होम लोन ईएमआई कैलकुलेटर

0 2 Cr
1 30
5 20
15,399
25,00,000
10,11,011
35,11,011

FAQs

  • होम लोन कैलकुलेटर क्या है?

    मनी9 होम लोन कैलकुलेटर से आप आसानी से अपने होम लोन की मासिक किस्त पता कर सकते हैं. इस होम लोन कैलकुलेटर से आप अपने होम लोन के खत्म होने तक चुकाए जाने वाले मूलधन और ब्याज को भी जान सकते हैं. जो लोग घर खरीदना चाहते हैं और इसके लिए लोन लेने की सोच रहे हैं वे इस कैलकुलेटर के जरिए होम लोन लेने से पहले ही अपनी जेब पर पड़ने वाले बोझ का अंदाजा लगा सकते हैं और इससे उन्हें बेहतर फैसला करने में मदद मिलेगी. अपनी EMI का पता लगाने के लिए आपको बस होम लोन अमाउंट, ब्याज दर और टेन्योर को दर्ज करना पड़ेगा. होम लोन की दरें 6.5% से शुरू हो रही हैं. आपकी होम लोन लेने की एलिजिबिलिटी आपकी आमदनी और रीपेमेंट कैपेसिटी पर निर्भर करती है. अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा है तो आपको कम ब्याज दर पर होम लोन मिल सकता है. ऐसे में अगर आप होम लोन की सोच रहे हैं और आपको इसकी EMI का अंदाजा नहीं है तो मनी9 होम लोन कैलकुलेटर का इस्तेमाल करें.

  • होम लोन EMI कैलकुलेटर का कैसे इस्तेमाल करें?

    होम लोन EMI कैलकुलेटर से आपको अपनी मासिक किस्त का पता लगाने में मदद मिलती है. इससे आप लोन मिलने से पहले ही ये जान सकते हैं कि आपको हर महीने लोन पर कितना पैसा चुकाना होगा और कहीं इससे आपके घर का बजट गड़बड़ा तो नहीं जाएगा. होम लोन EMI कैलकुलेटर का इस्तेमाल करना आसान है और ये चुटकियों में आपको लोन की EMI बता देता है. आप जितना लोन लेना चाहते हैं वो रकम, ब्याज दर और लोन की अवधि को इसमें दर्ज कर अपनी EMI जान सकते हैं. मनी9 होम लोन कैलकुलेटर आपकी होम लोन EMI के आकलन की मुश्किल को दूर करता है. होम लोन की दरें 6.5% से शुरू हो रही हैं. आपकी होम लोन लेने की एलिजिबिलिटी आपकी आमदनी और रीपेमेंट कैपेसिटी पर निर्भर करती है. अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा है तो आपको कम ब्याज दर पर होम लोन मिल सकता है.

  • मुझे होम लोन EMI कैलकुलेटर क्यों इस्तेमाल करना चाहिए?

    होम लोन कैलकुलेट एक ऐसा जरूरी टूल है जो कि आपको अपने सपनों का घर लेने में मदद मुहैया कराता है. इसके जरिए आप लोन लेने के बाद आने वाली EMI को पहले ही समझ सकते हैं और अपने लिए सही लोन अमाउंट और बेहतर ऑफर वाला वित्तीय संस्थान भी चुन सकते हैं. हर बैंक होम लोन पर अलग-अलग ब्याज दर लेता है. लोन की ब्याज दर आपकी आमदनी, क्रेडिट स्कोर और दूसरी लाइबिलिटीज पर निर्भर करती है. इन्हीं फैक्टर्स के आधार पर लोन की रकम भी तय होती है. होम लोन कैलकुलेटर आपको अपनी मर्जी से लोन अमाउंट कम-ज्यादा करने की इजाजत देता है और इस तरह से आप अपनी EMI को अपने बजट में रख पाने में सफल होते हैं. अगर आप घर खरीदने की सोच रहे हैं तो ये कैलकुलेटर आपको भविष्य के वित्तीय दायित्वों की जानकारी देता है. बैंक में अपने लोन का आवेदन देने और लोन पारित होने से पहले आप इस कैलकुलेटर के जरिए ज्यादा समझदारी भरा फैसला ले सकते हैं.

  • होम लोन EMI पर किन फैक्टर्स का असर पड़ता है?

    अपना घर खरीदना हर किसी का एक सपना होता है. आसानी से मिलने वाले कर्ज और बैंकिंग सेक्टर में मारामारी के चलते आपको कम ब्याज और दूसरे ऑफर्स भी मिल जाते हैं. क्रेडिट स्कोर से लेकर आपके जॉब प्रोफाइल, आपकी कमाई और मौजूदा लाइबिलिटीज जैसे कई फैक्टर्स आपके होम लोन की EMI को तय करते हैं. उधार लेने वाले फिक्स्ड और फ्लोटिंग दो तरह के लोन में से चुनाव कर सकते हैं. फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट्स रेपो रेट से लिंक्ड होते हैं. रेपो रेट यानी जिस दर पर बैंक RBI से लोन लेते हैं. अगर RBI रेपो रेट घटाता है तो होम लोन की दरें भी कम हो जाती हैं और रेपो रेट बढ़ने पर दरें भी बढ़ती हैं. फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट में आपको अपने लोन टेन्योर के पूरे वक्त उसी रेट पर कर्ज चुकाना होता है. क्रेडिट स्कोर भी होम लोन लेने वालों के लिए बेहद जरूरी होता है. क्रेडिट स्कोर से आपके कर्ज लेने की हैसियत का पता चलता है. कम क्रेडिट स्कोर यानी कि आपका क्रेडिट रिस्क ज्यादा है और ऐसे में बैंक आपसे ज्यादा ब्याज दर ले सकता है.

  • होम लोन एमॉर्टाइजेशन शेड्यूल क्या है?

    होम लोन एमॉर्टाइजेशन शेड्यूल एक टेबल होती है जिससे आपके पीरियॉडिक लोन पेमेंट्स का पता चलता है. इसमें मूलधन और ब्याज भी शामिल होता है. इस टेबल में पूरे लोन टेन्योर के लिए मूलधन और ब्याज हर किस्त के हिसाब से दर्ज होता है. होम लोन एमॉर्टाइजेशन शेड्यूल से आपको पूरे लोन टेन्योर के दौरान हर किस्त में गए मूलधन और ब्याज का पता चलता है. साथ ही इसका लोन का बैलेंस भी पता चलता है. सीधे शब्दों में कहा जाए तो एमॉर्टाइजेशन शेड्यूल आपके होम लोन को चुकाने का एक रोडमैप होता है. शुरुआती किस्तों में ज्यादा पैसा ब्याज के तौर पर जाता है. जबकि बाद में ब्याज के तौर पर कम और मूलधन के तौर पर ज्यादा पैसा जाता है. इसमें इंस्टॉलमेंट का नंबर, तय तारीख, ओपनिंग प्रिंसिपल, इंस्टॉलमेंट अमाउंट, किस्त का प्रिंसिपल कंपोनेंट, किस्त का ब्याज कंपोनेंट, क्लोजिंग मूलधन और सालाना ब्याज दर शामिल होती है. ऐसे में अपने होम लोन के बारे में एक समझबूझ भरा फैसला करने के लिए एमॉर्टाइजेशन शेड्यूल को जानना जरूरी है.

  • मनी9 होम लोन कैलकुलेटर क्यों चुनें?

    घर खरीदना हर किसी के लिए एक बड़ा फैसला होता है और चूंकि इसमें बैंक से काफी पैसा लोन पर लेना पड़ता है, ऐसे में हर कोई एक अच्छी डील हासिल करना चाहता है. ऐसे में होम लोन से पहले आपको अच्छी तरह से रिसर्च करना चाहिए. होम लोन देने में हर बैंक अलग रेट्स और शर्तें रखते हैं. एक प्लेटफॉर्म के तौर पर मनी9 आपको आसान तरीके से खुद को वित्तीय रूप से समझदार बनाने और आगे बढ़ने में मदद देता है. साथ ही इसमें बैंकों से लोन लेने में आपको भारी-भरकम और टेक्निकल शब्दों में फंसाया नहीं जाता. मनी9 होम लोन कैलकुलेटर आपकी सहूलियत के मुताबिक ब्याज दर का आकलन करने में मदद देता है. अच्छी ब्याज दर के साथ अपने सपनों के घर को खरीदने के काम में आपको इससे मदद मिलती है.

सीखें-कमाएं

Money9 विशेष