जॉब मार्केट में क्या सबसे बुरा दौर बीत चुका है?

Covid 19: कोविड-19 (Covid 19) महामारी ने बड़े पैमाने पर नौकरियां खत्म की हैं. लेकिन, एक बार फिर से हायरिंग का दौर शुरू होता दिख रहा है.

जॉब मार्केट में क्या सबसे बुरा दौर बीत चुका है?
आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है जिसकी आखिरी तारीख 10 अक्टूबर है

कोविड-19 (Covid 19) महामारी ने बड़े पैमाने पर नौकरियां खत्म की हैंलेकिनएक बार फिर से हायरिंग का दौर शुरू होता दिख रहा है. कोविड-19 (Covid 19) महामारी के चलते पिछले साल अप्रैल से जून तिमाही के दौरान शहरी इलाकों में बेरोजगारी बढ़कर 20.9 फीसदी पर पहुंच गई थीइससे एक साल पहले यानी 2019 के अप्रैल से जून के दौरान यह दर 9.1 फीसदी थी.

PLFS सर्वे में कोविड-19 से पैदा हुए हालात दिखे

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय की के तिमाही आधार पर जारी होने वाले पीरियॉडिक लेबर फोर्स सर्वे (पीएलएफएसमें बेरोजगारी में यह जबरदस्त इजाफा दर्ज किया गया है. (http://mospi.nic.in/sites/default/files/publication_reports/PLFS_Quarterly_Bulletin_April_June_2020.pdf)

इस रिपोर्ट में यह दिखाई दे रहा है कि कैसे कोविड-19 (Covid 19) फैलने के बाद सरकार के लागू किए गए सख्त लॉकडाउन के चलते नौकरियां खत्म हुई हैंइसके चलते बेरोजगारी की दर बढ़कर 20.9 फीसदी के लेवल पर चली गई.

इस सर्वे में कहा गया है कि अप्रैल से जून 2020 के दौरान पुरुषों की बेरोजगारी दर 20.8 फीसदी रही हैजबकि महिलाओं के मामले में यह दर बढ़कर 21.2 फीसदी तक चली गई है.

स्टाफिंग फर्म हेड हंटर्स इंडिया की चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओकिरन लक्ष्मीकांत ने मनीको बताया, “कोविड-19 की वजह से हर सेक्टर को तगड़ा नुकसान हुआ हैइस महामारी ने सबकुछ बदल दिया हैकंपनियों के कामकाज करने से लेकर भर्ती करने और एंप्लॉयीज को रिटेन करने तक के तौरतरीके बदल गए हैं.

कोविड-19 (Covid 19) के चलते कई कंपनियां बंद हुई हैंदुनियाभर में कंपनियों को लोगों को निकालना पड़ा हैभारत में भी आईटीआईटीईएस सेक्टर में छटनियां हुई हैं.

हालांकिवैक्सीनेशन शुरू हो चुका है और कोविड-19 (Covid 19) की पाबंदियां मोटे तौर पर हट चुकी हैंइसके साथ ही औद्योगिक गतिविधियां फिर से आगे बढ़ने लगी हैं.

कई सेक्टर ऐसे भी हैं जहां पर तेजी से हायरिंग शुरू हुई हैऐसे में यह सवाल पैदा हो रहा है कि क्या हम जॉब मार्केट का सबसे बुरा दौर देख चुके हैंक्या आने वाले वक्त में बड़ी तादाद में नई नौकरियां पैदा होने के आसार हैं और क्या 2021 के लिए शहरी बेरोजगारी के आंकड़े पहले की तरह खराब नहीं रहेंगे?

फिर से शुरू हुई हायरिंग गतिविधियां

अलगअलग सर्वे और स्टडी से पता चल रहा है कि भारत में हायरिंग की रफ्तार एक बार फिर से कोविड-19 (Covid 19) के पहले के स्तर पर पहुंच गई है.

एडटेक स्टार्टअप स्केलर के एक हालिया सर्वे में कहा गया है कि इस साल 90 फीसदी कंपनियां कोविड-19 से पहले के दौर की रफ्तार से हायरिंग शुरू कर देंगीइस सर्वे में शामिल 50 फीसदी से ज्यादा कंपनियों ने कहा है कि वे 2021 की पहली तिमाही में पिछली साल की इसी अवधि के मुकाबले ज्यादा लोगों को भर्ती करेंगी.

हालांकिएक्सपर्ट का कहना है कि हायरिंग में भले ही तेजी आ रही हैलेकिन इसकी रफ्तार अभी सुस्त है.

हेड हंटर्स इंडिया की सीईओ किरन लक्ष्मीकांत मानती हैं कि भारत रिकवरी की राह पर हैहालांकियह धीरेधीरे हो रही हैवे कहती हैं कि वैक्सीन आने से भी हालात बदले हैं और निश्चित तौर पर दूसरी तिमाही से और सुधार आएगा.

एचआर फर्म सिंपलीएचआर के मैनेजिंग पार्टनर रजनीश सिंह कहते हैं, “हालांकिकुछ सेक्टरों में हायरिंग में बढ़ी हैलेकिन इसकी रफ्तार कम हैइस साल के लिए हायरिंग इस बात पर निर्भर करेगी कि कंपनियाों के लिए मौजूदा वित्त वर्ष कैसा रहा हैलेकिनकुल मिलाकर अभी सकारात्मक संकेत दिखाई दे रहे हैं.

हालांकिहायरिंग में सबसे आगे रहने वाले सेक्टरों में टेक्नोलॉजीबैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज और एफएमसीजी सेक्टर शामिल हैं.

जॉब साइट साइके (SCIKEY) की एक रिपोर्ट के मुताबिकजनवरी में आईटी सेक्टर में आने वाली नौकरियां 39 फीसदी बढ़ी हैंयह ग्रोथ इससे पिछले महीने दिसंबर 2020 के मुकाबले है.

नई नौकरियों में तेजी की इस कतार में बीपीओ 10 फीसदी ग्रोथ और बैंकिंग फीसदी के साथ दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं.

बेंगलुरुहैदराबादपुणे और दिल्ली उन शहरों में शुमार हैं जहां पर हायरिंग की गतिविधियां सबसे तेजी से चल रही हैंआईटी सेक्टर में इन शहरों में पैदा होने वाली नई नौकरियों की हिस्सेदारी कुल नौकरियों की करीब 50 फीसदी है.

जॉब साइट इंडीड ने अप्रैल 2020 से जनवरी 2021 के दौरान टेक सेक्टर में हायरिंग के ट्रेंड की स्टडी की हैइसमें कहा गया है कि जनवरी 2021 में नई नौकरियां आने की दर महामारी के पहले के स्तर पर पहुंच चुकी है.

जनवरी 2021 में टेक्नोलॉजी सेक्टर में नई नौकरियों की दर पिछले साल की जनवरी के मुकाबले 13 फीसदी बढ़ी है.

इंडीड की स्टडी में कहा गया है कि टेक सेक्टर में नौकरियां मुख्य तौर पर आईटीआईटी आधारित सर्विसेजफाइनेंशियल सर्विसेजकॉमर्स और कंसल्टिंग सेक्टरों में आई हैं.

इसके अलावालॉजिस्टिक्सकंस्ट्रक्शन सेक्टर और स्टार्टअप्स में भी नई नौकरियां पैदा हो रही हैं.

इसी तरह से मैनपावर ग्रुप एंप्लॉयमेंट सर्वे में कहा गया है कि भारत में हायरिंग एक्टिविटी में फिर से तेजी आने लगी हैइस सर्वे में कहा गया है कि इस तेजी की अगुवाई पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन और एजूकेशन सेक्टर करेंगे और इसके बाद सर्विसेज सेक्टर का नंबर आता है.

कंपनियों ने तेज की भर्ती

अगर कंपनियों की बात करें तो आईटी कंपनी कॉग्निजेंट ने कहा है कि वह जनवरी से मार्च तिमाही के दौरान भारत में रिकॉर्ड हायरिंग करने की राह पर हैकंपनी ने उम्मीद जताई है कि वह इस साल भारत में 23,000 से ज्यादा लोगों को भर्ती करेगी.

इसके अलावाकेपजेमिनी ने कहा है कि वह भारत में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 30,000 लोगों को हायर करेगीकंपनी मौजूदा वित्त वर्ष के मुकाबले दोगुने लोगों को हायर करने जा रही है.

हाल में ही डोएचे बैंक ने ऐलान किया है कि उसके टेक सेंटर भारत में इस साल 1,000 लोगों की भर्तियां करेंगे.

एचसीएल ने इस साल 15,000 लोगों को भर्ती करने का टारगेट रखा है.

किरण कहती हैं कि 2020 में लाख नौकरियों का अनुमान थाइस साल यह आंकड़ा थोड़ा और बढ़ सकता है.

कोविड-19 (Covid 19) के बाद के दौर में महिलाओं को वर्कफोर्स में शामिल करने पर भी कंपनियां फोकस कर रही हैं.

मसलनइंजीनियरिंग सेक्टर की दिग्गज कंपनी लार्सन एंड टूब्रो (एलएंडटीने 2020 में ट्रेनी लेवल पर 22 फीसदी महिलाओं की नियुक्ति की है.

एलएंडटी के सीईओ और एमडी एस एन सुब्रह्मण्यम कहते हैं, “अब शॉप फ्लोरप्रोजेक्ट साइट्स और ऑफिस में ज्यादा महिलाएं हैंएलएंडटी महिलाओं को मौके देने में बड़े प्रयास कर रही है.”

क्या सबसे बुरा दौर गुजर चुका है?

एक्सपर्ट उम्मीद जता रहे हैं कि कोविड-19 (Covid 19) महामारी की वजह से जॉब मार्केट में आई तबाही का दौर शायद अब खत्म हो चुका है.

सिंह कहते हैं, “हम 2018 से ही सुस्ती के दौर में हैं और महामारी ने ज्यादातर सेक्टरों में हायरिंग पर लगाम लगा दीऐसे में कोविड के पहले के दौर में पहुंचने में अभी वक्त लगेगाशायद इसमें एक साल और लग सकता है.”

किरण लक्ष्मीकांत कहती हैं, “ऐसा लगता है कि हम अपना सबसे बुरा दौर छोड़ आए हैंवैक्सीन आने से हालात सुधरे हैंहालांकिरिकवरी की रफ्तार अभी सुस्त है.”

नई स्किल्स और ट्रेनिंग

इस महामारी ने लोगों के लिए नए स्किल्स सीखने की जरूरत पैदा की है.

सबसे ज्यादा डिजिटल स्किल्स की जरूरत बढ़ी है.

किरण कहती हैं, “पहले बीएफएसआई जैसे सेक्टरों में ही डिजिटल स्किल्स की जरूरत होती थीलेकिन अब शायद ही कोई सेक्टर ऐसा होगा जहां पर इन स्किल्स की जरूरत न हो.”

लोगों को स्किल्ड बनाने के लिए भी कंपनियां प्रयास कर रही हैंमिसाल के तौर पर, 14 मार्च को एलएंडटी ने एक स्किल ट्रेनर्स एकेडमी का उद्घाटन किया हैइसमें देशभर से हर साल 1,500 प्रशिक्षकों को ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि वे युवाओं को ज्यादा बेहतर तरीके से प्रशिक्षित कर पाएं.

सिंह कहते हैं कि कोविड-19 (Covid 19) महामारी के चलते टेक्नोलॉजी को जबरदस्त बूस्ट मिला है और हर चीज डिजिटल हो रही हैऐसे में डेटा समेत टेक्नोलॉजी के इर्दगिर्द स्किल्स और नॉलेज इकट्ठी करना महत्वपूर्ण होगा.

वे कहते हैं, “कॉमर्स सेक्टर में भी तेजी आएगीइस इंडस्ट्री से जुड़ी हुई नौकरियां बढ़ेंगीहेल्थकेयर में भी बड़ी तेजी आने वाली हैऐेसे में इस सेक्टर से जुड़े हुए स्किल्स सीखना भी कारगर साबित होगाइसके अलावाइंफ्रास्ट्रक्चर को भी बढ़ावा मिलेगा और यहां भी नई नौकरियां पैदा होंगी.”

सिंह कहते हैं, “नई नौकरियों के लिहाज से डिजिटल पर जोर दे रही कंपनियां बड़े पैमाने पर हायरिंग करेंगीकॉमर्सइंफ्रास्ट्रक्चर और हेल्थकेयर में भी नौकरियां बढ़ेंगीफाइनेंशियल सर्विसेजएडूटेक जैसे सेक्टर भी हायरिंग में आगे रहेंगे.”

किरण कहती हैं कि नौकरियों में बने रहने या नई नौकरी हासिल करने के लिए फैसले लेने की क्षमतासंकट प्रबंधन और रणनीतिक सोच की अहमियत बेहद बढ़ गई है.

किरण कहती हैं, “लेकिनदूसरी तरफ कई नई चीजें भी हुई हैंनई सर्विसेज आई हैंडिजिटाइजेशन हर स्तर पर बढ़ा हैएपीआई से लेकर डिजिटल ट्रांजैक्शंस तक बहुत सारी चीजों को बढ़ावा मिला है.”

किरण कहती हैं कि लेकिनइस महामारी से जॉब मार्केट में नए मौके भी पैदा हुए हैंलॉजिस्टिक्सएडूटेककॉमर्ससप्लाई चेनईवीफार्मा और हेल्थकेयरएपीआईएआई जैसे सेक्टरों में तेज ग्रोथ आ रही है.

आंत्रप्रेन्योरशिप का ट्रेंड बढ़ा

इस महामारी ने युवाओं को खासतौर पर अपने स्टार्टअप शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया हैइसमें ऐसे लोग भी हैं जिनकी नौकरियां कोविड की वजह से छूट गईंबड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जो कि लॉकडाउन के दौरान अपने होमटाउन गए और वहां पर ही अपने वेंचर शुरू किए.

दूसरी ओरयुवा नौकरियों के लिए जोर लगाने की बजाय अपने कारोबार खड़े करने की भी ज्यादा कोशिशें कर रहे हैंइस लिहाज से युवा ज्यादा रिस्क लेने के लिए तैयार दिखाई देते हैं.

किरण कहती हैंआंत्रप्रेन्योरशिप बढ़ रही है और नए स्टार्टअप आ रहे हैंवे कहती हैं कि खासतौर पर फिनटेक सेक्टर में बड़े पैमाने पर नए स्टार्टअप्स आए हैं.

यूपीआई के आने से पेमेंट सर्विसेज के सेक्टर में बड़ा उछाल आया हैपहले एक पेटीएम थीअब सैंकड़ों कंपनियां हैं जो कि इस सेक्टर में काम कर रही हैं.”

एंप्लॉयी लाइफ साइकल में बदलाव

किरण एक अहम ट्रेंड की ओर इशारा करती हैंवे कहती हैं कि पिछले कुछ वक्त में एंप्लॉयीज की लाइफ साइकल में बदलाव हुआ हैपहले रिटायरमेंट की उम्र 60 साल थी अब वह घटकर 50 के आसपास आ गई हैइसी तरह से वर्कफोर्स में शामिल होने की उम्र 20-21 हो गई है.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष