म्यूच्युअल फंड में इंवेस्ट कर रहे हैं तो जानिए क्या है IRR & XIRR

जब भी आप किसी साल में एक से अधिक बार इंवेस्ट करते हैं तो उस पूरे इंवेस्टमेंट के वार्षिक रिटर्न को IRR कहते हैं.

  • Paurav Joshi
  • Publish Date - November 15, 2021 / 03:47 PM IST
म्यूच्युअल फंड में इंवेस्ट कर रहे हैं तो जानिए क्या है IRR & XIRR

इंवेस्टमेंट में रिटर्न को समझना बेहद जरूरी है. रिटर्न की गणना अलग-अलग तरीकों से की जाती है, जैसे की एन्युअलाइज रिटर्न (AR), होल्डिंग पीरियड रिटर्न (HPR), कंपाउंड एन्युअल ग्रोथ रेट (CAGR), इंटरनल रेट ऑफ रिटर्न (IRR), एक्सटेंडेड इंटरनल रेट ऑफ रिटर्न (XIRR). जब भी हम म्यूच्युअल फंड में इंवेस्ट करते हैं तो XIRR की अहमियत बढ़ जाती है. कुछ लोगों का मानना है की IRR और XIRR के बीच कोइ अंतर नहीं है. ये सच नही है. इन दोनों के बीच काफी अंतर है. चलिए जानते हैं विस्तार से.

इंटरनल रेट ऑफ रिटर्न

जब भी आप किसी साल में एक से अधिक बार इंवेस्ट करते हैं तो उस पूरे इंवेस्टमेंट के वार्षिक रिटर्न को इंटरनल रेट ऑफ रिटर्न (IRR) कहते हैं. याद रहे की इसकी गणना एन्युअल ही होती है. अब इसको एक उदाहरण से समझते हैं, मान लें कि आपने 12000 रुपये एक साल के लिए किसी फंड में इंवेस्ट किए और आपको एक साल बाद 13000 रुपये मिले. यानी आपका रिटर्न हुआ 8.33%, लेकिन अगर आप साल की शरुआत से यानी जनवरी महीने से साल के अंत तक यानी दिसंबर के महीने तक हर महीने की एक तारीख को 1000-1000 रुपये इंवेस्ट कर रहे हैं और साल के आखिर में आपको इतना ही यानी 13000 रुपये रिटर्न मिलता है तो आपका रिटर्न होता है 15.70%. इसका हमने एक्सेल शीट में कैल्‍कुलेशन किया है. इसका मतलब आप एक साथ 12000 रुपये इंवेस्ट करते हैं तो कम रिटर्न मिलता है. वहीं अगर हर महीने कम इंवेस्ट करते हैं तो रिटर्न ज्यादा मिलता है. इसको आइआरआर कहते हैं.

एक्सटेंडेड इंटरनल रेट ऑफ रिटर्न (XIRR)

इसको भी हम ऊपर के उदाहरण से समझते हैं. अगर आप हर महीने की 1 तारीख को किसी एसआइपी में 1000 रुपये इंवेस्ट करने के बजाए अलग अलग तारीख को इंवेस्ट करते है. यानी किसी महीने में 1 तारीख को, दूसरे महीने में 15 तारीख को या तीसरे महीने में 20 तारीख को इंवेस्ट करते हैं. इस तरह से आपने एक साल में 12000 रुपये इंवेस्ट किया है और आखिर में उसपर जितना ही यानी 13000 रुपये आपको रिटर्न मिला है तो एक्सेल शीट की गिनती अनुसार आपको 16.15% रिटर्न मिला है. ये हुआ आपका XIRR.

अब इसको दूसरी तरह से समझते हैं. मान लें‍ कि आपने हर महीने के बजाए हर साल कुछ रकम इंवेस्ट की है. किसी साल में रकम विड्रॉल भी की है. जैसे कि 2010 में 20,000 इंवेस्ट किए. 2011 में 10,000 इंवेस्ट किए. 2012 में कुछ इंवेस्ट नहीं किया. 2015 तक हर साल 20 हजार इंवेस्ट किए फिर 2016 में 30,000 विड्रो किया. इसके बाद अंत में 10 साल बाद 2020 में 2 लाख रुपये मिले. अब इसकी गणना कैसे होगी. तो एक्सेल शीट में आप तारीख और हर साल का इंवेस्टमेंट सिलेक्ट करके उसको 100 से मल्टीप्लाय करेंगे तो आपको XIRR मिल जाएगा.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष