इस साल लॉन्च होंगे 70 और आईपीओ, निवेशकों के लिए है कमाई का अच्‍छा मौका

जैसे जैसे अर्थव्यवस्था वापस पटरी पर आ रही है और 75,000 करोड़ रुपये के आईपीओ के घटने की आशंका के साथ 2021-22 में अभी भी पाइपलाइन में हैं.

इस साल लॉन्च होंगे 70 और आईपीओ, निवेशकों के लिए है कमाई का अच्‍छा मौका
हाल के सालों में प्रति व्यक्ति आय में इजाफा हुआ है जिससे हाथ में अधिक डिस्पोजेबल आय आ गई है. इससे लोगों की मानसिकता में बदलाव आया है

बीते सात महीनों में हमने देखा कि 28 कंपनियां अपना आईपीओ (IPO) लेकर आईं और उन्होंने 42 हजार करोड़ रुपए जुटाए. जबकि आने वाले वक्त में 70 और आईपीओ (IPO) आने की तैयारी में हैं. इस साल हो सकता है कि बीते 15 सालों के डेटा की तुलना में सबसे ज्यादा आईपीओ लॉन्च हों. इनमें जोमैटो, तत्व चिंतन फार्मा, ग्लेनमार्क लाइफ साइंसेज आदि शामिल हैं.

हाल में लॉन्च आईपीओ को देखकर ऐसा लगता है कि उन्हें जनता का खूब प्यार मिल रहा है. बड़ी संख्या में निवेशकों ने हाल में अपना डीमैट अकाउंट खोला है. भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) के आंकड़ों से पता चलता है कि डीमैट अकाउंट खोलने का उनका मकसद सेकेंडरी मार्केट में निवेश करने और आईपीओ के लिए आवेदन दाखिल करने के लिए है. अप्रैल 2020 और जनवरी 2021 के बीच खोले गए नए डीमैट खातों की संख्या लगभग 10.7 मिलियन थी.

आईपीओ बूम

पिछले साल के प्रमुख बेंचमार्क से बेहतर प्रदर्शन करने वाले इक्विटी बेनेफिट ने इक्विटी में तेजी पैदा की है. तत्त्व चिंतन फार्मा, जीआर इंफ्रा, केमकॉन स्पेशलिटी केमिकल्स, हैप्पीस्ट माइंड्स जैसे आईपीओ शामिल है.

टेक्नोलॉजी, रूट मोबाइल, जीआर इंफ्राप्रोजेक्ट्स – और क्लीन साइंस एंड टेक्नोलॉजी, जिन्होंने लगभग 100 प्रतिशत की बढ़त हासिल की, वे यहीं नहीं रुके. इसके बाद भी उन्होंने निवेशकों को 2 गुना और 3 गुना रिटर्न देकर मालामाल किया है. यहां शीर्ष 5 लिस्टिंग और वर्तमान तिथि तक उनके रिटर्न पर एक नजर है.

नई उम्र की कंपनियां

जब हम जोमैटो जैसी किसी भी नए जमाने की कंपनियों को देखते हैं, जिसने 23 जुलाई को लगभग 53 प्रतिशत लाभ के साथ भारतीय बाजार में प्रभावशाली लिस्टिंग की, एमटीएआर टेक्नोलॉजी 575 रुपये के इश्यू मूल्य से 85% हासिल किया, बर्गर किंग 130.7% की भारी बढ़त के साथ शुरुआत हुई. नए दौर के व्यापार बुनियादी बातों के आधार पर 138.4 रुपये के इशु प्राइज से, निवेशकों ने अपने भविष्य के विकास और प्रॉफिटिबिलिटी पर दांव लगाया है, हालांकि ऐसी ही बराबर की तुलना संभव नहीं है, जो उनके लिस्टिंग लाभ से स्पष्ट है.

भारत के लिए एफआईआई का आना

भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) का इनफ्लो नीचे दिए गए चार्ट में दिखाया गया है. FDI और FII ने बाजार में जितना पैसा डाला है, उससे संकेत मिलता है कि यह कारण रिटेल निवेशकों की संख्या को इक्विटी में बढ़ा रहा है. यह इजाफा है क्योंकि फाइनेंशियल ईयर में FDI इक्विटी प्रवाह में 19% की इजाफा हुई. पिछले फाइनेंशियल ईयर की तुलना में 2020-21 ($ 59.64 बिलियन) 2019-20 (49.98 बिलियन अमेरिकी डॉलर).

व्यवहार कारक

निवेश के व्यवहार में बदलाव मुख्य बाजार को संचालित करता है. फिक्स्ड इनकम एसेट्स द्वारा प्रदान की गई कम ब्याज दरों ने डेट से शेयरों की ओर बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया. यह ज्यादातर युवा रिटेल निवेशकों के कारण है, जो तेज रिटर्न हासिल करने के साथ-साथ व्यवसायों की तेजी से विकास में भाग लेने की इच्छा रखते हैं.

प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि

हाल के सालों में प्रति व्यक्ति आय में इजाफा हुआ है जिससे हाथ में अधिक डिस्पोजेबल आय आ गई है. इससे लोगों की मानसिकता में बदलाव आया है, जिससे वे मार्केट में निवेश कर रहे हैं, जिससे अप्रत्यक्ष रूप से बाजार में इस तरह के आवेगपूर्ण कदम उठाए गए हैं.

निष्कर्ष

जैसे जैसे अर्थव्यवस्था वापस पटरी पर आ रही है और 75,000 करोड़ रुपये के आईपीओ के घटने की आशंका के साथ 2021-22 में अभी भी पाइपलाइन में हैं. पेटीएम, मोबिक्विक और दूसरी अन्य फर्म अभी आईपीओ लॉन्च करने के शुरुआती चरण में है. यह बाजारों और निवेशकों दोनों के लिए एक ट्रेंडी समय है.

(लेखक प्रोफिसिएंट इक्विटीज़ प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और डायरेक्टर हैं. ये लेखक के निजी विचार हैं)

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष