़ोतरी, रेल नीर की कैपेसिटी दोगुनी करने से और टूरिज्म को फिर से शुरू करने/टूर्स बढ़ाने/एयर बुकिंग/ट्रेन ऑपरेशन से टिकटिंग वॉल्यूम बढ़ाने में फायदा होगा. पेमेंट गेटवे के अलावा टिकटों की वसूली भी बढ़ रही है, OTA (ऑनलाइन ट्रैवल एजेंट) एजेंट की फीस और ई-कैटरिंग वॉल्यूम बढ़ा रहे हैं.

इस हाई ग्रोथ पोटेंशियल और बिजनेस सेगमेंट में एकाधिकार की स्थिति को देखते हुए, डोलाट कैपिटल 5,200 रुपये के टारगेट प्राइस के साथ स्टॉक पर अपना पॉजिटिव व्यू बनाए हुए है.

(डिस्क्लेमर: स्टॉक रिकमेंडेशन एक्सपर्ट या ब्रोकरेज फर्म द्वारा की गई हैं वेबसाइट या उसके मैनेजमेंट की ओर से नहीं. Money9.com निवेशकों को सलाह देता है कि कोई भी खरीद, बिक्री का निर्णय लेने से पहले सर्टिफाइड एडवाइजर से सलाह लें.)

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष