क्रिकेट का अनोखा ऐप बनाने वाले 3 दोस्तों की कहानी, एक छोटे से आइडिया को बनाया 65 करोड़ का कारोबार

दुनिया भर के 95 लाख शौकिया क्रिकेटर्स को इंटरनेशनल क्रिकेटर्स जैसा डेटा देने वाले इस ऐप को क्रिकेट की दुनिया का फेसबुक कह सकते हैं.

  • Vijay Parmar
  • Publish Date - October 4, 2021 / 03:43 PM IST
क्रिकेट का अनोखा ऐप बनाने वाले 3 दोस्तों की कहानी, एक छोटे से आइडिया को बनाया 65 करोड़ का कारोबार
CricHeroes के फाउंडर्सः अभिषेक देसाई, कुंतल शाह और मीत शाह.

सचिन, धोनी या कोहली जैसे बड़े क्रिकेटर्स कि तरह शौकिया खिलाड़ी भी अपने क्रिकेट स्कोर का इतिहास केवल एक क्लिक पर देख सकते हैं, फिर चाहे वे गली क्रिकेटर हो, या यूनिवर्सिटी क्रिकेटर या स्टेट लेवल के क्रिकेटर, और यह मुमकिन है CricHeroes ऐप की वजह से. क्रिकेट की दुनिया में धूम मचा रही इस ऐप की लोकप्रियता इतनी बढ़ चुकी है कि केवल 5 साल में 75 देशों में इसके 95 लाख से भी ज्यादा क्रिकेटर्स इसके सब्सक्राइबर्स हैं. अहमदाबाद के तीन दोस्तों ने एक साधारण स्कोरकीपिंग ऐप के रूप में इसकी शुरूआत की थी, जो अब जमीनी स्तर पर शौकिया क्रिकेटर्स द्वारा खेले जाने वाले क्रिकेट के तरीके को बदलने का और सभी हितधारकों को जोड़ने का काम कर रहा है. इस ऐप की वैल्यूएशन 65 करोड़ रुपये है और इस साल 3.5 करोड़ रुपये का टर्नओवर दर्ज करने दिशा में आगे बढ़ रहा है.

कैसे हुई शुरुआत

दुनिया भर में 16 साल से ज्यादा उम्र वाले करीब 30 करोड़ लोग क्रिकेट खेलते हैं. ये मार्केट काफी बड़ा है और इतने बड़े बाजार में ग्रोथ की कई गुना संभावना को देखते पूर्व सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभिषेक देसाई (39 वर्ष), गुजरात अंडर-23 के पूर्व बल्लेबाज मीत शाह (28 वर्ष) और व्यवसायी कुंतल शाह (39 वर्ष) ने CricHeroes को बनाया है.

अभिषेक देसाई money9 को बताते हैं, “हम केवल स्कोरिंग एप नहीं बनाना चाहते थे. हमारा इरादा पहले से ही इसे एक नेटवर्क के रूप में डेवलप करने का था और क्रिकेट के प्रत्येक हितधारक (व्यवसाय और पेशेवर) को एक-दूसरे से जोड़ने का था. हमारी ऐप से गली से लेकर बड़े टूर्नामेंट में खेलने वाले क्रिकेटर्स अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकते हैं, अपनी उपलब्धियों के लिए आयोजकों से मान्यता प्राप्त कर सकते हैं और एक बेहतर क्रिकेटर बनने की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं.”

नए आइडियाज

निरमा यूनिवर्सिटी के कम्यूटर इंजीनियर देसाई ने बताया, “इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मैंने 2004 में अपने दोस्तों के साथ एक सॉफ्टवेयर कंपनी डिजिकॉर्प शुरू की, जो अच्छा कमा लेती थी, लेकिन अपने लिए कुछ अलग करने की चाहत में मैंने 2007 में पेटपूजा नाम से एक ऐप बनाया जिसमें अहमदाबाद के लोग 100 से ज्यादा रेस्टोरेंट से खाना ऑर्डर कर सकते थे. लेकिन एक या दो साल के भीतर, हमने इसे बंद कर दिया गया और डिजिकॉर्प को फिर से शुरू किया.”

CricHeroes का आइडिया कैसे आया

देसाई बताते हैं कि 2016 में एक दिन वे चाय की दुकान पर बैठे थे, उसी समय पास के मैदान पर क्रिकेट खेल रहे कुछ खिलाड़ी आए और क्रिकेट के स्कोर, हार और जीत पर चर्चा करने लगे, लेकिन यह चर्चा बिना डेटा के हो रही थी. कभी-कभी ये चर्चाएं गर्म हो जाती हैं क्योंकि क्रिकेटर्स मौजूदा फॉर्म, प्रदर्शन आदि को बहुत गंभीरता से लेते हैं. लेकिन दुर्भाग्य से, इनमें से अधिकांश चर्चा बिना किसी डेटा के होती है क्योंकि या तो स्कोरिंग नहीं की जाती है या पेपर-आधारित स्कोरशीट पर की जाती है.

उन्होंने कहा, “हम भी क्रिकेट खेलते थे, और हमने स्कोरिंग को लेकर ऐसी ही समस्या का सामना किया था, जिसे हल करने के उद्देश्य से CricHeroes की शुरुआत हुई.”

मैंने उस वक्त की मौजूदा स्कोरिंग ऐप्स का उपयोग करना शुरू कर दिया लेकिन मुझे खुद किसी भी एप्लिकेशन में मजा नहीं आया, क्योंकि ज्यादातर ऐप्स को इस्तेमाल करना काफी मुश्किल था, तो उससे मुझे यह विचार आया कि यह एक समस्या को हल करने जैसा है.

ऐसे तैयार हुआ बिजनेस प्लान

देसाई बताते हैं कि उन्होंने अहमदाबाद के क्रिकेटर्स के बीच जाकर सर्वे किया और पाया कि हर क्रिकेटर की यही समस्या है. फिर देसाई ने एक बिजनेस प्लान तैयार किया और उनके दोस्तों एवं परिवार को दिखाया और ऐसे उन्हें CricHeroes के लिए सीड फंड मिला. देसाई और दूसरे फाउंडर्स ने अब तक CricHeroes में 1 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

CricHeroes को पहली बार 17 अक्टूबर 2016 को गुजरात यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित 50 मैचों की टूर्नामेंट में स्कोर करने का मौका मिला और फिर माउथ पब्लिसिटी से ऐप की लोकप्रियता बढ़ने लगी. इस ऐप ने 90% ऑर्गेनिक ग्रोथ हासिल की है.

कैसे होती है आय

CricHeroes के पास मुफ्त पंजीकरण और मैच स्कोरिंग है, लेकिन अगर कोई खिलाड़ी अपने मैच को लाइव स्ट्रीम करना चाहता है, तो उसे प्रति मैच 199 रुपये का भुगतान करना होगा. साथ ही, खिलाड़ी ऐप की अन्य उन्नत सुविधाओं का उपयोग करने के लिए प्रो सदस्यता ले सकता है. एक प्रो-संस्करण की लागत 699 रूपये प्रति माह है और यह खिलाड़ियों, टीमों, मैदानों के बारे में उत्पन्न डेटा के आधार पर मैच के आँकड़े, विश्लेषण और अंतर्दृष्टि प्रदान करता है. कंपनी को इसके अलावा विज्ञापनदाताओं से भी इनकम मिलती हैं.

दूसरे ऐप से कैसे है अलग

देसाई के मुताबिक, क्रिकेट स्कोरिंग के लिए मार्केट में पहले से ही कई सारे ऐप्स उपलब्ध हैं, लेकिन ये ऐप्स की सीमा केवल स्कोरिंग तक हैं, वहीं हमारा ऐप सभी हितधारकों को एक-दूसरे से जोडने का काम करता हैं और इसीलिए, हमारे ऐप की टेगलाइन है “आपका क्रिकेट नेटवर्क”. हमारा ऐप मशहूर लोगों का और इन्फ्लुएंसर्स का नेटवर्क नहीं है, बल्कि क्रिकेट के लाखों शौकिया खिलाड़ीओं का नेटवर्क हैं.

क्यों मिली सफलता

देसाई कहते हैं, “अब तक मैंने 10 आइडियाज पर काम किया है, लेकिन कभी फुल फोकस्ड नहीं था और सभी साहस में अपनी जेब से पैसा डाला था, इसलिए पैसा डूबता तो अपना ही डूबता ये सायकॉलोजी बनी रहती थी, लेकिन CricHeroes के लिए हमने मार्केट से पैसा लिया, ताकि इन्वेस्टर्स का पैसा डूबने का डर बना रहे और हमने इस पर फुल-फोकस्ड होकर काम किया.”

कितना बड़ा है ऐप का नेटवर्क

इस ऐप को 100 से अधिक क्रिकेट एसोसिएशन ने अपना ऑफिशियल स्कोरिंग पार्टनर बनाया है. ऐप में दुनिया भर के 95 लाख खिलाड़ी हैं, जिनमें से 90 प्रतिशत भारतीय हैं. गूगल प्लेस्टॉर से ये ऐप 50 लाख से अधिक बार डाउनलॉड हुआ हैं. मंथली एक्टिव यूजर्स 22 लाख हैं. साथ ही इस ऐप पर 16 लाख से ज्यादा मैच का स्कोर किया गया है.

इस प्लेटफॉर्म पर 1 लाख से ज्यादा टूर्नामेंट कवर किए गए हैं. ऐप का इस्तेमाल 70 से 75 देशों में किया जा रहा है, इसलिए कंपनी को इस साल 3.5 करोड़ रुपये के टर्नओवर की उम्मीद है.

देसाई बताते हैं, हमने 10 लोगों से शुरुआत की और आज 40 लोगों की टीम है. हमारे पास 35 एंजेल इन्वेस्टर्स का पैसा है और हम ब्रेकइवन पॉइन्ट के करीब हैं. हाल ही में हमें Games24X7 से स्ट्रैटेजिक निवेश भी मिला है. देसाई कहते हैं कि हमारी कंपनी का वैल्यूएशन 65 करोड़ रुपये है और ये सिर्फ एक शुरुआत है.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष