इन 5 संकेतों से जानिए कि कहीं आपका इन्वेस्टमेंट ज्यादा डायवर्सिफाई तो नहीं है

पोर्टफोलियो का डायवर्सिफिकेशन महत्वपूर्ण है और लॉन्ग टर्म में स्थिर रिटर्न के लिए इसका पालन किया जाना चाहिए.

  • Adil Shetty
  • Updated On - October 16, 2021 / 12:51 PM IST
इन 5 संकेतों से जानिए कि कहीं आपका इन्वेस्टमेंट ज्यादा डायवर्सिफाई तो नहीं है
ओवर-डायवर्सिफिकेशन एक अच्छी तरह से विविध पोर्टफोलियो के फायदे खत्म कर देता है. PC: Pixabay

रिटर्न में जोखिम को कम करने के लिए इनवेस्टमेंट का डायवर्सिफिकेशन जरूर करना चाहिए. इसमें कोई दो राय नहीं है कि इस रणनीति के तहत आप अपने इनवेस्टमेंट पोर्टफोलियो को जोखिम से बचाकर लॉन्ग टर्म के लिए बेहतर रिटर्न हासिल कर सकते हैं. एसेट क्लास और अलग इंस्ट्रूमेंट्स में फैले इनवेस्टमेंट के साथ, आपको न केवल एक बैलेंस्ड पोर्टफोलियो मिलता है, बल्कि इनवेस्टमेंट अलग अलग स्थितियों के दौरान एसेट-स्पेसिफिक-प्रदर्शन से भी नहीं चूकते हैं.

लेकिन ये बात भी सच है कि जब बहुत अधिक डायवर्सिफिकेशन होता है, तो डायवर्सिफिकेशन का पूरा उद्देश्य फेल हो जाता है. न तो आपको अपने निवेश पर ज्यादा रिटर्न मिलता है और न ही आपके फाइनेंशियल टारगेट प्लानिंग के अनुसार पूरे होते हैं.

पुरानी कहावत है “हर चीज की अति खराब होती है” आपके इनवेस्टमेंट के साथ भी सच है. अगर आप अपने इनवेस्टमेंट को अधिक डायवर्सिफाई करते हैं, तो यह वास्तव में आपको नुकसान पहुंचाने लगता है. इनवेस्टमेंट एक्सपर्ट्स इसे ओवर डायवर्सिफाई कहते हैं; जिसका मतलब है कि आपके डायवर्सिफिकेशन विविधीकरण का आपके निवेश पर खराब प्रभाव पड़ रहा है.

ओवर डायवर्सिफाई के बारे में दुखद बात यह है कि अधिकांश निवेशकों को इसका एहसास नहीं है. उनकी यह धारणा बनी रहती है कि उनका डायवर्सिफिकेशन इनवेस्टमेंट पोर्टफोलियो निवेश में काफी बेहतर है. इसलिए, निवेशकों को यह समझना चाहिए कि अधिक-डायवर्सिफाई क्या है और अपनी संपत्ति निर्माण के सफर को बरकरार रखने के लिए सुधारपूर्ण कदम कब उठाए जाएं.

ओवर डायवर्सिफाई के नुकसान

ओवर डायवर्सिफाई तब होता है जब आप अपने रिटर्न को बैलैंस करने की दृष्टि से अपने इनवेस्टमेंट को इंस्ट्रूमेंट या फंड को क्षेत्रों में बहुत अधिक फैलाते हैं. सीमा के डायवर्सिफिकेशन, यह बहुत मददगार होता है क्योंकि यह बाजार के उतार-चढ़ाव को संतुलित करता है और आपको रिस्क से बचाकर बेहतर रिटर्न सुनिश्चित करने में मदद करता है. हालांकि, यदि आप अपने इनवेस्टमेंट को बहुत कम डायवर्सिफाई करते हैं, तो आप विविधीकरण के लाभों से वंचित रह जाते हैं.

ऐसा भी नहीं है कि ओवर-डायवर्सिफिकेशन के कारण निवेशक बहुत अधिक खो देते हैं, लेकिन उन्हें अधिक लाभ भी नहीं होता है. इसके अलावा, अधिक-डायवर्सिफिकेशन इनवेस्टमेंट पोर्टफोलियो वास्तव में रिटर्न खोने का जोखिम बढ़ाता है क्योंकि सभी एसेट वर्ग एक ही समय में खराब प्रदर्शन या बेहतर प्रदर्शन नहीं करते हैं. उनके विकास चक्र अलग हैं, जो सबसे अधिक फायदा हासिल करने के लिए स्ट्रैटेजिक डायवर्सिफिकेशन की मांग करते हैं.

उदाहरण के लिए, मान लें कि एक निवेशक ने रुपए का इनवेस्टमेंट किया है. 10 इक्विटी म्यूचुअल पॉलिसी के अधिक-डायवर्सिफिकेशन पोर्टफोलियो में 1 लाख रुपए मिड-कैप, स्मॉल-कैप, लार्ज-कैप, सेक्टोरल फंड जैसे फार्मा, बैंकिंग, आईटी और इंफ्रास्ट्रक्चर में प्रत्येक में 10,000 रुपए लगाए हैं। अगर उनमें से तीन ने पिछले वर्ष की तुलना में 80% का औसत रिटर्न हासिल किया जबकि बाकी बचे सात ने 10% का नुकसान दर्ज किया; तो अंत में आप अपने कुल निवेश का केवल 30% टॉप प्रदर्शन करने वाली योजनाओं में निवेश करते हैं, जबकि आपके पैसे का एक बड़ा हिस्सा तुलनात्मक रूप से खराब रिटर्न अर्जित करना जारी रखता है. ज्यादा नुकसान करने वाली बात है कि बड़े निवेश पर खराब रिटर्न आपके कुल बढ़िया रिटर्न को लगभग 31% तक कम कर देता है. इसका मतलब है कि आपको हर निश्चित समय पर हर जगह निवेश करने की आवश्यकता नहीं है.

प्रत्येक निवेशक के लिए यह समझना जरूरी है कि अधिक-डायवर्सिफिकेशन कैसा दिखता है ताकि वे स्वयं उस जाल में पड़ने से बच सकें. तो यहां कुछ साइन दिए गए हैं जो आपको यह समझने में मदद कर सकते हैं कि क्या आपकी डायवर्सिफिकेशन की रणनीति सही है या यदि इसे सही करने की जरूरत है।

ओवर-डायवर्सिफिकेशन के पांच साइन

a) भ्रम और अस्पष्टता

ओवर-डायवर्सिफिकेशन का पहला साइन आपके इनवेस्टमेंट पोर्टफोलियो के बारे में भ्रम और स्पष्टता की कमी. क्योंकि एक ही समय में आपके बहुत सारे इनवेस्टमेंट चल रहे हैं. ऐसा इसलिए होता है कि क्योंकि आप अपने निवेश का ट्रैक रखने में असमर्थ हैं और इसलिए यह जानना मुश्किल हो रहा है कि इनवेस्ट किए पैसे के साथ क्या हो रहा है. दूसरे शब्दों में, आप अपनी होल्डिंग एसेट्स को नहीं समझते हैं.

b) एक एसेट क्लास में केंद्रित अलग अलग इन्वेस्टमेंट

अगर आपका इनवेस्टमेंट, जैसे, इक्विटी फोकस्ड है; कई इंस्ट्रूमेंट्स के जरिए, पहली नजर में, यह कंसंट्रेशन की तरह लग सकता है, डायवर्सिफिकेशन नहीं. लेकिन वास्तव में, यह ओवर-डायवर्सिफिकेशन का एक और संकेत हो सकता है. एक निवेशक का इक्विटी म्यूचुअल फंड के साथ-साथ डायरेक्ट इक्विटी में निवेश हो सकता है. इसके अलावा, उनके पास कई इक्विटी योजनाएं हो सकती हैं – मिड-कैप, स्मॉल-कैप, लार्ज-कैप, फ्लेक्सी-कैप – और साथ ही, 2 दर्जन से अधिक शेयरों में निवेश हो सकता है. एक स्पेसिफिक एसेट क्लास में निवेश साधनों की इस तरह की एकाग्रता एक स्पष्ट संकेत है कि निवेशक अत्यधिक डायवर्सिफाई है. इसी तरह, यदि आपके पोर्टफोलियो में बहुत अधिक फिक्स्ड जमा या रिकरिंग जमा हैं, तो इसका अर्थ ओवर-डायवर्सिफिकेशन भी है.

c) हर समय मल्टी-एसेट इन्वेस्टमेंट करना

यदि आपने इनवेस्टमेंट की पूरी अवधि के दौरान हर एसेट क्लास में इनवेस्ट किया है, तो यह ओवर-डायवर्सिफिकेशन का संकेत है. ऐसा माना जाता है कि ऐसे समय होते हैं जब किसी को अंडरपरफॉर्मिंग एसेट से आउटपरफॉर्मिंग एसेट में निवेश में कटौती करने की जरूरत होती है. ऐसा करने में विफल रहने पर रिटर्न का विकास ट्रांजेक्टरी सब-ऑप्टिमल है.

d) पोर्टफोलियो में एक ही तरह की म्यूचुअल फंड्स का होना

अगर आपके पोर्टफोलियो में अधिकांश म्यूचुअल फंड पॉलिसी नेचर में समान हैं, तो आपने अनावश्यक रूप से ओवर-डायवर्सिफिकेशन हासिल कर लिया है. उदाहरण के लिए, अगर अलग अलग निवेश फर्मों से कई स्मॉल-कैप या मिड-कैप, या लार्ज-कैप योजनाएं हैं, तो यह ओवर-डायवर्सिफिकेशन का संकेत है.

e) बहुत अधिक निजी स्टॉक का मालिक होना

आदर्श रूप से, आपको डायवर्सिफिकेशन के लाभों की पेशकश करने के लिए 15-20 व्यक्तिगत स्टॉक रखना पर्याप्त है. अगर आप इस सीमा से आगे जाते हैं, तो आप वास्तव में ओवर-डायवर्सिफिकेशन कर सकते हैं, जो आपके निवेश के लिए अच्छा नहीं होगा.

पोर्टफोलियो का डायवर्सिफिकेशन महत्वपूर्ण है और लॉन्ग टर्म में स्थिर रिटर्न के लिए इसका पालन किया जाना चाहिए. लेकिन, ओवर-डायवर्सिफिकेशन एक अच्छी तरह से विविध पोर्टफोलियो के फायदे खत्म कर देता है. ये आपको समय-समय पर अपने पोर्टफोलियो की जांच और विचार करना चाहिए, और अगर आपको कुछ एक्सपर्ट विशेषज्ञ सलाह की आवश्यकता महसूस हो तो अपने फाइनेंशियल सलाहकार से सलाह लेनी चाहिए. यह डायवर्सिफिकेशन और ओवर-डायवर्सिफिकेशन के बीच एक महीन रेखा है, और उस अंतर को बनाए रखना आपके फाइनेंशियल टारगेट को बना या बिगाड़ सकता है.

(लेखक BankBazaar.com के सीईओ है)

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष