इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने में इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो लग सकता है चूना

इरडा कहता है कि ग्राहकों को बीमा कंपनी, इंटरमीडिएरी या एजेंटों की वास्‍तविकता को जांच लेना चाहिए. जांच के बाद ही ऑनलाइन पेमेंट के बारे में सोचना चाहिए

  • Paurav Joshi
  • Updated On - September 14, 2021 / 12:58 PM IST
इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने में इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो लग सकता है चूना
आप या तो इन प्लान को खरीद सकते हैं या बेसिक और टॉप-अप प्लान के कॉम्बिनेशन के लिए जा सकते हैं. एक टॉप-अप प्लान के तहत, डिडक्टिबल की समाप्ति के बाद कवरेज शुरू होता है

कोरोना संकट (Covid Crisis) में हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी (health insurance policy) का न होना एक बड़े खतरे का संकेत है. मेडिकल इमजेंसी के दौरान ये इंश्योरेंस हमें भारी भरकम खर्च से बचाने में मदद करता है. आज के दौर में लोग हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को सबसे अधिक महत्व दे रहे हैं. लेकिन इससे धोखाधड़ी भी काफी होती है और आपको लाखों का नुकसान हो सकता है. ऐसे में आपको इसे खरीदते समय कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए.

मिस सेलिंग के जरिए होती है धोखाधड़ी

मिस सेलिंग के जरिए कंपनियां ग्राहकों से धोखाधड़ी करती हैं. मिस सेलिंग में बीमा या किसी भी उत्पाद को ऐसी वजहें या लाभ बताकर बेचा जाता है, जो कि वास्तव में उसमें शामिल नहीं होती.

एजेंट के बहकावे में न आएं

ग्राहकों के लिए उपयोगी न होने पर भी उन्हें प्रोडक्ट बेचा जाता है. इतना ही नहीं, किसी प्रोडक्ट से जुड़े जोखिमों को छुपाकर, ग्राहक को उसके लिए जरूरी जानकारियां न देकर या गलत सलाह देकर प्रोडक्ट बेचने की प्रवृत्ति भी अकसर देखने को मिलती है.

बीमा कंपनी को कॉल करें

आजकल सभी बीमा कंपनियों के 24 घंटे वाले टोल फ्री नंबर उपलब्ध हैं. बीमा उत्पाद के बारे में हर तरह के स्पष्टीकरण के लिए आपको इन नंबरों पर कॉल कर सभी जरूरी जानकारियां प्राप्त कर लेनी चाहिए.

केवल इन्ही वेबसाइट से खरीदें इंश्योरेंस

कई फर्जी संस्‍थान डिजिटल माध्‍यम से बेहद कम प्रीमियम पर इंश्‍योरेंस पॉलिसी का लालच दे रहे हैं. ऐसे किसी झांसे में फंसने से उन्‍हें बचना चाहिए. उन्‍हें केवल निम्‍नलिखित संस्‍थानों से ही इंश्‍योरेंस पॉलिसी खरीदनी चाहिए:
1. इरडा से पंजीकृत बीमा कंपनियां
2. इरडा से पंजीकृत इंश्‍योरेंस इंटरमीडिएयरी जिन्‍हें ऐसा कारोबार करने की इंजाजत है
3. इंश्‍योरेंस कंपनियों के नियुक्‍त बीमा एजेंट.

पॉलिसी का पेमेंट करने से पहले चेक करें ये बातें

इरडा कहता है कि ग्राहकों को बीमा कंपनी, इंटरमीडिएरी या एजेंटों की वास्‍तविकता को जांच लेना चाहिए. जांच के बाद ही ऑनलाइन पेमेंट के बारे में सोचना चाहिए. नियामक ने कहा कि और अधिक जानकारी के लिए इरडा की कंज्‍यूमर एजुकेशन वेबसाइट http://www.policyholder.gov.in/ पर ग्राहक जा सकते हैं.

कौन-सी पॉलिसी और कैसे खरीदें

बीमा पॉलिसी के प्रीमियम, क्लेम सेटलमेंट रेश्यो, कवर की तुलना आपको करनी चाहिए. इसके लिए आप वेबसाइट की सहायता ले सकते हैं. इसके लिए आजकल कई वेबसाइट हैं जिससे आप तुलना कर सकते है. इसके बाद पॉलिसी के फीचर और बीमा की अपनी जरूरत के अनुसार पॉलिसी खरीद सकते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष