Virtual Credit Card के ये फायदे जानते हैं आप? जानिए इससे जुड़ी हर डिटेल

Virtual Credit Card: चार बड़े प्राइवेट बैंक, सबसे बड़ा पब्लिक सेक्टर बैंक और दो NBFC अपने ग्राहकों को ये क्रेडिट कार्ड ऑफर कर रहे हैं.

  • Money9 Hindi
  • Updated On - September 14, 2021 / 02:48 PM IST
Virtual Credit Card के ये फायदे जानते हैं आप? जानिए इससे जुड़ी हर डिटेल
वर्चुअल क्रेडिट कार्ड एक छोटी अवधि का क्रेडिट कार्ड है. आम तौर पर, ये कार्ड अधिकतम तीन दिनों के लिए वैलिड होते हैं. PC: Pexels

Virtual Credit Card: हम में से ज्यादातर लोग डेबिट और क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन क्या आपने वर्चुअल क्रेडिट कार्ड के बारे में सुना है? जैसा कि नाम से पता चलता है, वर्चुअल क्रेडिट कार्ड एक नए जमाने का क्रेडिट कार्ड है, जिसे आप अपने हाथों में छूकर महसूस नहीं कर सकते और ये केवल एक बार इस्तेमाल करने के लिए है. वर्चुअल क्रेडिट कार्ड ज्यादातर मेजर क्रेडिट कार्ड इश्युअर अपने ग्राहकों को उनके प्राइमरी कार्ड में ऐड-ऑन कार्ड के रूप में प्रोवाइड करते हैं. लेकिन सामान्य क्रेडिट या डेबिट कार्ड की तरह, वर्चुअल कार्ड का अपना यूनिक कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट और CVV नंबर होता है जो ऑनलाइन दिखाई देता है. आप वर्चुअल क्रेडिट कार्ड पर अपनी खर्च सीमा भी निर्धारित कर सकते हैं.

सिक्योरिटी फीचर

वर्चुअल कार्ड ज्यादा सुरक्षित होते हैं क्योंकि ग्राहकों को भुगतान करने के लिए स्वाइप करने की जरूरत नहीं होती है, जालसाजों के लिए इस कार्ड के साथ धोखाधड़ी करना लगभग नामुमकिन है, क्योंकि बैंक और उसके ग्राहकों के बीच एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड मैसेज के जरिए सब कुछ शेयर किया जाता है. इसके अलावा ये कार्ड आम तौर पर एक ही बार इस्तेमाल किए जाते हैं, इसलिए इसके जालसाजों द्वारा इस्तेमाल करने की संभावना बहुत कम होती है.

देश में वर्चुअल क्रेडिट कार्ड की गवर्निंग बॉडी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) है. वर्चुअल क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने के लिए, KYC डॉक्यूमेंट जमा करने होते हैं और इश्युअर को उन्हें अप्रूव करने की आवश्यकता होती है.

लिमिट सेट करना

आप अपने वर्चुअल कार्ड की लिमिट भी सेट कर सकते हैं और पेमेंट आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजे गए वन-टाइम पासवर्ड (OTP) द्वारा हर बार प्रमाणित किया जाएगा.

सुविधा

वर्चुअल क्रेडिट कार्ड की कोई फिजिकल फॉर्म नहीं होती है. इसकी डिटेल आपके मेल पर सेव की जा सकती है और ट्रांजेक्शन करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. इस तरह, कहीं भी फिजिकल कार्ड ले जाने की परेशानी खत्म हो जाती है.

वैलिडिटी

वर्चुअल क्रेडिट कार्ड एक छोटी अवधि का क्रेडिट कार्ड है. आम तौर पर, ये कार्ड अधिकतम तीन दिनों के लिए वैलिड होते हैं. कुछ वर्चुअल क्रेडिट कार्ड केवल एक दिन के लिए भी वैलिड होते हैं. आमतौर पर, इन क्रेडिट कार्डों का इस्तेमाल एक ट्रांजेक्शन के लिए किया जा सकता है जिसके बाद यह इनएक्टिव हो जाता है. अमाउंट आम तौर पर किसी के क्रेडिट कार्ड की क्रेडिट लिमिट से या डेबिट कार्ड के बैलेंस, यानी अकाउंट बैलेंस से डेबिट किया जाता है.

इश्यू करने वाले बैंक

बहुत से बैंक अपने ग्राहकों को ये वर्चुअल क्रेडिट कार्ड ऑफर नहीं करते हैं. भारतीय स्टेट बैंक वर्चुअल क्रेडिट कार्ड ऑफर करने वाला एकमात्र पब्लिक सेक्टर बैंक है. इसे ऑफर करने वाले वाले प्राइवेट सेक्टर बैंकों में HDFC, एक्सिस, ICICI और कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हैं. इसके अलावा, ऑक्सीजन वॉलेट वर्चुअल कार्ड और फ्रीचार्ज गो मास्टरकार्ड नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों द्वारा ऑफर किए जाने वाले दो वर्चुअल क्रेडिट कार्ड हैं.

अप्लाई कैसे करें

यदि आपने किसी विशेष वर्चुअल क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने का निर्णय लिया है, तो उस स्पेसिफिक बैंक या NBFC से संपर्क करें जो कार्ड ऑफर कर रहा है और उन्हें एप्लिकेशन प्रोसेस के बारे में आपको गाइड करने के लिए कहें. आमतौर पर वर्चुअल क्रेडिट कार्ड जारी करने में तीन-चार दिन लगते हैं. ज्यादातर इश्युअर अपने ग्राहकों से वर्चुअल क्रेडिट कार्ड जारी करने के लिए चार्ज नहीं लेते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष