Motor Insurance की कीमत से हैं परेशान? ये है लागत को घटाने का सही तरीका

Motor Insurance Cost: मोटर व्हीकल एक्ट के मुताबिक, ये अनिवार्य है कि हर वाहन मालिक को अपने वाहन के लिए मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी को खरीदना होगा.

Motor Insurance की कीमत से हैं परेशान? ये है लागत को घटाने का सही तरीका
थर्ड पार्टी कवर के अलावा, मोटर बीमा में ओन डैमेज कवर भी होता है. इसमें स्वयं से वाहन को हुए नुकसान की भरपाई की जाती है.

Motor Insurance Cost: जिंदगी में वाहन खरीदना एक बड़ी बात होती है. हर व्यक्ति को अपने वाहन से खास लगाव होता है, खासकर अगर वो उसकी पहली बाइक या कार हो तो. इसलिए उसकी सुरक्षा के लिए अच्छा इंश्योरेंस कवर लेना बहुत जरूरी है. यदि आप इस फैक्ट तथ्य से अनजान हैं कि आपके वाहन को एक कंप्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस कवर के रूप में महत्वपूर्ण सुरक्षा की जरूरत है, तो आपको इसके बारे में और जान लेना जरूरी है. किसी भी दुर्घटना के मामले में मोटर इंश्योरेंस बेहद जरूरी होता है. ये आपको आर्थिक रूप से मजबूत बनाता है और जेब पर आने वाले खर्च को कम करता है.

अब, कार की कीमतों में इजाफे का सीधा असर मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी की लागत पर पड़ता है, लेकिन अगर कुछ अतिरिक्त रुपए खर्च करने से आपको अपने वाहन की भलाई के लिए गारंटीकृत फाइनेंशियल आश्वासन मिलता है, तो यह कोई बुरा सौदा नहीं है. हालांकि, आपकी मोटर बीमा लागत को भी कम करने के कुछ तरीके हैं. आइए उन पर एक नजर डालते हैं.

कीमतों की तुलना करें

मोटर व्हीकल एक्ट के मुताबिक, ये अनिवार्य है कि हर वाहन को भारत में मोटर इंश्योरेंस खरीदना होगा. किसी को ऐसी पॉलिसी में निवेश करने का निर्णय लेना चाहिए जो लागत प्रभावी हो और महत्वपूर्ण कवरेज भी देती हो.

लेकिन आप ऑनलाइन उपलब्ध ढेर सारे विकल्पों में से सबसे बढ़िया मोटर बीमा पॉलिसी की तुलना और चयन कैसे करते हैं? उनमें से कुछ पूरी तरह नकली हो सकते हैं या पर्याप्त विश्वसनीयता की कमी हो सकती है.

बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस में रिटेल अंडरराइटिंग के प्रमुख गुरदीप सिंह बत्रा ने कहा “मोटर बीमा पॉलिसी ऑनलाइन खरीदना मुख्य रूप से आपकी पॉलिसी जारी करने के लिए एक तात्कालिक और डॉक्यूमेंटेशन रहित प्रोसेस है. जो तेज और आसान भी लग सकती है.

हालांकि, ऑनलाइन धोखाधड़ी के शिकार होने से बचने के लिए, ग्राहकों को सीधे इंश्योरेंस कंपनी की सुरक्षित वेबसाइट से पॉलिसी खरीदना चाहिए.

इंश्योरेंस पॉलिसी एक प्रतिष्ठित इंश्योरेंस कंपनी से एक स्वस्थ क्लेम के निपटान अनुपात के साथ खरीदी जानी चाहिए. इंश्योरेंस कंपनी के पास एक अच्छा नेटवर्क गैरेज और डिजिटल सपोर्ट सिस्टम भी होना चाहिए जो किसी भी अप्रत्याशित हालात की स्थिति में मददगार साबित हो. ”

इसलिए सलाह दी जाती है कि पॉलिसी फीचर, प्रीमियम कॉस्ट, इंश्योर्ड डिक्लेयर्ड वैल्यू आदि की तुलना की जानी चाहिए. सीधे बीमा कंपनियों की वेबसाइटों से और छोटे डीलरों को शामिल करने के बजाय पॉलिसी को ऑनलाइन खरीदना चाहिए.

ऐड-ऑन से बढ़ती हैं कीमतें

जबकि कुछ ऐड-ऑन जैसे जीरो डेप्रिसिएशन और रोड साइड असिस्टेंस जरूरत के समय में बेहद मददगार हो सकते हैं. अपनी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी को बढ़ाने के लिए उपलब्ध विभिन्न राइडर्स में से चुनते समय ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए.

ऐसा इसलिए है क्योंकि ऐड-ऑन आपकी पॉलिसी के ओवरऑल प्रीमियम कीमत को बढ़ा देते हैं.

बत्रा के मुताबिक “स्पेसिफिक एडिशनल जरूरतों के आधार पर ग्राहकों द्वारा मोटर इंश्योरेंस ऐड-ऑन को चुनना चाहिए, जो आपके वाहन के लिए एक पूर्ण सुरक्षा पॉलिसी के रूप में भी काम करता है.

ऐड-ऑन हालांकि ग्राहकों के लिए ऑप्शनल है, लेकिन यह ग्राहक के वाहन को कम कीमत पर अच्छा कवरेज प्रदान करता है.”

NCB का रोल

नो क्लेम बोनस या एनसीबी पॉलिसी अवधि के दौरान अच्छी ड्राइविंग के चलते कोई क्लेम नहीं करने के लिए इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा ग्राहकों को दी गई छूट की तरह है.

एनसीबी छूट तब आपके स्वयं के नुकसान प्रीमियम पर लागू होती है जो आपके ओवरऑल प्रीमियम में एक महत्वपूर्ण कमी हो सकती है.

बत्रा के मुताबिक “मामूली खरोंच/नुकसान के लिए मोटर इंश्योरेंस क्लेम के मामले में, ग्राहक मामूली नुकसान के मूल्य का वैल्यूएशन कर सकते हैं. लेकिन NCB से जो लाभ उन्हें प्रीमियम पर मिलेगा, वो ग्राहक खो देगा.

यदि नुकसान का मूल्य कम है, तो आप क्लेम नहीं करने का विकल्प चुन सकते हैं और आखिरकार पॉलिसी रिन्यूवल के दौरान खुद के नुकसान प्रीमियम को कम करने के लिए एनसीबी छूट लाभ का उपयोग कर सकते हैं.”

एनसीबी के जरिए इन बचतों का उपयोग ग्राहक प्रासंगिक ऐड-ऑन खरीदने और बेहतर सुरक्षा के लिए कवरेज बढ़ाने के लिए कर सकते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष