जानिए Active Vs Passive म्युचूअल फंड में आपके लिए कौन सा है सही

मॉर्निंग स्टार के इंडिया रिपोर्ट में पता चलता है कि मार्च 2020 से मई 2021 में हर 10 में 8 बार पैसिव फंड का रिटर्न एक्टिव फंड से बेहतर रहा है.

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - September 18, 2021 / 01:56 PM IST


म्यूचुअल फंड्स (Mutual Fund) में निवेश करनेवालों के सामने दो इंवेस्टमेंट के तरीके हैं – एक्टिव और पैसिव  म्यूचुअल फंड (Mutual Fund). इन दोनों तरीकों में बेहतर कौन है इसपर लंबी बहस होती रही है. लेकिन पिछले तीन साल की बात करें तो पैसिव फंड्स रेस में आगे दिख रहें हैं. पैसिव फंड्स के AUM में केवल एक साल में 108% की बढ़त रही. मार्च 2020 में जहां इनमें 1,48,038 करोड़ का निवेश हुआ था वही मई 2021 में ये बढ़कर 3,07,886 करोड़ हो गया. मॉर्निंग स्टार के इंडिया रिपोर्ट में पता चलता है कि मार्च 2020 से मई 2021 में हर 10 में 8 बार पैसिव फंड का रिटर्न एक्टिव फंड से बेहतर रहा है. SRE Wealthके फाउंडर और CEO कीर्तन ए शाह कहते हैं कि जब भी बाजार गिरावट के दौर का सामना करते हैं पैसिव फंंड में निवेश करने वाले फायदे में रहते हैं.

क्या होते हैं एक्टिव और पैसिव फंड ?

एक्टिव फंड्स में पैसों को किस समय और किन विकल्पों में या कौन से शेयरों में निवेश करना है ये फंड हाउस का मैनेजर तय करता है. इसलिए इसे एक्टिवली मैनेज्ड फंड कहा जाता है. मार्केट ट्रेंड से लेकर बेंचमार्क इंडेक्स पर काफी रिसर्च के आधार पर फंड मैनेजर फंड को शेप देते हैं. एक्टिव रूप से मैनेज किए जाने वाले फंड्स पर अधिक चार्ज लगता है जिसे एक्सपेंस रेशयो कहा जाता है. पैसिव फंड अपने नाम की तरह ही Passively Managed होते हैं.एक चुने हुए बेंचमार्क इंडेक्स के आधार पर ये फंड काम करते हैं. इंडेक्स में शामिल शेयरों का जो रेश्यो होता है उसी तरह इनमें निवेश होता है.ये फंड सीधे इंडेक्स के मूवमेंट को मैप करते हैं. एक्टिव मैनेजमेंट ना होने से पैसिव फंड का कॉस्ट कम रहता है. इंडेक्स और ETF पैसिव फंड होते हैं.

हमें फॉलो करें

(मार्केट अपडेट और जाने अमीर कैसे बने सिर्फ आपके Money9 हिंदी पर)

लेटेस्ट वीडियो

Money9 विशेष