जानिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते वक्त किन बातों का रखें ख्याल

यदि आप केवल इक्विटी में निवेश करते हैं, तो आप इसके बजाय ज्यादा क्वालिटी वाले डेट फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं.

  • Himali Patel
  • Publish Date - October 5, 2021 / 10:02 AM IST
जानिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते वक्त किन बातों का रखें ख्याल
यदि आप केवल इक्विटी में निवेश करते हैं, तो आप इसके बजाय हाई क्वालिटी वाले डेट फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं

चूंकि मार्केट अपने अब तक उच्चतम स्तर पर है, और कई निवेशक निवेश को लेकर सतर्क हैं, वो सुधार का इंतजार पसंद कर रहे हैं. हालांकि, यह भी सच है कि अगर आप म्यूचुअल फंड (mutual funds) में निवेश करने वाले लॉन्ग टर्म निवेशक हैं, तो अंडरवैल्यूएशन या ओवरवैल्यूएशन का कॉन्सेप्ट अप्रासंगिक है. उनके लिए, बाजार में अचानक इजाफे और गिरावट ने निवेश को और अधिक तेज़ी से कंपाउ करने की अनुमति दी है. हालांकि, म्यूचुअल फंड (mutual funds) में निवेश करते समय आपको बुल मार्केट के दौरान कुछ बातों पर ध्यान देना चाहिए. चलिए डालते हैं एक नजर

अपने पोर्टफोलियो की जांच करें

एक जाने माने फाइनेंशियल एक्सपर्ट से अपने पोर्टफोलियो पर राय लें. आप मौजूदा बाजार की स्थितियों को लेकर चिंतित हो सकते हैं या अपने निवेश को बेचने के लिए ललचा सकते हैं. यदि आप केवल इक्विटी में निवेश करते हैं, तो आप इसके बजाय हाई क्वालिटी वाले डेट फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं. बाजार में उथल-पुथल की स्थिति में आपकी संपत्ति सुरक्षित रहेगी.

अपने लक्ष्यों को जानें

अतीत में, यदि आपने आक्रामक तरीके से निवेश किया था, तो अब आप अधिक कंजरवेटिव नजरिया अपना सकते हैं. आपके पैसे को ज्यादा बेहतर तरीके से ट्रांसफर करने में आपकी सहायता के लिए नए ऑब्जेक्टिव स्थापित किए जा सकते हैं. यह आपको लालच और डर से बचाने में मदद करेगा.

अपना SIP में निवेश न रोकें

रुपए की औसत लागत सिस्टैमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP) में सबसे बड़ा लाभ है. मार्केट के टॉप पर निवेश करना, भले ही बाजार नीचे जाए, एसआईपी का इस्तेमाल करते रहना संभव है. लॉन्ग टर्म के लिए पैसों को जोड़ना सफलता की कुंजी है. नतीजतन, अपने एसआईपी को किसी भी तरह से रोकें नहीं. बाजार ऐतिहासिक रूप से एक से दो साल के लिए गिरावट के दौर से गुजरते हैं और फिर से बढ़ने लगते हैं.

विविधता का फायदा

अपना पैसा निकालने के बजाय, आप इसे डेट फंड, अंतरराष्ट्रीय फंड या ईटीएफ में डाल सकते हैं, जो आपके पोर्टफोलियो में विविधता लाने में मदद कर सकते हैं. नतीजतन, आपको अपने पोर्टफोलियो के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होगी. एक बैलेंस्ड पोर्टफोलियो आपको मूल्य में गिरावट से बचाएगा ताकि आप अपना एसआईपी जारी रख सकें.

बाजार को समय देने की कोशिश न करें

यह नए निवेशकों द्वारा अक्सर की जाने वाली गई एक आम गलती है. ये गलतियां न केवल मूल्यवान समय और धन की बर्बादी करती हैं, बल्कि वे खराब विकल्प और एक स्थिर पोर्टफोलियो का कारण भी बन सकती हैं. इसे योग करने के लिए, बाजार में पैसा लगाने से न डरें. शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव बेहद जरूरी हैं. आप किसी अनुभवी फाइनेंशियल एक्सपर्ट की सलाह से लंबी अवधि में पैसा बना सकते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष