अहमदाबाद एयरपोर्ट पर पार्किंग फीस के विवाद में कस्टमर्स को बिना वजह हो रहा नुकसान

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर अडाणी एयरपोर्ट्स और कैब ऑपरेटर्स के बीच पार्किंग शुल्क को लेकर विवाद है, लेकिन इसका खामियाजा कस्टमर्स को भुगतना पड़ रहा है.

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर पार्किंग फीस के विवाद में कस्टमर्स को बिना वजह हो रहा नुकसान
courtesy: Pixabay, representative image

अहमदाबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पार्किंग को लेकर एयरपोर्ट ऑपरेटर अडाणी एयरपोर्ट्स और कैब ऑपरेटर्स के बीच पिछले कुछ दिनों से विवाद जारी है. हालांकि, इस विवाद की वजह से आम लोगों को नुकसान उठाना पड़ रहा है. अरअसल, अहमदाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर कैब सेवा के लिए मुफ्त पार्किंग देने के बाद, अब अचानक 50 रुपये पार्किंग शुल्क वसूला जा रहा है. कैब संचालक ये चार्ज पैसेंजर्स से वसूल रहे हैं. जिससे अराइवल में कैब बुक करते समय लोगों को 50 रुपये ज्यादा देने पड़ रहे हैं.

कैब ऑपरेटर्स को देना पड़ रहा चार्ज
जहां एक ओर अहमदाबाद एयरपोर्ट पर एयरपोर्ट की पार्किंग को लेकर विवाद चल रहा है, वहीं, दूसरी ओर कैब संचालकों को अब उन्हें आवंटित स्थान के लिए शुल्क देना पड़ रहा है. यानी अब आवंटित जगह पर उबर और ओला कैब चालकों से भी शुल्क लिया जाएगा. एयरपोर्ट पर कैब बुक करने वालों को अब 50 रुपये अतिरिक्त देने होंगे. पहला घंटा मुफ्त है और फिर प्रति घंटे 50 रुपये का शुल्क देना होगा. इस चार्ज की वसूली यात्रियों की जाएगी.

3,000 रुपये का जुर्माना

हवाई अड्डे पर यात्री को लेने के लिए आए कार चालक अगर टर्मिनल भवन के सामने कार पार्क करता है तो उसे 3,000 रुपये का जुर्माना देना पड़ता है और यदि वह कार को पार्किंग स्थल में रखता है, तो उसे हवाई अड्डे से बाहर निकलना होगा और फिर से रीएन्ट्री करनी होगी.

अडाणी एयरपोर्ट्स ने आरोपों को खारिज किया

दूसरी तरफ इस एयरपोर्ट को मैनेज कर रहे अडाणी एयरपोर्ट्स ने पार्किंग के लिए ज्यादा शुल्क लिए जाने को खारिज किया है. अडाणी एयरपोर्ट्स के प्रवक्ता ने कहा है, “हमें हवाई अड्डे पर यात्रियों से अक्सर शिकायत मिलती है कि ओला या उबर बुक कराने के बाद इन्हें ड्राइवर कैंसिल कर देते हैं. ऐसा अमूमन ज्यादा किराया वसूल करने के लिए होता है. ट्रिप कैंसिल होने पर यात्रियों से डबल किराया वसूला जाता है. इतना ही नहीं कुछ ऑपरेटर्स कार को एयरपोर्ट परिसर में भी छोड़कर चले जाते थे और पूरी रात कार वहीं पड़ी रहती थी जिससे सुरक्षा पर सवाल उठे थे. इसलिए अब हमने इसे चार्ज करने का फैसला किया है ताकि यात्री जल्द ही कैब ले सकें.”

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।