ब्रिज पैक रणनीति पर काम कर रही HUL

यह पैक लाइफबॉय के मौजूदा 10 रुपए और 36 रुपए कीमत वाले पैक के बीच जो अंतर है, उसे भरने का काम करेगा.

ब्रिज पैक रणनीति पर काम कर रही HUL

देश की सबसे बड़ी  FMCG कंपनी हिंदुस्‍तान यूनिलीवर लिमिटेड यानी HUL का मानना है कि महंगाई की आग अभी शांत नहीं होने वाली है. मुद्रास्‍फीति दबाव अगले कुछ और महीनों तक बना रहेगा… इससे कंपनियों और ग्राहकों दोनों के लिए वातावरण चुनौतीपूर्ण रहेगा. इस चुनौती से उपभोक्‍ताओं को राहत दिलाने के लिए HUL ब्रिज पैक रणनीति पर काम कर रही है. आइए सबसे पहले समझ लेते हैं आखिर ये ब्रिज पैक रणनीति आखिर है क्‍या.

ब्रिज पैक रणनीति के तहत कंपनी अपने सबसे ज्‍यादा और सबसे कम कीमत वाले उत्‍पादों के बीच की श्रेणी के उत्‍पाद लेकर आएगी. इस रणनीति से कंपनी और उपभोक्‍ता दोनों को फायदा होगा. उपभोक्‍ताओं को बेहतर मूल्‍य मिलेगा और वे अपेक्षाकृत कम दाम पर भी अच्‍छे ब्रांड के उत्‍पाद खरीद सकेंगे तो दूसरी ओर कंपनी की बिक्री अधिक होगी और  ग्राहक आधार भी बढ़ाने में मदद मिलेगी. इसके अलावा निर्माता और विक्रेता के तौर पर भी कंपनी को बेहतर मू्ल्य मिलेगा.

कंपनी के पोर्टफोलियो के कुछ हिस्सों पर असर पड़ा

इतना ही नहीं इस रणनीति के तहत कंपनी एक ओर जहां बचत पर जोर देना जारी रखेगी, वहीं दूसरी ओर क्रमिक मूल्यवृद्धि भी करेगी. बढ़ती महंगाई के इस दौर में कंपनी उपभोक्‍ताओं को राहत देने के लिए जल्‍द ही अपने सभी प्रोडक्‍ट कैटेगरी में ब्रिज पैक रणनीति लागू करने की योजना बना रही है. HUL के CFO रीतेश तिवारी का कहना है कि उत्पादन लागत से जुड़ी मुद्रास्फीति के उच्चस्तर पर पहुंचने से कंपनी के पोर्टफोलियो के कुछ हिस्सों पर असर पड़ा है. ऐसी स्थिति में कंपनी अपने लिए सही कीमत और मूल्य समीकरण बनाने के लिए ब्रिज पैक बना रही है. इससे महंगाई के इस दौर में उपभोक्ता आधार को बढ़ाने में मदद मिलेगी.
HUL का मानना है कि निकट भविष्य में उसका परिचालन वातावरण चुनौतीपूर्ण बना रहेगा. कंपनी को महंगाई और बढ़ने की आशंका है. कंपनी का कहना है कि वह सोच-विचार कर अपने उत्‍पादों के दाम बढ़ाएगी. कंपनी का ये भी कहना है कि कीमत और लागत का अंतर बढ़ने पर उसके मार्जिन में भी गिरावट आ सकती है. इसी चुनौती से निपटने के लिए कंपनी ने ‘ब्रिज पैक’ रणनीति पर काम करना शुरू किया है.

साबुन का नया पैक पेश किया

उदाहरण के तौर पर…. HUL ने हाल ही में 16 रुपए की कीमत में लाइफबॉय साबुन का नया पैक पेश किया है. यह पैक लाइफबॉय के मौजूदा 10 रुपए और 36 रुपए कीमत वाले पैक के बीच जो अंतर है, उसे भरने का काम करेगा.
अभूतपूर्व महंगाई के इस दौर में उपभोक्‍ताओं को राहत देने के लिए कंपनी ब्रिज पैक बना रही है ताकि ग्राहकों को उचित दाम पर उत्‍पाद उपलब्‍ध कराए जा सकें. HUL साबुन बनाने के लिए इस्‍तेमाल होने वाले पाम ऑयल के विकल्‍प भी तलाश रही है ताकि महंगे पाम ऑयल से साबुन को महंगा होने से बचाया जा सके. वित्‍त वर्ष 2021-22 में कंपनी का टर्न-ओवर 50,000 करोड़ रुपए से ज्‍यादा रहा है.

वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें 

https://www.youtube.com/watch?v=twfkNSeDu8E

पर्सनल फाइनेंस पर ताजा अपडेट के लिए करें।