क्‍या होता है लोन टू वैल्यू रेश्यो, प्रॉपर्टी खरीदते समय इसे समझना क्यों है जरूरी? जानें डिटेल

हाई LTV रेश्यो, खरीदार के लिए फायदेमंद होता है. क्योंकि यह खरीदार के लोन को ज्यादा तेज प्रोसेस करता है. यह लंबे लोन टेन्योर व कम ब्याज का ऑफर देता है.

  • Himali Patel
  • Publish Date - October 22, 2021 / 01:51 PM IST
क्‍या होता है लोन टू वैल्यू रेश्यो, प्रॉपर्टी खरीदते समय इसे समझना क्यों है जरूरी? जानें डिटेल
TV लोन के आवेदक को गिरवी रखी गई संपत्ति के अधिकतम परसेंटेज के बारे में सूचित करता है, जो वह उधार ले सकता है.

लोन और मॉर्टगेजेस से कई शब्द जुड़े हुए हैं, जैसे हाउस लोन, प्रोजेक्ट फाइनेंस, गोल्ड लोन और ऑटो लोन आदि. वैल्यू रेश्यो के लिए लोन (LTV अनुपात के रूप में भी जाना जाता है) ये ऐसा ही एक जरूरी शब्द है. तो आइए LTV रेश्यो को समझते हैं. आप लोन-टू-वैल्यू अनुपात (LTV ) या लोन-टू-कॉस्ट अनुपात (LTC) के आधार पर उधार ली जा सकने वाली लोन राशि की कैलकुलेशन कर सकते हैं. यह मार्केट वैल्यू और सिक्योर्ड लोन के मामले में गिरवी रखी गई जमानत की लिक्विडिटी के आधार पर अधिकतम लोन अमाउंट को परिभाषित करता है.

सीधे शब्दों में कहें तो लोन लेने वाला अपनी संपत्ति पर दावा देते हैं, अगर वो लोन चुकाने में असमर्थ रहते हैं. LTV लोन के आवेदक को गिरवी रखी गई संपत्ति के अधिकतम परसेंटेज के बारे में सूचित करता है, जो वह उधार ले सकता है.

कैसे किया जाता है कैलकुलेशन?

लोन टू वैल्यू अनुपात इस तरह से कैलकुलेट किया जाता है: LTV = (लोन की राशि/आवेदक की संपत्ति की वैल्यू)x 100

यदि कोई उधार लेने वाला 50 लाख रुपये की संपत्ति पर तत्काल लोन मांगता है और बैंक या लोन देने वाले 40 लाख रुपये की राशि पर राजी हो जाते हैं, तो LTV अनुपात इस प्रकार होगा: LTV = (40 लाख रुपये / 50 लाख रुपये) x 100 = 80%.

ऊपर दिए गए उदाहरण के अनुसार, लोन देने वाला 40 लाख रुपये मंजूर करेगा। गिरवी रखी गई संपत्ति की वैल्यू का मूल्यांकन करने के बाद लोन देने वाले बैंक या अन्य संस्थान एलटीवी की कैलकुलेशन करते हैं.

उदाहरण के लिए, यदि गिरवी रखी गई संपत्ति एक प्रीमियम स्थान पर है, तो संपत्ति द्वारा सिक्योर्ड लोन राशि अधिक मिल सकती (75% – 80%) है. दूसरी ओर, पुरानी संपत्तियां जिन्हें बेचना अधिक कठिन हो सकता है या जिनके मूल्य में गिरावट आ सकती है, उन पर कम लोन मंजूर होता है.

उधार लेने वालों के लिए इसके क्या हैं मायने

खरीदार के लिए एक हाई LTV अनुपात ज्यादा फायदेमंद है, क्योंकि यह खरीदार के लोन की प्रोसेस को तेज करता है. शुरुआती स्तर पर लोन लेने वाले को बड़ी राशि प्राप्त होती है, जिससे उधार लेने वाला तुरंत उस टारगेट की ओर आगे बढ़ जाता है जिसके लिए लोन ले रहा है. इसके अतिरिक्त, हाई LTV लोन वालों को लंबे लोन टेन्योर अवधि और कम ब्याज दर पर बातचीत करने में सक्षम बनाता है.

उधार देने वालों के लिए क्‍या है फायदे

लोन देने वालों के नजरिए से कम LTV बेहतर है क्योंकि लोन लेने वाला खुद पैसों की व्यवस्था करता है, जिसका मतलब हुआ कि लोन लेने की ओर से मजबूत प्रतिबद्धता मिलती है. हालांकि, उधार देने वाले का वादा होता है कि ज्यादा LTV अनुपात के जोखिम को कम करने के लिए ब्याज दरें ज्यादा होती हैं.

हालांकि, सतर्क पक्ष पर, उधारदाताओं का मानना है कि मूल्य में डेप्रिसिएशन वाली पुरानी संपत्ति उनके लिए डिफॉल्ट के वक्त दोबारा बेचे जाने की स्थिति में एक समस्या बन सकती है. ऐसे हालातों लोन आवेदन को पूरी तरह से अस्वीकार किया जा सकता है.

आखिरी बात

LTV अनुपात लोन देने के जोखिम को निर्धारित करने के लिए एक महत्वपूर्ण संकेतक है. जो लोन लेने वालों की जरूरतों को पूरा करता है. लोन आवेदक के प्रस्ताव का मूल्यांकन करते समय, गिरवी रखी संपत्ति और लोन की मांग का विश्लेषण करता है. इस प्रकार, LTV अनुपात की नजर से दोनों पक्षों के आकलन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है.

 

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष