वरिष्ठ नागरिकों को वित्तीय संपत्तियों में विविधीकरण पर ध्यान देने की जरूरत

Interest rates: जो लोग सेवानिवृत्त हो चुके हैं वे जोखिम के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं. क्योंकि वे मुख्य रूप से अपनी बचत पर निर्भर करते हैं.

वरिष्ठ नागरिकों को वित्तीय संपत्तियों में विविधीकरण पर ध्यान देने की जरूरत
8 अप्रैल 2022 तक सीनियर सिटीजन ICICI बैंक की गोल्डन FD की सुविधा का आनंद ले सकते हैं.

Interest rates: हाल ही में आरबीआई ने एक दिलचस्प वर्किंग पेपर निकाला. जिसमें एक HANK मॉडल का इस्तेमाल किया गया था, जो बताता है कि ब्याज दरें (Interest rates) अनुमान से अधिक समय तक कम हो सकती हैं, उन लोगों के लिए जो रुचि रखते हैं. HANK का अर्थ है – heterogeneous agent new Keynesian model.

नॉमिनल ब्‍याज दरें आगे बढ़ने के लिए आदर्श होंगी

यह अच्छा है, क्योंकि हम में से कई लोग 2018 से 2019 के अंत तक गलत तरीके से मौद्रिक नीति से उत्पन्न जोखिमों के बारे में बात कर रहे हैं. ब्याज दरों के कम रहने की उम्मीद है.

यह इस समझ को भी दिखाता है कि महामारी के बाद मुद्रास्फीति मौन रहेगी. इस प्रकार, नॉमिनल ब्‍याज दरें आगे बढ़ने के लिए आदर्श होंगी.

जैसा कि पहले के एक लेख में कहा गया है, हम नॉमिनल ब्‍याज दर के बजाय वास्तविक ब्याज दरों से अधिक चिंतित हैं. इसलिए, मुद्रास्फीति और मामूली दरों में कमी के परिणामस्वरूप अभी भी पहले की तुलना में उच्‍च वास्‍तविक दर प्राप्त हो सकती है.

कम दरों का युवाओं पर प्रभाव पड़ेगा

तुलनात्‍मक रूप से उच्च से निम्न ब्याज दर वाली अर्थव्यवस्था में परिवर्तन दिलचस्प है. खासकर उन लोगों के लिए जो अपनी बचत या धन को रखने के लिए बैंक डिपॉजिट को प्रमुख साधन के रूप में पसंद करते हैं, जो रिटायर्ड हो चुके हैं.

इसी तरह, कम दरों का भी युवाओं पर प्रभाव पड़ेगा. क्योंकि वे अपनी बचत के प्रबंधन के लिए अपनी रणनीति का पुनर्मूल्यांकन करते हैं.

अंतर यह है कि युवाओं के लिए जोखिम लेने की क्षमता अधिक होती है और इस प्रकार कई लोग अपने पैसे का एक हिस्सा शेयर बाजारों में जमा कर सकते हैं.

यह या तो सीधे शेयर खरीदकर हो सकता है या म्यूचुअल फंड, एसआईपी और/या ऐसे किसी अन्य निवेश को खरीद सकता है. ये निवेश अच्छे रिटर्न देंगे, भले ही वे अधिक जोखिम के साथ आते हों.

जो लोग सेवानिवृत्त हो चुके हैं वे ऐसा करने के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं. क्योंकि वे मुख्य रूप से अपनी पिछली आय (बचत) पर निर्भर करते हैं.

वरिष्ठ नागरिक ब्याज आय पर निर्भर हैं

मुद्रास्फीति समयोजित शर्तों में वे अपने शार्ट टर्म डिपॉजिट पर करीब 0.50-1 प्रतिशत के वास्‍तविक रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं. जबकि लंबी अवधि उन्हें थोड़ा बेहतर रिटर्न दे सकती है.

यह देखते हुए कि बहुत से वरिष्ठ नागरिक ब्याज आय पर निर्भर हैं, अपने धन को फ‍िक्‍सड टूल्‍स में जमा करना अच्छा विचार है. पारंपरिक एफडी के अलावा, वे विभिन्न बांडों में भी निवेश कर सकते हैं, जैसे कि NHAI बांड या अन्य ऐसे टूल्‍स जो हाई रिटर्न प्रदान करते हैं और जो कर योग्य हैं.

NHAI बांड के साथ लाभ यह है कि यह काफी हद तक पूंजीगत लाभ कर के एक हिस्से को ऑफसेट करने में मदद करता है. जबकि निश्चित आय के साधन जैसे बांड पोर्टफोलियो में विविधता लाने का एक अच्छा तरीका है.

हालांकि यस बैंक के एटी 1 बॉन्ड जैसे मामलों में सावधान रहना होगा. वरिष्ठ नागरिकों को वित्तीय संपत्तियों में विविधीकरण पर ध्यान देने की जरूरत है.

हमें यह महसूस करना चाहिए कि उच्च छोटी बचत दरों की पेशकश करके समर्थन प्रदान करने का पारंपरिक मैकेनिज्‍म कई कारणों से परेशानी भरा है.

हाई स्‍माल सेविंग दरों की नीति के पीछे का उद्देश्य बुजुर्गों को किसी प्रकार की आय सहायता प्रदान करना है. हालांकि, ब्याज दरें शायद इस तरह का समर्थन प्रदान करने का सबसे खराब तरीका है, क्योंकि यह कॉरपोरेट्स के लिए पूंजी की लागत को बढ़ाता है. जिससे आर्थिक गतिविधि प्रभावित होती है.

ब्याज राशि के लिए कर-मुक्त हस्तांतरण

इन छोटी बचत दरों को रेपो रेट से जोड़ा जाना चाहिए, लंबे समय से तर्क दिया गया है. सवाल यह है कि क्या राज्य अन्य नीतिगत साधनों के माध्यम से बुजुर्गों को सहायता प्रदान कर सकता है? इसका उत्तर हां है.

उच्च कर कटौती और सीधे उनके बैंक खाते में नकद हस्तांतरण का संयोजन हमारे बुजुर्गों को आय सहायता प्रदान करने का एक बेहतर तरीका होगा.

यानी सरकार सभी वरिष्ठ नागरिकों को नॉमिनल दरों के अधिक होने की स्थिति में प्राप्त होने वाली अतिरिक्त ब्याज राशि के लिए कर-मुक्त हस्तांतरण कर सकती है.

अतिरिक्त बचत को मुख्य रूप से छोटे बचत साधनों में निवेश करने से हतोत्साहित करने के लिए मासिक हस्तांतरण राशि की एक सीमा हो सकती है.

ऐसी स्थिति में कुल हस्तांतरण राशि की गणना आसानी से की जा सकती है  और वरिष्ठ नागरिकों को समान रिटर्न मिलने पर भी नॉमिनल दरें कम होने देंगी.

यह कदम सकारात्मक रूप से सबसे अच्छा होगा, क्योंकि सरकार पहले से ही इस राशि को खर्च कर रही है.

सामान्य तौर पर कम मुद्रास्फीति सभी के लिए अच्छी होगी. हालांकि, मुख्य रूप से ब्याज आय पर निर्भर लोगों के लिए नॉमिनल रिटर्न उन्हें अन्य वित्तीय साधनों की तलाश में धकेल सकता है.

नीतिगत समर्थन इसमें से कुछ को कम कर सकता है और ऐसी स्थिति से बच सकता है जिससे निवेशक अपने रिस्‍क प्रोफाइल को पूरी तरह से पहचाने बिना रिस्‍की एसेट में अपने धन को जमा कर देते हैं.

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।