इंडीविजुअल हेल्थ पॉलिसी और फैमिली फ्लोटर प्लान से जुड़ी उलझन करें दूर, जानिए क्या है अंतर

कई लोगों के लिए यह तय करना मुश्किल है कि आखिर कौन सा हेल्थ इंश्योरेंस प्लान लेना चाहिए. इंडीविजुअल या फैमिली फ्लोटर प्लान.

  • Vijay Parmar
  • Publish Date - October 28, 2021 / 12:02 PM IST
इंडीविजुअल हेल्थ पॉलिसी और फैमिली फ्लोटर प्लान से जुड़ी उलझन करें दूर, जानिए क्या है अंतर

Individual Health Insurance Vs Family Floater Plan: बढ़ते खर्चे और मेडिकल महंगाई से लड़ने के लिए बेहतर हैं आप पहले से हेल्थ इंश्योरेंस लेकर रखें. इससे अस्पतालों के खर्च की चिंता काफी हद तक कम हो जाती है, लेकिन इसमें भी एक चुनौती है कि आखिर कौन सा हेल्थ इंश्योरेंस इंडिविजुअल हेल्थ कवर लिया जाए या फैमिली फ्लोटर प्लान. नाम से ही पता चलता हैं कि इंडिविजुअल प्लान के तहत सिर्फ एक व्यक्ति को मेडिकल कवर मिलता है, जबकि फैमिली फ्लोटर के जरिए अपने परिवार को हेल्थ सिक्योरिटी दे सकते हैं. इन दोनों में से आपके लिए कौन सा विकल्प सही है ये पता करने के लिए आपको कुछ बातों पर विचार करना होगा.

इंडीविजुअल हेल्थ इंश्योरेंस

इंडीविजुअल हेल्थ इंश्योरेंस का मतलब है कि परिवार के सभी सदस्यों के लिए अलग इंश्योरेंस कवर और सबके लिए स्थिति के मुताबिक कवरेज.

फैमिली फ्लोटर प्लान

इसके तहत सिर्फ एक हेल्थकेयर प्लान में ही माता-पिता, पत्नी और बच्चों को हेल्थ कवर दे सकते हैं. परिवार का कोई भी सदस्य इस प्लान के कवर का इस्तेमाल कर सकता है. अगर आपने 6 लाख का फैमिली हेल्थ प्लान लिया है तो परिवार का कोई भी सदस्य इस पूरी लिमिट का इस्तेमाल कर सकता है.

इंडिविजुअल हेल्थ प्लान के फायदे

– अगर किसी विपरीत परिस्थिति में अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आन पड़ी तो हेल्थ पॉलिसी के तहत कैशलेस बेनेफिट ले सकते हैं. इसके तहत अस्पताल के खर्चों के लिए कोई भुगतान नहीं करना पड़ता और स्वास्थ्य बीमा कंपनी इसका भुगतान करती है.
– कई इंश्योरेंस कंपनियां अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में हर दिन के खर्चे उपलब्ध कराती है. हालांकि यह बेनेफिट तभी मिलता है जब स्वास्थ्य बीमा कंपनी द्वारा निर्धारित न्यूनतम दिनों तक अस्पताल में भर्ती हों.
– अगर आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में निवेश करते हैं तो इसके लिए प्रीमियम के भुगतान पर आयकर अधिनियम के सेक्शन 80D के तहत टैक्स डिडक्शन का लाभ ले सकते हैं.

फैमिली फ्लोटर प्लान के फायदे

– इंडीविजुअल इंश्योरेंस पॉलिसीज की तुलना में फैमिली फ्लोटर प्लान के तहत अधिक समय इंश्योर्ड का विकल्प मिलता है और अधिक कवरेज मिलता है. आमतौर पर इसके तहत इंडिविजुअल, पति/पत्नी और बच्चे को कवर मिलता है लेकिन कुछ बीमा कंपनियां इसमें आप पर निर्भर माता-पिता, भाई-बहन और सास-ससुर के भी कवरेज का विकल्प देती है.
– फैमिली फ्लोटर प्लान के प्रीमियम के भुगतान पर आयकर अधिनियम के सेक्शन 80D के तहत टैक्स डिडक्शन का लाभ ले सकते हैं. इसके अलावा अगर अपने माता-पिता के लिए भी प्रीमियम का भुगतान करते हैं तो टैक्स बेनेफिट दोगुना हो सकता है.
– फैमिली फ्लोटर प्लान के तहत परिवार को अधिकतम मेडिकल कवरेज मिलता है. इसमें हॉस्पिटलाइजेशन फीस, डॉक्टर कंसल्टेशंस, मेडिकिल प्रोसिजर्स एक्सपेंसेज, हॉस्पिटल स्टाफ केयर, एंबुलेंस कवर और अन्य खर्चों को शामिल किया जाता है. इसके अलावा कुछ बीमा कंपनियां पूरे परिवार के लिए सालाना मेडिकल चेकअप का भी बेनेफिट देती हैं.
– फैमिली फ्लोटर प्लान के तहत किसी नए पारिवारिक सदस्य को जोड़ना आसान है.
– कुछ बीमा कंपनियां अब दो साल के लिए भी कवर का विकल्प उपलब्ध करा रही हैं. इसका मतलब हुआ कि आपको प्रीमियम में किसी बदलाव के बिना लगातार इंश्योरेंस कवर मिलेगा.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष