Sovereign Gold Bond में निवेश के ये हैं 9 बड़े फायदे

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर वस्तु एवं सेवा कर (GST) नहीं लगता है. वहीं, सोने के सिक्के और गोल्ड बार आदि खरीदने पर जीएसटी लगता है.

Sovereign Gold Bond में निवेश के ये हैं 9 बड़े फायदे
फिजिकल गोल्ड को सुरक्षित स्थान पर जैसे लॉकर आदि में रखने की जरूरत होती है, उसकी चोरी का भी ड़र रहता है. PC: Flickr

Sovereign Gold Bond Scheme: जो लोग सोना खरीदने की योजना बना रहे हैं, उनके लिए अच्छी खबर है. सरकार गोल्ड बॉन्ड बेच रही है. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2021-22 की 7वीं किस्त सब्सक्रिप्शन के लिए 25 अक्टूबर से खुल गई है. सरकार ने इस स्कीम के लिए इश्यू प्राइस 4,765 रुपये प्रति ग्राम तय की है. साथ ही ऑनलाइन भुगतान पर छूट भी मिल रही है. एसजीबी की यह किस्त 29 अक्टूबर तक सब्सक्रिप्शन के लिए खुली रहेगी. इस किस्त के लिए सेटलमेंट डेट 2 नवंबर रखी गई है, अर्थात इस स्कीम को सब्सक्राइब करने वाले लोगों को 2 नवंबर को गोल्ड बॉन्ड मिलेगा. आइए जानते हैं कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स के क्या फायदे हैं.

1. Sovereign Gold Bond का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह प्रारंभिक निवेश की राशि पर सालाना 2.50 फीसद की एक निश्चित ब्याज दर के साथ आता है. ब्याज निवेशक के बैंक खाते में छमाही आधार पर जमा होता है.

2. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेशक मैच्योरिटी के समय की सोने की बाजार कीमत मिलने और आवधिक ब्याज के बारे में आश्वस्त होते हैं.

3. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की कीमत 999 शुद्धता वाले सोने की कीमत से लिंक्ड होती है और ये एक्सचेंजों पर ट्रेडेबल होते हैं.

4. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स भारत सरकार की ओर से भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी किये जाते हैं. इसलिए इनकी सॉवरेन गारंटी होती है. एसजीबी का उपयोग लोन्स के लिए संपार्श्विक के रूप में किया जा सकता है.

5. फिजिकल गोल्ड को सुरक्षित स्थान पर जैसे लॉकर आदि में रखने की जरूरत होती है, उसकी चोरी का भी ड़र रहता है, लेकिन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करके आप इसे लॉकर में रखने के खर्च और चोरी होने के जोखिम से बच सकते हैं.

6. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर वस्तु एवं सेवा कर (GST) नहीं लगता है. वहीं, सोने के सिक्के और गोल्ड बार आदि खरीदने पर जीएसटी लगता है. जब आप डिजिटल गोल्ड खरीदते हो, तो भी आपको 3 फीसद जीएसटी देना होता है.

7. आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को बैंक (स्मॉल फाइनेंस बैंक एवं पेमेंट बैंक को छोड़कर), स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, निर्धारित पोस्ट ऑफिस एवं मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज से खरीद सकते हैं.

8. एसजीबी पर ब्याज कर योग्य होता है, लेकिन बॉन्ड्स के रिडंप्शन के समय पूंजीगत लाभ पर टैक्स में इंडिविजुअल्स के लिए छूट होती है.

9. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश से आप जुलरी के रूप में सोने की खरीदारी के साथ मेकिंग चार्जेज और शुद्धता जैसे मुद्दों से मुक्त होते हैं.

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।